Bhai aur behan ki indian desi sex story

yeh sex kahani mere aur mere cousin ke bich main chudai ki hai. Humara chudai Chhat pe hua tha.Mera nam hai Pooja aur meri haight hai 5ft 5inch, rang gora, figure kaafi hot aur chudaiy hai. Cousin ka naam Rajiv age 19 saal just barahvi pass ki thi, n haight 5 ft 9 inch and Land 6.5 inch. Mere ghar main 3 floor plus Chhat hai. Ghar main din ke time almost sabb log sabse neeche waale floor pe rehte hai. Chat par ek chotta sa jhula hai jispe 3 log beth sakte hai aur ek chota sa multipurpose kamra hai.Jaisa ki aapne meri pichli kahaani main para hoga ki Rajiv mujhey alredy chod chuka tha toh ab uske mann main kaafi tharak thi aur vo firse chudai karna chahta tha. Humne plan kar liya tha ki hum kab aur kaha chudai karenge.

Toh chudai pe aate hai:-

Samay tha khane ke baad ka jab zyadatar log gahri nind me so rhe the ya neeche kaam kar rhe the, main aur Rajiv mauka dekh kar chat par aa gye the. Maine salwar aur suit pehna tha lal rang ka aur usne jeans aur t shirt pehni thi. Rajiv ne mujhey tanki se chipka diya aur mere boobs zor zor se dabaane laga. Uske baad usne mujhey bahoot hi jyada jor se gale lagaya aur mere boobs apni chaati se daba diye. Hug karte karte hi usne ek zor se chata mara mere hips pe, Aaahhh , Aur firse mara, Dono hips pe kareeb 10 10 baar mar diya,Uske baad kyaa bataun dost usne mere hotho ko choomna shuru kiya, Mere hoth pakar kar apne hotho se kheechna shuru kiya, Mujhey bahoot hi jyada maza aa rha tha, Abhi uska left hand mera chootad daba rha tha aur uska left hand mere right nipple ko kheech rha tha,Aaaahhh Hmmm, Uske bad vo jhoole pe beth gya, Maine uske jeans pe bahar se hi kiss kiya,Fir usne zip kholi aur uska mota Land bahar nikal liya, Kiss kiya pehle Land pe aur fir muh main le liya pura ander tak, Land sirf 5.5 inch hone ke karan main araam se deep gale kar paa rhi thi, Uske baad usne apna Land muh main zor zor se ghusane laga aur mere baal pakar kar mujhe aage pichekarne laga,Uske bad usne mere mooh se Land nikal kar mere muh pe apne Land se thappar maare, Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad raahe hai.Uske baad hum dono chatt pe jo kamra tha vaha chale gye, Vo kamra ek dum khaali tha bas ek chota sa bulb tha vha aur ek table rakhi thi, Humne fir se choomnaa kiya, Uske baad Rajiv ne mujhey kiss karte hue pura nanga kar diya aur maine use,Hum dono nange the aur ek dusre se chipaak rhe the, Uske baad maine Rajiv ko table par letne ko kaha , Uske pair neeche the aur dhar table par tha, Aur Land ek dum khara hua straight,Fir uske Land ko kiss kiya aur fir apne dono boobs ko side se dabaane lagaa aur fir uska Land dono ke bich main lekar aayi,Aur fir maine apne boobs ke bich main uske Land ko hilaya, Apne boobs ko uppar neeche kiya jis se uske Land ko chudai ki feeling aa rhe thi, Har baar jab boobs ko pura neeche le jaati tab uske Land ka tip pe jeeb lagati, Vo bahoot hi jyada zyada garama ho gya aur 5 min main mere uppar cum kar diya, Thora sa mere muh main gya aur thora sa boobs pe gir gya,

Uske baad ab baari thi chudai ki, Maine uske Land Condom pe honey kaa flavor ka aur do baar chaat diya taaki thora lubricant ho jaye, Uske baad :-
Rajiv:- didi aaj main aapki chut nhi maarna chahta,
Me:- kyu? Tumne toh mujhey kuch maza diya hi nhi,
Rajiv:- aaj main aapke ass ko mza dunga,
Ye kehte kehte hi usne mujhey palat diya aur table pe lean kara diya, Abhi main ulti table par lean thi aur pair neche the jamin par, Fir usne apne pair se mere pair tore kiska kar chaure kar diye, Maine usse gaandh main ghusane se mana kiya kyuki kuch lubricant nhi tha aur bina uske bahoot hi jyada dard hota hai, Par vo bilkul nhi sun rha tha aur mere hips pe thappar maarne shuru kar diya, Mere hips pe uske haatho ke nishaan ho gye the, Jaisa ki usne btaya,Usne mere gaand pe thook dala aur agra par vo bhi lubricant ke liye kaafi kam hai, Uske baad usne condom utara aur mere muh main hi ghusa diya,. Vo janwar bann gya tha, Mujhey darr lag rha tha aur rona aa rha tha, Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad raahe hai.Usne Land ghusane ki koshish ki par nhi ghusa par mujhey bahoot hi jyada dard hone laga tha, Aur main ro rhi thi aur halka sa chilla rhi thi , Tabhi usne me neeche se meri pent uthayi aur puri muh me ghusa di taaki awaaz nhi aaye, Mere haath usne pakar rakhe the, Aur tabhi ek dum se usne pure jor se laga kar zor se Land gandh main ghusa diya, main chillayi par awaaz nhi aayi bahut dard ho rha tha, Usne lagataar kiya, Kareeb 7-8 push main usne sperms mere ass main chor diye ,Uske baad jab uska Land dekha tab mera kaafi khun uske Land pe laga tha aur thori si potty bhi,. Mere hips mujhe bahoot hi jyada dard ho raha tha, Uske baad hum dono ne kapre pehne usne mujhey kiss kiya aur sorry bola aur fir vo mujhey mere kamre main chorkar chala gya, Maine thoda apna blood ko saaf kiya aur so gyi,Kaisi lagi meri bhai ke saath sex ki kahani ..ascha lage to share karo .. agar kisine meri chikni chut me mota lund daal kar chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/PoojaKumari

Indian sex story - Chikni chut wali naukrani ki chudai

mere maid ki umar 28 saal hai uska nam Gauri hai or wo bahut sexy hai wo hamare society ke bagal wale jhopadptti may rahti hai wo hamare yeha 5 month say kam par hai wo diknemai bahot sexy hai or uski saree pehnne ki style bhi sexy hai dekhar kisi ka bhi kada ho jaye asi hai wo ..mere maid badi hi hot dikhti hai kyuon saree ekdam kastha type ghutno tak hi hai or uski choli bhi choti hai uski saree bahut niche hoti hai kamar par ek chain, hath mai chudia adha dikhta bra age bikhre huwe baal uske boobs par say hamesha lehera te usko dekhkar lagta tha ki wo roj 10 logo ke sath sex karti hongi

Usko pehli bar jab maine dekhauska fan ho, gaya mere family mai mai mere behen or sirf maa hai dad ki deth ho,gayi toh maa roj,office jati hai didi hamesha baher rehti hai study ke liye or may idher udhar bhatkta rahta hu dosto ke sathJaise hi Gauri hamare ghar ayi wese maine baher jana band kar diya or wo bas ussi time ati thi jab maa.Or didi ghar par na ho uske pass hamare ghar ki chabi rahti thi ek din may mere room say kechan dekhti hai toh mai uski gand ko wo jab bassing ke pass jati thi tab dekhta tha or mobile mai uski video pictures nikalwa kar muth marta tha esa 3month say ho raha tha par mujhe himmat, nahi,thi ki usko ja kar jakad lu ek bar mai dosto,ke sath ganja pi kar ghara lotaKyaa bataun dost us din maine bahut hangover huwa tha maine ghar lotte waqt nashe may ek plan banaya ki aaj Gauri ko,chodne ka hi,hai,mai ghar aya darwaja khola andar nahaya Gauri ko ywad kar muth marne laga Gauri Gauri kehkar lakin mujhe ganje ke nashe may bhul gaya ki bathroom ka darwaja band karne may mujhe jab yaad aya toh maine darwaja band karne gaya toh waha Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Gauri mujhe chup kar dekhrahi thi jaise hi,usne mujge or maine use deha toh wo bhagi mai uske samne naked gaya tha mujhe nahne ke baad nashe ka asar thoda kam ho,gaya mujhe ab ghabrahat or bachani hone lagi ki,may jab muth marte waqt Gauri Gauri kah raha tha tab usne mujhe dekha ..Ab wo kam cgod dengi tog mere usko chodne ka sapna kabhi pura nahi honga …Maine towel pehna wo tab chai bana rahi thi kchen ke samne say gujar te waqt maine use dekha wo kechen ke farsh par gand laga kar mere tarf dekh rahi thi uski,najar aysi thi ki jayse wo mere randi ho may room may gaya tab tak wo chai le kar room mai aye or boli Rohit chai maine kaha tebal pe rakho or mere bed saf karke jao wo bed saff kar rahi thi,may tayar ho raha tha,may,mirror say usko bed saf karte waqt uski,gand,boobs dekh raha tha abhi bhi may towel par ki tha mera lund kada hogaya tha achanak mera towel niche gir gaya or may nanga ho gaya tabhi Gauri,

E dekha ki,mera lund kada ho gaya hai mai thoda,ghabra,gaya towel uthane ko nich jhuka tabhi usne towel le kar khicha maine kaha,’yeh kya hai Gauri,mujhe towel do”usne kaha,mujhsay tum abhi batche ho,maine towel khicha or wo haste huwe chali,gayi, mai nefatafat kapade pehne or kechen ke pass gaya wo kechen say baher khidki ke pass khadi thi wo jhuk kar chai,pi rahi thi uski maine himmat kar dhire dhite uske piche gaya,or udki,gand pakad li usne piche dekha or mai ab ghabraya tha usne kaha Rohit kya kar rahe ho maine kuchnahi kaha mai shatminda tha lakin mujhe abhi tak yaad nahi tha ki,mera hath uske kamar par hai usne kaha Rohit fir say karo na or hasne lagi ..,Ab mai kush ho gaya mujhe ye conform hogaya ki Gauri 100°/• randi hai ,.Wo,phir say kutia ke taraha gand karle chai pi,ne lagiAb mai jarabhi nahi hich -khichaya,or phirse ja kar uski kamarpar hath rakh kar apni,kar uski gand,ko chipakai jaise hi,mayne uski,fand par apne jangh rakhi wase mera,lund 2 second may bada hokar uske gand ko sari ke upar say dhake dene laga maine kaha Gauri i,love u .,Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Ye sab sirf 5 second ke ander huwa usne kuchnahi kaha wo uthi sir mod kar thik say kadhi ho kar apni jibh,mujhe dikha kar aaahha Rohit,kahne lagi or hath piche kar mere gand par hath rakha mai samjha gaya,ki usko kya chahia maine jhat say piche gaya or resh ma sida ho gayi uske hath day chai gir gaye usne mujhe kiss kiya or kaha ki, aaj tumhari maa jaldi say ani hai ham wali hai ham log kal karte haina,mujhe chodo na,Maine usay jakad lika tha wo,kehne lagi koi,aa raha hai maine nahi,suna uski gardan chumne laga wo mujhe chode ne ka bahut prayas kar rahi thi lakin mayne usay jor say jakad liya tha tabhi samne say mom ayeusne ham dono ko,dekha or bus dekhti,hi rah gayi mere toh full fath gayi resh maa bhag gayi mom,bas mere ko dekh rahi thi mera chehra bahut sad hoga tha mujhe laha,mom marengi ,datengi lakin asa nahi,huwa momne normal aawaj may roj ki taraha kaha good evening beta maine chyp tha mom ne kaha are bolte q nahi aaj gaye the na admition ke liye may ne kaha ha woo kaal bulaya hai mujhe yakin nahi huwa ki momne Gauri ko mere baho me dekha,lajin kuch bhi,nahi boli

Mujhe laga ki usko, kuch samajh nahi,aa raha honga maine wo sochna,band kar diya,mujhe laga ki,mom meri,har jarurate pura karti hai toh wo chahti hongi mai meri yeh jarurat bhi puri ho jaye isliye kuch nahi boli hongi raat hogai hamlog khane ke baad tv dekhkar mai baad mai teres pe ja kar ganja,pi kar fir niche aa kar so,gaya subha,mai der say utha 12pm koTab maa office chali gayi or didi college ja rahi thi may Gauri ka intjar kar kar 2baar muth mar gaya lakin Gauri,nahi ayi maine maa,ko ye sab malum hone ke bavjud msine maa,ko call karke Gauri,ko,ghar bulne ko,kaha,call karne ke baad Gauri bahut der say aye maine firsay jhatpat baharsay ganja pi kar aya Gauri pehle mere kamre may jhadu laga rahi thi maine bahar say deka or amdar ja kar darwaja,band kar diya usne ghabrakar dekha or mere pass aa gayi oe kaha darvaja kholo mujhe meri nokri nahi gavani iss chakkar mai ham garib hai hame kamki jarurat hai tumhare maa,e mujhe ek bar maf kiya hai yehi unki rehm dili hai nahi toh dosro ke idhar hoti toh dhake mar kar nikala hotaMaine uska hath pakada or usko yeh jhut bola ki maa ne jab mujhe pucha tab maine unsay kaha,ki Gauri ke gardan par .kida tha or wo chilla rahi thi toh maine nikal raha, tha bass or mom kuch,nahi boli or boli acha thike hai
Tum mat daro maibe usay bed par bithaya mujhe nasha chadj gaya tha mera lund tight ho,gaya,usne mujhe kiss,kiya,mine uski gang davane,Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.laga usko coli ka huk nikala or iske boobs nipal chusne laga Gauri ke muh say mmssssaaaMai uske boobs chat raha tha or wo meri paint,ka belt nikal rahi thi usne fir maine mera shirt nikala paint nikali or usay fir say hug kiya usne mujhe kaha ki,mere gand ko apna lund lagao uski choli nahi thi lakin iski niche sadi thi maai saree niche lene laga usne kaha mujhe saree parhi chodo pehele lund lagao wo dog style mai bath gayi or apni gand age,pich age piche kuto ki taraha harkat karne lagi uske muh say nashili,avaaj nikal rahi,thi Rohit sssaaaha chodona maine uske piche ja kar apna lund hath mai,pakkadkar uske saree mai ghusa diya mera lund,saree,ke sath hi uske dono gubaro ke andar gaya,maine kaha oh wow rehma tumhe kitna kuch pata hai usne kaha pagle mai bhi,ek college student thi,meri,love marriage huwi thi mera pati mujhe roj naye naye expiriment kar chodta tha

Lakin ab nine year ho gaye mujhe kisine nahi choda ab tumhi mere pati ki taraha chodna mai ne kaha Gauri saree par tumhari gand mujhe achesay feel ho rahi thi tumhara pati hu may lakin sirf tumhe chod sakta hu tum maine naukrani ki saree niche khichi uske chut par ek bhi chota sa bhi baal nahi tha ek dam 13 saal ki bachi ki taraha thi wo oli dekho ba Rohit nine year ho gaye abhi tak kisika bhi lund andar nahi gaya.Mujhe kisne nahi,choda tum mujhe pasand aye maine uski chut dekhkar pagal huwa or uski chut upar say chatne laga usne kaha, chat mere raja mujhe pura kha jao aaj uska itna exceted dekh kar mai or char ho gaya maine usko,apna lund muh may lane ke liye kaha usne mujhe dhakka dekar bed pe giraya mere upar lete mujhe kiss kar ke gardan chati pet chatti huwi niche jati huwi fir lund ke upar usne halka sa test lete huwe jibh lagayi or Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.fir mere taraf akho mai aakh dal kar niragas hasne lagi jayse jindgi,ki sari,khusia usay,mili,ho usne lund lar fir say jibh laga kar gol gol ghuma kar muh,mai,liya or mere chum bhi.kaisi kagi naukrani ki chudai.. ascha lage to share karo .. agar kisine hamare naukrani ke saath sex karna chahte ho to add karo Facebook.com/GouriSharma

Dost ki sister ki chudai story

Ye behan ki sex story jo hai wo mere ek dost ki bahan (Shaulu) ki hai jo mere hi ghar ke paas me rahti akele apne bete k sath aur uska bhai Dubahi me rahta ha… Shaulu ko koi bhi help chahiye hoti hai chahe jo bhi ho to muhe hi call karti h kisi bhi samay, aur main bhi uska help karne ke liye taiyaar rahta hu… main pahle kabhi uske bare me kabhi bhi aisa nahi sochta tha lekin kyaa karen doston man to fisal hi jaata hai… ek din mere friend kaa phone aaya ki didi tumhara phone try kar rahi hai par lag nahi raha tum atbhi didi se bat kar lo unki tabiyat sahi nahi hai… Jab maine unko call ki to wo boli thoda sir me dard ho raha hai medicine chahiye to main turan hi medicine lekar ghar pahuch gaya maine medicine di fir maine bola agar aap kaho to mai aapko sir ki maalish kar deta hu to usne ha kar di aur boli yaha rishabh unkaa beta jo ki 5 yr ka hai so raha hain dusre kamre m chalet hain nahi to jag jayega to mujhe phir se pareshan karega maine bola jaisa ap kaho…
Ham dono dusre room me aa gaye wo phir sofe par baith gayi wo badi hi hot lag rahi thi phir maine unkp mast sir ki maalish karni shuru ki jab mai unke sir ki champi kar raha tha to wo ankh band karke baithi thi to mai khade hokar champi kar raha tha meri nazar ek dam se unke tight tight boobs par pad gayi kya mast look aa raha tha mai dhire dhire sir ki maalish karta raha aur unka cleavage dekhta raha aur thodi der bad pucha kaisa lag raha h to unhone bola ab kuch better hai aur sir kaa dard kam ho raha hai…Fir Shalu bili ki mai aapke liye chai banati hu fir done ek saath pite hain maine kaha nahi main banata hu aap aaram karo, wo phir ankh band kiye sofe par leti rahi main unke liye Tea banana samne open kitchen main gaya waha se main unke cleavage ko dekh raha tha aur ek hath s apna land pant k upar se hi sahla raha tha jo ki kafi der se khada tha… Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Main jab apne land ko sahla raha tha to dekha to wo mujhe dekh rahi thi fir jaise hi hamari najre mili unhone ankhe band kar li mai samajh gaya dard sar main nahi kahi aur h fir tab tak Tea ban gai maine ek unko di aur bagal main baith kar mai bhi Tea pine laga…Tabhi wo achanak boli Ranvir mai tumko faltu main pareshan karti rahti hu maine kaha nahi apka haq h aur yaha apka koi h bhi nahi… Wo bat kat kar bich main boli ye to sahi kah rahe ho koi nahi h mera yaha aur smile karte hue hans padi mai bhi hasa aur bola nahi main hu na…Shaulu- hmm tum ho to but har kam nahi bol sakti na tumse kahi tumne kuch otherwise le liya to mere jo kam kam ho jate h wo bhi nahi ho payenge…main- ap koi bhi kam ho bata diya kariye mujhe fark nahi padta apke ye kam to hote hi rahenge aur mai try karunga apko pareshani na ho…Tea khatm karke main ghar chala aya mujhe kuch office work karna tha rat 11:30 mere main msg aya

Shaulu- hi, so gaye kya

main- nahi abhi nahi aur ap kyu jag rahe ho abhi tak

Shaulu- kya batau jab se champi karai h mera to dobara karane ka man karne laga h infact mujhe lagta h tum mere pas raho aur champi karte raho

main- oho itni achi tarah se unki seva ki maine …… For ur information m maalish bhi kafi acha karta hu…

Shaulu- are bataya nahi tumne kabhi cheater kahi k……Wasie kisi ladies k kiya h maalish tumne

main- ha kai ladies k kar chukka hu aur kal apke bhi kar du agar ap kaho to……

Shaulu- ok done…… But kal nahi abhi karna ho to aao……

main- (mauka gawaye bina) thik h ata hu but itni rat m aunga to fees lagegi…

Shaulu- aao to jo fees chaho m dungi

Mai pandrah minutE bad unke ghar pahuch gaya aur unke kiya to awaz ayi tumhare liye sare darwaze khule hai aa jao… phir mai jaise hi unke ghar ke andar gaya wo mast sext nighty pahne khadi thi. main jab dekha to dekhta hi rah gaya. Shalu boli aao aao aise kya ghur kar dekh rahe ho mai phir aage badha aur uske bagal me hi jakar khada ho gaya. maine kaha itni rat m bulane ki wajah wo boli mujhe aaaj sirf maalish maalish maalish sari rat maalish karwani hai… Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Batao tum taiyar ho ankh marte hue boli maine kaha mai to hamesha taiyar rahta hu…phir kyaa bataun doston maine unki aisi maalish kari uss din ki maine unke boobs ko khoob dayaya, gaand me tel lagaya, phir karib do ghante baad wo mujhe boli ab chhodo sab kuchh meri chudai karo, aur phir to mat puchho iske aage, wo itni chudakkad nikli ko wo puri raat mujhse chudwaate rahi, mujhe kaafi majaa aaya aur aage bhi roj roj majaa le raha hu, aapko meri ye kahani kaisi lagi jaroor batayne.kaisi lagi meri dost ki sister ki chudai .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri dost ki sister ke saath sex karna chahte ho to add karo Facebook.com/ShauluSharma

Indian desi rendi ki mast chudai

Ye Desi chudai ki story hai wo do mahine purani hai, maine tab tak ek bar bhi chudai nahi kia tha, man to bahut karta tha par kabhi moka nahi mila.. To ab story par aata hu…. Sunday ka din tha or mai araam se so raha tha ki achanak mere friend ka phone aya ki uski documents ki file ghar reh gayi hai or vo new delhi railway station pahuch gaya hai or use vo file bahut jaroori chahiye..To mai use dene gaya, subah 11 baje mai nikal gaya tha bahut garmi thi to maine socha car hi le jata hu.. lekin traffic milta isliye mai apni bike se hi chala gaya, jab mai vaha pahucha to mera poora face pasino se bhar gya tha kyon ki garmi hi itni thi..

Fir maine use file de di aur phir vo chala gaya, par mera man to ab vaapas jaane ka bilkul hi nahi tha kyuki garmi hi itni thi mujhe lag raha tha thoda der aaram kar lun.. Fir maine socha aaj tak maine sex to kia nahi hai to kyu na aaj main randi ke yaha jaakar gb road (road jaha par bahut kothe hai aur achha maal mil jaata jhai) jaya jaye..Par aise sookhe sookhe jaane mein to maza nahi aata to maine pehle do bottle beer pi or fir main vaha ke liye chal pada.. Gb road nai dilli railway station ke paas hi hai to maine bike vahi par parking hai khadi kar di or paidal jaane ki sochi..phir main wo sab kothe ke paas pahucha uss road par pahuchte hi maine dekha jagha jagha kotha numbers bhi likhe fir mai 64 number kothe ki aur chal pada kyon ki sab ke muh se suna tha ki wo bahoot hi achha hai aur vo government approved kotha hai vaha koi dar nai hai or dekha ki neeche hardware ki shops thi aur uper kothe the girls balcony mai khadi hokar customers bula rahi thi and attract kar rahi thi flying kiss de kr.Kyaa bataun doston. Mai jab khotha no.. 64 jo ki sabse mashoor hai pahucha or jaise hi stairs chhada to aisa laga jaise kisi gufa mai aa gaya hu bcoz vaha andhera hi itna tha aur purani stairs thi.. Neeche bhi ek hall type tha jisme kuch 30-45 age ki aurte baithi thi aur customers bula rahi thi par mai unhe ignore karke sidhi par chadne laga….. Vaha bahut se log bahar aa rahe the aur utne hi andar ja rahe the……. Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.andar kaafi bhid tha.Fir mai dusari manzil par gaya jaise hi andar pachuch maine dekha kya jannat thi neat n cleam jagha and it was full of nepali randia aur baaki saare indian hi the, bade ho hot looking thi saare.. aur bade hi hot hot dress me.Fir mai udhar nazar ghuma kar ek ek ladkiyaan dekh raha tha pasand karne k liye aur vaha to app jaoge to randia khud hi humse chipakne lagti hai vo bhi 1 nahi 3-3 aakar koi hamare gaal par kiss karegi koi humara lauda uper se pakdefi… Aisa hoga to koi bhi khood ko swarg mein feel karega …ye sahi hai aur mere sath bhi yahi hua …aur mera to khada ho gya mera kya sabka hi khada ho jayga.

Uske baad Fir maine dekha ki ek badi hi randi chup chap baithi thi or dikhne mein bahut hi jyada sundar lag rhi thi usne zada make up bhi nahi kia tha or fir bhi bahut sundar lag rahi thi..Uske baad maine ja kar uss se pucha ki kitne rupye logi to wo boli tin so bis.. Fir maine use tin so bis rupye diye or vo mujhe ek smile paas kar ke counter par chali gayi or mujhe kaha ki apna fone bhi jama kara do maine sochne laga to usne kaha ki daro mat sab safe hai yaha.. Fir maine fone jama kar dia or usne kaha ki aap upar chalo mai 1 min mein aati hu fir mai upar chala gaya jaha 7-8 chote chote rooms bane the..Fir 5 mint baad vo aa gyi or room khola or mujhe andar jaane ko kaha or fir khud bhi andar aa gyi or room andar se lock kar dia..Fir vo late gayi or boli tip nahi doge to maine kaha baby sab kuch milega wait to karo.. Fir maine kaha tum mere kapde utaaro or mai tumhare utaarta hu to vo raazi ho gayi..Mai uske chooch ko bhi hath laga raha tha kya chooch the uske kasam se yaar badi hi jabardast tight thi. ke to honge hi or gore chitte bahut soft.. Fir maine uski skirt bhi utaar di uski chut bilkul saaf thi clean shaved or bahut gori thi.. Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Fir usne mere kapde utaarne shuru kare pehle to tshirt utaari or fir jeans or underwear utaarte hi mera mota lauda ek dum se bahar aaya or vo dekh kar boli itni mota or bada.. Maine kaha han aaj yahi jayga apki chut mein..Vo randi hasne lagi or fir condom ka packet nikala or mere lauda par pehna dia..Fir wo randi late gayi or mai uske upar aa gaya.. Maine use ek smooch bhi di or uske chooch bhi piye…. Tab tak mera lauda bilkul tight ho chuka tha fir usne mera lauda pakad ke apni chut mein ghusa dia or mujhe gale karke late gayi.. Fir mai uss chodne laga or dhire dhire karke mai tez ho gaya or heavy heavy strokes marne laga vo chilla rahi thi “oooh aaah ummm hmm ummmm uffff aaaah chodo mujhe chodo or zor se aaaah uhhhh ufff aaaah” fir mai jhadne vala tha to usne apni chut tight kar li or mai jhad gaya uski chut mein hi..Mere viry jhadte hi usne mujhe ek lambi smooch di.. Or kaha use bhi bahut maza aaya… Fir hum turant khade ho gaye or apne apne kapde pehen liye or maine use promise kia aur uske hoth ko phir se choom kar bola ki next time bhi mai uske paas hi aunga or use paanch se rupye tip mein diye.. Fir maine bahar ja kr apna fone le lia or ghar chala gaya. ye chudai ki kahani aap mastkahani.com pe padh rahe the.kaisi lagi rendi ki chudai kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine indian rendi ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/PushpitaSharma

Sexy desi ladki ki chudai ki story

ye chudai ki story meri girlfriend Kavita ki hai Kavita ke bare me batata hun wo ek bahoot hi sundar aur hot ladki hai aur mai Kavita se bohat pyaar krta hun Kavita ke chooch ekdum gol hai aur uski gand bohat mast hai aur chut bohat saaf hai ye khani us time ki hai jab mai aur Kavita ek sath hotel me gye the aur phir waha hum dono hotel gye aur humne eh kamraa rent pe liya aur ham room ki taraf jane lege ham dono bahoot hi jyada khush aur excited the aur room me jate hi kavita aur main ek doosre se chipak gye aur phir paglo ki tarah kiss karne lege aur kiss karte karte mai Kavita ke chooch dabaa raha tha aur Kavita jaur jor se saans lene lagi wo kaafi hot ho gai thi. Kavita aur main ek dusre puri body pr hath pherne laga uski jeans ke upar se phir t shrirt ke upar upar se hi mai uski chut ko aur chooch ko maslne lga aur wo tadpne lagi phir maine Kavita ki eyes pr kapda bandh diya phir uska top utarne laga aur uske neck uske underarm ko chatne laga phir wo tadapne lagi
Maine uske bra ke upr se hi uske chooch ko dbane laga aur wo tadapne lagi aap ye kahani mastkahani.com par padh rahe hai phir maine uske gol gol bde bde chooch ko uski bra se azad kiya aur wo bahr akar meri taraf dekhne lage maine dono chooch ko hath me lekar maslne dbane laga phir ek chooch ko muh me lekar choosne laga aur dusre chooch ki nippal ko maslne laga muh me lekar jaur jor se choosne laga aur vo tadpne lagi usne meri jeans ko utara aur phir mere lund ko hath me lekar hilane lagi phir musne mere lund ko muh me lekar chosne lagi aur phir maine kavita ki jeans utari aur phir uski pantie ke upr se uski chut ko chatne laga aur wo pagl ho rhi thi .Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.phir maine uski pantie utari toh uski chut ekdum gili thi phir maine uski panties ko smell kiya usme se uski chut ki madhosh karne wali khushboo aa rhi thi maine uski pantie pe laga hua uski chut ka ras chatne laga aur chat ke saf kar diya aur ab kavita chut ki bari thi wo mujhe dekh kar tadap rhi thi phir maine usko bed pe letaya aur uski chut ko chatne laga jor jor se aur uski chut ko gila kar diya phir maine mast mast chocolate uski chut me dali aur chatne laga uski chut ka swaad bohat acha tha majaa aa gaya tha.Phir maine uski gand ke ched pe chocolate dal di aur chatne laga bohat der tak chatne ke baad wo mere lund ki taraf hath le gyi aur hilane lagi phir usne mere lund ko chocolate se pura cover kar diya aur dhire dhire chatna shuru kiya aur phir dhire dhire speed bdhai aur jor jor se lollypop ki tarah chatne lagi aur phir mera jhadne wala tha toh maine Kavita ko bola ki mera pani chutne wala hai toh usne kha mujhe tumhara juice pina hai aur wo jor jor se lund ko paglo ki tarah chosne lagi aur phir mai jhad gya uske muh me phir wo mera sara juice pi gyi phir humne sath me vodka piya

Uske baad kyaa bataun doston aur phir thodi der baad hum bed pr aa gye aur kissing karne lage thodi der me mera lund khda ho gya aur Kavita ko bhi chudwane ka man hone laga usne mera shorts utara aur apni tange utha kar chut ko mere lund ke pass le ayi aur ragadne lagi uski gili chut ki wajah se mera lund ander jane laga aur phir wo mere upr aa gyi aur pura lund Kavita ki chut me sma gya aur wo madhosh hokar chudwane lagi usne jor jor se apni gand utha utha kar chudwane lagi phir thodi der baad thakne ki wajah se wo mere chest pr hi late gyi phir maine usko niche kiya aur uske upr aa gya aur phir se chudai start ho gyi mera lund se thoda sa pani niklne laga .Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.maine Kavita se pucha tumhara ho gya wo boli abhi nhi hua.Maine Bahoot maje kiye phir se chodne laga aur wo ahhhh ummm uff aaah aacuh aahh ki awaj nikalne lagi phir maine usko doggy bana kar chodne laga aur wo mast hokar chudwane lagi phir mera aur uska pani chutne wala tha toh ham speed se chudai karne lge aur dono jhad gye maine apna sara pani Kavita ki chut me chhod diya aur wo bohat khush ho gyi.kyaa bataun doston mujhe bahoot majaa aaya tha apne girl friend ko chodne me, aapko meri ye kahani kaisi lagi jaoor batayen main jald hi dusri kahani mast kahani dot com pe post karne baala hu.kaisi lagi desi ladki ki chudai .. ascha lage to share karo .. agar kisine indian desi ladki ki chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/KavitaKumari

दामाद और सास की देसी रियल सेक्स कहानियाँ

ये मेरी सच्ची कहानी है,मेरा नाम कल्पना है, मैं मध्यप्रदेश से हु, मैं 38 साल की हु, मेरी एक बेटी है सुरुचि जो की २० साल की है, मैं उसको बहुत प्यार करती हु, मेरे पति नहीं है, वो फ़ौज में थे और वो शहीद हो गया जब सुरुचि १० साल की थी, मैंने अपनी ज़िंदगी का दस साल कैसे बिताया मैं आपको कह नहीं सकती मैंने कैसे कैसे जिल्लत झेले, सुरुचि की शादी पिछले साल ही कर दी मैंने, सच पूछिए तो वो खुद से ही की अपने बॉय फ्रेंड के साथ, आप कहेंगे की १९ साल में ही शादी क्यों कर ली तो मैं आपको बता दू की वो शादी के पहले ही उसके पेट में उसके बॉय फ्रेंड राजीव का बच्चा पल रहा था, वो दोनों दिल्ली शिफ्ट हो गए,

मैं अकेले ही रह गई थी, मुझे किसी चीज की कमी नहीं है मेरे पति का दिया हुआ काफी पैसा है पर जो नहीं है वो आपको पता है, मुझे जवानी में ही सेक्स का सुख ज्यादा नहीं मिला. मैं अपनी जवानी को जब से पति गए तब से तकिया के सहारे ही ज़िंदगी काटी.सुरुचि अपने पति के साथ डेल्ही सेटल हो गई, पर उसका प्यार मुझे ज्यादा दिन अलग नहीं रख पाया, सुरुचि मुझे अपने पास लाने के लिए राजीव को भेजी, अब मैं भी दिल्ली में ही रहती, ट्रैन में इतना भीड़ था की हम दोनों का टिकट वेटिंग से आर ए सी तक रह गया, सेकंड क्लास ऐसी का टिकट थे, निचे बाले सीट हम दोनों को मिला, और हमलोग दिल्ली के लिए रवाना हो गए, रात को मेरी ट्रैन कानपुर क्रॉस करने लगी, सब लोग सो रहे थे, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। हम दोनों बैठे थे, बात चीत हो रही थी, राजीव का पैर मेरे जांघ को छु रहा था, मैं साडी पहनी थी, और ज्यादा कट का ब्लाउज जो की आगे से ज्यादा खुल था, इस वजह से मेरी चूचियाँ बाहर को झाँक रही थी, दोस्तों मैं हु तो ३८ साल की पर मेरा शारीर किसी २८ साल की औरत की तरह है, अब तो पहले से और भी सुन्दर हो गई थी, चेहरा भर गया है, चूचियाँ काफी टाइट है मैं योग करती हु, तो शारीर की बनावट काफी अछि है, राजीव मेरी चूचियों को निहार रहा था, पर उसका निहारना मुझे अछा लग रहा था, सच बताऊँ दोस्तों मैं तो ये भूल गई की राजीव मेरा दामाद है, और मैंने भी अपनी आँचल थोड़ा खिसका दी, मेरे दोनों बड़े बड़े सुडौल चुकी ब्लाउज में कसा हुआ दिखने लगा, उसके बाद मैं बाहर सीसे से झाँकने लगी, ताकि राजीव अपनी नजरों से मेरे चूक को अच्छे से निहार ले, थोड़े देर बाद मैं राजीव को गहरी तो वो एक लम्बी सांस ले रहा था, मैंने कहा राजीव मैं बैठती हु, तुम लेट जाओ, पर उसने कहा नहीं नहीं मम्मी जी आप ही लेट जाओ, मुझे अभी नींद नहीं आ रही है, और मैं लेट गई, राजीव पैर फैलाकर बैठा था, उसका पैर की ऊँगली मेरे चूतड़ को छूने लगी, धीरे धीरे वो अपने पैर से मेरे गांड को सहलाने लगा, मैंने सोने का नाटक कर रही थी, और वो मजे लूट रहा था.

उसके बाद थोड़े देर बाद मैं सीधा लेट गई और पैर फैला दी, और थोड़ा साडी को ऊपर खींच ली, और अपना पैर मैं राजीव के लौड़े के पास ले गई, हे भगवान् मोटा लैंड खड़ा था, एक दम टाइट नाग की तरह फनफना रहा था, पर मैंने सोने का नाटक करते हुए पैर को नहीं हटाई, अब राजीव अपना एक पैर मेरे दोनों पैरो के बिच में रख लिया और धीरे धीरे आगे करके, मेरे चूत तक ले गया, साडी तो घुटने तक थी ही अंदर कंबल में उसके बाद राजीव धीरे धीरे साडी को ऊपर कर दिया और मेरे चूत को अपने पैर से ही सहलाने लगा, मेरी चूत गीली हो जाने की वजह से मेरा पेंटी भी गीली हो चुकी थी, राजिव को समझ आ गया था की माँ जगी है, पर मैंने आँख नहीं खोली, वो धीरे धीरे साइड से अपना ऊँगली चूत के अंदर डालने की कोशिश करने लगा, पर मेरे चूत में बाल था इसवजह से मुझे दर्द होने लगा, मैंने अपना आँख खोल और राजीव को देखि, राजीव का चेहरा लाल हो गया था, मैंने उसको देखते हुए अपने ब्लाउज का ऊपर का सारे हुक खोल दिए और थोड़ा सा उचककर मैंने ब्रा का हुक खोल दिया,राजीव मेरे होठ के पास आ गया, उसकी साँसे तेज चल रही थी, और आँखों में वासना की चमक था, उसके बाद वो मेरे पे टूट पड़ा, वो मेरे होठ को चूसने लगा और चूचियों को दबाने लगा, और फिर तो क्या बताऊँ निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम के दोस्तों, मेरा मन तो पागल होने लगा, मुझे अब दामाद का लण्ड चाहिए अपने चूत में, मैंने दामाद को अपनी बाहों में भर ली और सहलाने लगी, दामाद ने मेरे चूत में ऊँगली करने लगा और फिर पेंटी उतार दिया, मैंने कहा सारा कपड़ा मत उतारो, ट्रैन है, फिर उसने बिच में बैठ कर, अपना लण्ड मेरे चूत के छेद पे लगाया और जोर जोर से पेलने लगा, मैं दस साल बाद चूद रही थी, मानो मेरा सुहागरात हो रहा हो, वो झटके पे झटके दे रहा था, और मैंने स्वर्ग का आनंद ले रही थी, मेरे मुंह से आह आह आह उफ़ उफ़ उफ़ उफ़ की आवाज आ रही थी और वो भी मुझे गालिया दे रहा था और चोद रहा था, उसके बाद उसने कहा मम्मी जी मुझे गांड मारना बहुत अच्छा लगता है, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं तो सुरुचि को चूत से ज्यादा गांड ही मारता हु,

मैंने कहा आज तू चूत ही मार ले, क्यों की गांड में दर्द होगा तो मैं चिल्लाऊंगी, और लोगो को पता चल जायेगा, इसलिए तुम मुझे दिल्ली में जिस तरह से चोदना हो या गांड मारना हो, मार लेना अब तो मैं तुम्हारी हो गई हु, इतना कहते ही वो जोर जोर से तेजी से चोदने लगा, मैंने भी गांड उठा उठा के चुदवाने लगी, फिर तो ट्रैन की रफ़्तार के साथ साथ हम दोनों की रफ़्तार भी बढ़ गई, और फिर हमलोग मथुरा आते आते करीब तिन से चार बार झड़ चुके थे, डेल्ही पहुंची, कहना पीना खाये, और फिर हम लोग बेखबर सो गए, क्यों की रात को चुदाई हो रही थी,शाम को एक रजिस्ट्री आई जिसमे जब का ट्रेनिंग लेटर था और उसकी जॉब लग गई थी, बैंक में उसको मुंबई जाना था, सुरुचि अकेली ही दूसरे दिन मुंबई चली गई, फिर तो क्या बताऊँ दोस्तों राजीव और मेरा रिश्ता पति पत्नी से बढ़कर हो गया, हम लोग अपने ज़िंदगी को खूब एन्जॉय कर रहे है, अब मैं मैं राजीव के बच्चे की माँ बन्ने बाली हो गई है, पर क्या करूँ समझ नहीं आ रहा है सुरुचि को पता जब चलेगा तो क्या कहेगी, क्या मैं अपने बच्चे को जन्म दू की नहीं, मैं अभी बहुत परेशां हु, आप ही मुझे रे दे क्या करूँ, पर जो भी हो मेरे प्यारे निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पे दोस्तों ये ज़िंदगी मुझे काफी अच्छी लग रही है, मैं चाहती हु की ऐसा ही हमेशा मेरे चूत की गर्मी को राजीव शांत करता रहे.कैसी लगी दामाद से चुदाई , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना Facebook.com/KalpanaSharma

भाई बहन की चुदाई - बहन की तड़पती जवानी

ये सच्ची कहानी मेरी प्यारी बहन निहारिका की है, पहले तो मुझे लगता था ये सब बकवास है क्या कोई भाई अपने बहन के साथ सेक्स सम्बन्ध बना सकता है पर जब मेरे साथ ये हुआ और मैंने अपने बहन के साथ सेक्स किया तो लगा की ज़िंदगी में कई बार ऐसे मौके आ जाते है जिसमे रिश्ते तार तार हो जाते है और कुछ और ही हो जाता है जिसकी हमलोग कल्पना भी नहीं करते है, आज एक ऐसी ही घटना का जिक्र कर रहे है,मेरी उम्र 22 साल है और और मेरी बहन बहक निहारिका की उम्र इक्कीस साल है, हमलोग मध्यप्रदेश के रहने बाले है, ये कहानी आज ऎसे दस दिन पहले की है जब हम दोनों को दिल्ली आना पड़ा, निहारिका का जॉब इंटरव्यू दिल्ली में था, शनिवार को, तो हमलोग दिल्ली शनिवार को ही पहुंच गए थे करीब ७ बज रहे थे सुबह के,

हम दोनों ने एक होटल का कमरा लिया, रिसेप्शन पर एक सुन्दर सा लड़का जो ब्लैक सूट में था, गुड मॉर्निंग कहा और रजिस्टर में नाम लिखने लगा, हमने आई डी प्रूफ दिया, जब सरे फोर्मलिटी हो गया था वो लड़का मुस्कुराया और कहा, सर आपकी वाइफ बहुत सुन्दर है, एन्जॉय कीजिये, आपको किसी चीज की जरूरत होगी तो प्लीज आप हमें फोन कर दीजिये, आपका वीकेंड हैप्पी हो. हमने थैंक्स कहा, और जैसे वह से घूमे अपने कमरे जाने के लिए हम दोनों को हसी आ गई, हस्ते हस्ते अपने कमरे तक पहुंचे और निहारिका तो और जोर जोर से हसने लगी, कहने लगी वाइफ बोला मुझे मुझे बहुत हसी आ रही है इस तरह से हम दोनों एक दूसरे को देखकर हसने लगे, फिर हम दोनों फ्रेश हुए, ब्रेकफास्ट किया और वह से वसंत कुञ्ज के लिए निकल पड़े वही निहारिका का इंटरव्यू था, सब कुछ अच्छा हुआ, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। निहारिका सेलेक्ट हो गई, हम दोनों काफी खुश थे,वह से करीब तीन बजे निकले और फिर दिल्ली घूमने लगे, इंडिया गेट गए, फिर हमलोगो कई सारे मॉल गए, शाम को कनॉट प्लेस गए, खूब मजे किये, मैंने वह पे एक कपल को देखा जो पार्क में बेंच पर ही गोद में बैठाकर चुदाई कर रहे थे, वो भी तब देखा हमदोनो ने जब आअह आआह आआअह की आवाज आ रही थी, और वो लड़की कह रही थी, भैया धीरे धीरे चोदो दर्द हो रही है, और जल्दी चलो घर मम्मी पापा इंतज़ार कर रहे होंगे, हम दोनों एक दूसरे का मुह देखने लगे और बोले दोनों भाई बहन है, बताओ दिल्ली जगह ही ऐसी है, चलो सब का अपना अपना ज़िंदगी जीने का तरीका है,सच बताऊँ दोस्तों उसके बाद निहारिका को मेरे देखने का तरीका ही चेंज हो गया, मैं अब उसके बूब को निहार रहा था, जब वो चल रही थी तो उसके मटकते कमर को देख रहा था, वो तब से और भी ज्यादा हॉट लगने लगी थी, पर मैं ये भी ध्यान रख रहा था की कही उसको मेरी ये नजर पता ना चल जाये, है तो मेरी बहन ही, फिर धीरे धीरे नार्मल होते गए, एक बार तो उसका बूब मेरे केहुनी से लग गया, उसने कुछ भी नहीं कहा और वो मुस्कुरा दी, मुझे बहुत ही अच्छा लगा, क्या रुई के तरह उसका गोल गोल चूच लग रहा था यार.

शाम को खाना कहते हुए करीब हमलोग आठ बजे होटल पहुंचे, कमरे में गए और फ्रेश होके टी वी देखने लगे, तभी निहारिका बाथरूम से निकली, मैं उसको देखकर हैरान हो गया, वो पिंक कलर की नाईटी में थी, बाल खुले थे बड़ी ही हॉट लग रही थी, वो अंदर ब्रा नहीं पहनी थी और उसकी नीति सिल्की सिल्की थी तो उसका बूब का साइज निप्पल समेत दिख रहा था वो जब चल रही थी और कंघी कर रही थी तो उसका बूब हिल रहा था, यहाँ तक की जब वो चलती थी उसकी चूतड़ गजब की दिख रही थी, सच पूछो दोस्तों मेरा लंड तो खड़ा होने लगा था मैंने फटा फट कम्बल रख लिया ताकि उसको पता ना चले की मेरे हीरो सलामी ठोंक रहा है.तभी बेल्ल बजा दरवाजा सिर्फ सटाया हुआ था, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने कहा कमीन वो होटल का बेटर था, वो एक बोतल व्हिस्की दो गुलाब का फूल, दो कैंडल देते हुए कहा, सर ये सारे चीज मैनेजर ने भेजा है, और कहा है, सर के लिए गिफ्ट है उनके हनीमून पे, निहारिका फिर जोर जोर से हसने लगी और मैं भी वैसे ही खुल के हसने लगा, निहारिका कह रही थी क्या बेवकूफ मैनेजर है उसको लग रहा है की हम लोगो हनीमून मनाने आये है, पागल कहिका और खूब हसने लगे दोनों मिलकर.उसके बाद व्हिस्की देखा वो काफी अच्छे ब्रांड का था, पहले भी कई मौके पर हम दोनों ने पि है, तो निहारिका बोली अच्छा है, चल निकाल आज पि ही लेते है, और फिर वो पेग बनाने लगी और हम दोनों पिने लगे, अब मुझे काफी नशा आ गया था और निहारिका को भी चढ़ गया था, अब वो और भी ज्यादा सेक्सी लग रही थी, बार बार वो अंगड़ाई ले रही थी, मैं भी उसके बूब को बार बार देख रहा था, जब वो अंगड़ाई लेती थी उसकी दोनों चूचियाँ और भी बाहर के तरफ हो जा रही थी, बड़ा ही हॉट नजारा था उस समय का, उसकी आँखे और भी सेक्सी हो गई थी और वो बहकी बहकी बात कर रही थी, वो कह रही थी भाई याद आया वो लड़की वो कह रही थी धीरे धीरे डालो भैया, उफ्फ्फ्फ्फ़ क्या नजारा था यारा, क्या मस्त लग रही थी वो सेक्स करते हुए,

निहारिका कह रही थी साले मैनेजर क्या सुझा इसे हमलोग पति पत्नी है, ओह्ह्ह भैया तुम्हे तो मेरा सैया बना दिया है इस होटल बाले ने, और वो बार बार अंगड़ाई ले रही थी, फिर निहारिका बोली भैया आज मैं बहुत खुश हु आज मेरी जॉब लग गई है, आज तो पार्टी बनती है, मांग तू आज जो भी मांगेगा आज मैं मना नहीं करूंगी, मैंने कहा सच दोगी वो, बोली मांग के तो देख, आज मैं किसी भी चीज के लिए मना नहीं करुँगी, बोली चल मांग जो मांगना है, मैंने कहा आज मैं तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हु,तो निहारिका बोली मैं तो कब से चाह रही थी आज जो मैनेजर बोला वो कर लेते है, और वो मेरे गले से लग गई उसकी दोनों चुचियन मेरे छाती से चिपक रही थी, और फिर मुझे किश करने लगी, फिर वो सारे लाइट बंद कर दी और दोनों मोमबती को जला दी और नाईटी को उतार दी, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। हलके हलके रौशनी में काफी सेक्सी लग रही थी मेरी बहन, क्या शरीर था यार, बहुत हॉट लग रही थी बहन की बड़ी बड़ी चुचिया, कमरे पतली, गोल गोल चूतड़, खुले बिखरे बाल, वो मटकती हुई आई, और मेरे होठ को चूसने लगी मैं हौले हौले से बहन की चूचियाँ दबाने लगा, वो बहुत ही कामुक हो गई थी, फिर वो मेरे लंड को हाथ में ले ली और कहने लगी क्या लंड है भैया जैसा की ब्लू फिल्म में होता है वैसा ही लंड है आपका.और वो मेरे लंड को पकड़ कर पाने चूत के ऊपर लगा ली, और हलके हलके से बैठ गई पूरा लंड मेरी बहन के चूत में समा गया, ओह्ह्ह फिर क्या बताऊँ दोस्तों वो उछाल उछाल कर चुदवाने लगी, उसके मुह से आअह आआह आआअह आआअह उफ्फ्फ्फ़ उफ्फ्फ की आवाज निकल रही थी जब वो मेरे लंड पे झटके देती तो फच फच की आवाज आती, पूरा कमरा महक रहा था हलकी हलकी मोमबती जब रही थी और मेरी बहन की सेक्सी आवाज पुरे कमरे में गूंज रही थी, मैं भी हाय हाय हाय कर के लंड को पेले जा रहा था. उसके बाद निहारिका निचे लेट गई और मैं ऊपर चला गया, फिर मैंने उसका पैर को अपने कंधे पर रख लिया और अपना लंड को जोर जोर से उसके चूत में डालने लगा.

वो चिलाने लगी फ़क में फ़क में हार्ड, चोदो खूब चोदो मुझे, फाड़ दो मेरी चूत को, ले लो अपनी आगोश में, बना दो मुझे रंडी, चोद जो मेरी जिस्म को शांत कर दो, फिर मैंने उसको घोड़ी बनाया और पीछे से बड़े चौड़े गांड को पकड़ के फिर उसके चूत में लंड पेलने लगा, वो काफी हॉट और वाइल्ड हो गई और जोर जोर से गांड को धक्के लगा रही थी, फिर हम दोनों एक लम्बी आआह भरे आआह्ह्ह्ह्ह्ह् आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह और मैंने पूरा वीर्य उसके चूत में डाल दिया और हम दोनों एक दूसरे को चूमते हुए लेट गए, फिर आधे घंटे बाद एक एक पेग व्हिस्की फिर ली उसके बाद फिर चुदाई की, रात भर करीब ४ बार मैंने अपनी प्यारी बहन को रंडी बना कर चोदा.
आपको मेरी कहानी कैसी लगी जरूर बताएं, ये मैं नहीं कह रहा हु ये मेरी बहन कह रही है, क्यों की ये कहानी हम दोनों साथ मिलकर लिख रहे है, कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/NiharikaSharma

फूफा के साथ मम्मी की सेक्स कहानियों

मेने अपनी मम्मी को चुदते हुए देखा है तब मेरे पापा आर्मी में थे. एक बार किसी वजह से पापा का मनीऑर्डर नही आ पाया तब पापा के जीजाजी आया करते थे और वो अक्सर १५ दिन में शनिवार को जरुर आया करते थे. एक दिन मम्मी पैसे के लिए काफी परेशां थी ,मेरे वो फूफा लगते थे ,और उस दिन शनिवार को आ गए.उनकी age करीब ६२ इयर थी और मम्मी सिर्फ ३२ साल की थी.मम्मी ने खाना खाने के बाद उनसे पैसों की बात की की मुझे ३००० rs अर्जेंट चाहिए. उन्होंने मम्मी को १०.३० बजे के बाद अपने कमरे में आने के लिए कहा,मै और मम्मी बेडरूम में सोया करते थे.
फूफा का पलग मम्मी ने ड्राइंगरूम में लगा रखा था वहा एक दीवान था.मै खाना खाकर लेट गया था पर मेने मम्मी को उनके कमरे में जाते हुए देखा,बेडरूम में नाईट बल्ब जल रहा था.मै भी २ मिनुत बाद उत्सुकतावश मम्मी के पीछे चला गया और ड्राइंगरूम के बाहर ही खड़ा हो गया.पर्दा फेन की हवा से थोडा थोडा हिल रहा था गर्मियों के दिन थे,मम्मी ने हरे रंग की साड़ी पहन राखी थी और काला ब्लाउज़ था.फूफा ने कहा की अभी देता हूँ और फूफा ने अपने बैग से एक गड्डी निकाली और मम्मी के हाथ में रख दी,मम्मी ने कहा की ये तो बहुत सारे हैं फूफा ने कहा की पर मेरा काम कर दो. मम्मी ने कहा की क्या काम है तो फूफा ने मम्मी का हाथ पकड़ लिया और अपनी बाँहों में कस लिया ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी ने कहा की भाईसाहब मुझे छोड़ दो.मुझे सिर्फ ३००० ही चाहिए, तभी फूफा ने मम्मी की साडी खोल दी,अब मम्मी सिर्फ पेटीकोट में और ब्लाउज़ में खड़ी थी,मम्मी ने जूड़ा बना रखा था, फूफा ने मम्मी को पीछे से पकड़ लिया और मम्मी के हिप्स पर दबाने लगा ,मम्मी को फूफा लगातार चूम रहा था. मम्मी छुटने का पूरा प्रयास कर रही थी पर वो छोड़ ही नही रहा था ,मम्मी ने कहा की कोई देख लेगा उसने कहा की सब सो गए है, फूफा ने मम्मी का नाडा पकड़ कर खीँच दिया और मम्मी नंगी हो गयी ,मम्मी ने कहा की भाईजी मै तुम्हारी बेटी के सामान हूँ पर फूफा ने कुछ नही सुना. फूफा ने बनियान और लुंगी पहन रखी थी, फूफा ने मम्मी को जबरदस्त पकड़कर सोफे पर बैठा दिया और खुद फर्श पर उकडू बैठ गया , फूफा ने अपना मुह मम्मी की जाँघों के बीच में घुसा दिया और चूसने लग गया.मम्मी का प्रतिरोध अब कम होने लगा था, फूफा ने अपनी लुंगी उतार दी थी और बिलकुल नंगा हो गया था ,

फिर अचानक फूफा ने मम्मी के ,जहाँ से मम्मी पेशाब करती थी,वहां अपनी एक ऊँगली घुसेड दी,मम्मी की धीरे से चीख निकल गयी. फूफा अपनी ऊँगली तेजी से आगे पीछे करने लगा ,मम्मी ने अपनी दोनों टाँगें फेला दी थी,फूफा ने 1-2 मिनट तक खूब ऊँगली चलाई ,मम्मी ने फूफा का सर पकड़ कर अपनी पेशाब वाली जगह पर जोर से खिंचा,फूफा ने एकदम से ऊँगली निकल ली और मुह लगा दिया ,चाचा चुसुड़ चुसुड़ कर पीने लगा ,शायद मम्मी ने मस्त होकर पेशाब कर दी थी,फिर फूफा ने थोड़ी देर में ही मम्मी को उठाया और नीचे फर्श पर उकडू बैठा दिया और फूफा ने मम्मी के मुह में जबरदस्ती अपना मोटा काला लम्बा लंड जो की करीब ८ इंच से कम नही रह होगा ,दे दिया ,मम्मी उसे पकड़कर आगे पीछे कर रही थी और फूफा मम्मी के बालों से खेल रहा था,मम्मी उसे कुल्फी की तरह चूस रही थी,थोड़ी देर बाद मम्मी ने कहा की भाई जी अब जाने दो न.फूफा ने कहा की इसे अंडर कौन लेगा मम्मी ने मना कर दिया और कहा ना बाबा ना ये मेरे बस का नही है,फूफा ने मम्मी को खड़ा कर दिया था और मम्मी उससे छुटने का प्रयास कर रहीथी वो लगातार मम्मी के गोरे गोरे चुत्तड़ दबा रहा था,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी वास्तव में बहुत ख़ूबसूरत थी. फूफा ने मम्मी को अपनी गोद में उठाकर दीवान पर लिटा दिया और खुद भी मम्मी के उपर चढ़ गया,फूफा ने मम्मी के दोनों पैर अपने हाथों में पकड़ लिए ,मै अब खिड़की की सीध में आ गया था,और वंहा से सिर्फ २ फीट की दुरी पर दोनों दिख रहे थे मम्मी लगातार फूफा का लंड देखकर उसके नीचे से निकलने की कोशिश कर रही थी,पर फूफा उसकी टाँगें नही छोड़ रहा था, फूफा ने मम्मी की टाँगें उठाकर पीछे की तरफ कर दी ,मेने अपनी मम्मी की जाँघों के बिच में इतने नजदीक से कभी नही देखा था.मम्मी की पेशाब की जगह तितली सी पंख फेल्लाकर बेठी थी ऐसा महसूस हो रहा था ,

दरअसल में फूफा ने चाट चाट कर मम्मी की फांकें चौड़ी कर दी थी फूफा अपना लंड घुसाने की कोशिश कर रहा था मगर मम्मी हिल जाती थी,मम्मी ने ३-४ बार कहा की भाई जी मुझे बक्श दो मेरे बस का नही है,पर फूफा का काला लंड लगातार हिल रहा था, आखिर फूफा ने मम्मी की दोनों टाँगें बाएं हाथ से पकड़कर और दुसरे से अपना लंड पकड़ कर मम्मी की फंको के बिच में रखकर जैसे ही धक्का मारा मम्मी की चीख निकल गयी,फूफा ने कहा माया मेरी जान क्या हुआ ,मम्मी ने कहा की बहुत मोटा है,फूफा ने मम्मी की बात अनसुनी कर दी और अपने लंड को धीरे धीरे अंदर करने लग गया ,मम्मी लगातार सिसक रही थी,और फूफा के काले मोटे मोटे चुत्तड़ तेजी से आगे पीछे हो रहे थे,फूफा ने अपने दोनों हाथ मम्मी की छाती पर टिका दिए थे और सहला रहा था,फूफा लगभग पंजो पर उकडू उठा हुआ था,और उसका काला लम्बा मोटा लंड मम्मी के अंदर बहर आ जा रहा था.मै मम्मी की सिस्कारिया सुन रहा था ,मम्मी आह,आह,आह,………। बस,बस,बोल रही थी मम्मी का छेद लगभग २ इंच गोल हो गया था,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मम्मी की ऐसी सेक्सी आवाज मेने पहले कभी नहीं सुनी थी ,मम्मी की आवाज मुझे ऐसी लगी जैसे कुतिया का छोटा बच्चा ठण्ड के मारे घुट घुट कर रो रहा हो , फूफा का काला लंड फूल चूका था,फूफा पूरा जोर लगा रहा था की किसी तरह पूरा ८ इंच अंदर चला जाये पर मम्मी फूफा की जाँघों पर हाथ रख लेती थी,आखिर में फूफा ने पूरा लंड अंदर पेल ही दिया,मम्मी जोर से चीख उठी,अब फूफा के आंड मम्मी की चूत पर टकरा रहे थे और मम्मी बुरी तरह सिसक रही थी,मम्मी ने अपनी दोनों टाँगें खुद ही हवा में उठा ली थी. मम्मी की पाजेब की आवाजें मुझे भी बहुत अच्छी लग रही थी,मम्मी का छेद मेरी आँखों से सिर्फ २ फीट की दुरी पर था,मेरा छोटा सा लंड भी अकड़ने लग गया था,करीब १५ मिनट बाद फूफा ने अपने दोनों चुत्ताद भींच लिए और दोनों आंड मम्मी की चूत पर सटा दिए,फूफा की टाँगें कांपने लगी थी.फिर १ मिनुत बाद चाचा ने अपना लंड धीरे बाहर निकाल लिया, मम्मी के छेद से सफ़ेद गाढ़ा मांड जैसा कुछ बाहर आने लग गया था, फूफा मम्मी की बगल में लेट गया मम्मी ने धीरे से अपनी टाँगें निचे रखकर घुटनों से मोड़ ली ,मम्मी का छेद धीरे धीरे सिकुड़ने लग गया था,पर उसमे से बहुत ही गाढ़ा पदार्थ निकल रहा था,फूफा ने मम्मी की चूत अपने लुंगी से साफ़ कर दी और अपना लंड भी साफ किया,

फूफा ने मम्मी को पूछा की कैसा लगा ,मम्मी ने अपना सिर फूफा की बालों से भरी छाती पर टिका दिया. मम्मी ने धीरे से फूफा से कहा की भाई जी तुम्हारे अंदर बहुत जान है , इस के पापा तो ३-४ मिनट बाद ही थक कर सो जाते है पर मै ये किसी से नही कह सकती उन्होंने मुझे कभी भी ये अहसास नहीं कराया की सेक्स क्या होता है और उनका लिंग भी तुम्हारे लिंग से आधा है साइज़ में.मै ये सब सुनकर हेरान रह गया की मम्मी फूल सी नाजुक हैं और मम्मी को आखिर क्या मजा आया सिसकते हुए, जब फूफा ने मम्मी के अंदर पूरा पेल दिया था,और मम्मी ने हवा में टाँगें क्यों उठा ली थी? मम्मी के बदन पर कभी भी मेरा ध्यान अच्छी तरह से नही गया,पर जब फूफा ने मम्मी को बिलकुल नंगा कर दिया था तब मेरा दिमाग भी उनकी सुन्दरता देखकर दंग रह गया ,वाह मम्मी की जाँघों के बीच में क्या उठान थी?उनकी गोरी गोरी जांघे चिकनी जांघें देखकर भी मेरे मन में पानी आ गया था,फूफा रह रह कर मम्मी की उठान पर अपनी हथेली फिर रहा था,और मम्मी फूफा की चौड़ी छाती पर अपनी हथेली से सहला रही थी.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फूफा ने कहा की माया तुझे मेरा देखकर डर नही लगा? मम्मी ने कहा की पहले मुझे लगा लगा की तुम मेरी हालत ख़राब कर दोगे पर फिर ऐसा मजा आया की सब कुछ भूल गयी. फूफा ने कहा की माया मेने २ साल से औरत की सुगंध भी नही ली ,शरीर तो क्या देखना था?और तेरी मसल ने मुझे ऐसा मसल मारा की मै पिघल गया.ऐसा लग रहा था की मै साइकिल में हवा भर रहा हूँ.उन दोनों की बातें सुनकर मुझे लगा की सेक्स में वाकी बहुत मजा है.फूफा ने मम्मी को कहा की माया यहीं सो जा रोबिन तो कभी का सो चूका होगा ,पर मम्मी नही मानी,और बेड से उठकर उन्होंने कपडे पहन लिए,फूफा का लंड भी सिकुड़ कर ५ इंच का रह गया था, चलने से पहले मुमी ने फूफा की छाती पर किस किया तो मै समझ गया की मम्मी किसी भी समय बाहर आ सकती है,मै तुरंत बेड पर जाकर लेट गया, करीब ३ मिनुत बाद मम्मी आ गयी और चुपचाप लेट गयी अगले दिन सन्डे था,पर फूफा को घर जाना था ,वो बस पकड़ कर चले गए और मै अगले शानिवार का इंतजार करने लगा ,जब मै फूफा को बस में बैठा कर वापस आया तो मम्मी नहाकर ताजे फूल की तरह खिल गयी थी और गुनगुना रही थी .कैसी लगी मम्मी की सेक्स कहानियों , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मम्मी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ArunaSharma

रात भर ऑन्टी को चोदा

ये सेक्स कहानी सच्ची है, मैं शाम को अपने दोस्त के यहाँ से आ रहा था. घर पे आकर देखा तो घर पे ताला लगा था. तभी पड़ोस की आंटी बोली की बेटा, तुम्हारे मामा जी का एक्सीडेंट हो गया है इस वजह से वो जल्दी जल्दी चली गई है, वो सुबह आएगी, उनके साथ मेरा बेटा लालू गया है, आज तू मेरे यहाँ ही सो जाना, क्यों की मैं अकेली हु, तुम्हारे अंकल भी कंपनी के काम से बाहर गए है, मेरे पास कोई फ़ोन नहीं थी इस वजह से मेरी माँ मुझे बता नहीं सकी, फिर मैंने आंटी के फ़ोन से माँ को फ़ोन किया, तो वो बोली बेटा तुम आंटी के यहाँ ही सो जाना, मैं सुबह बाली लोकल ट्रैन से आउंगी. फिर आंटी ने मुझे ड्राइंग रूम मैं बैठने को कहा और ख़ुद बाथरूम में कपड़े धोने चली गई.
मैं ड्राइंग रूम में बैठा बोर हो रहा था इसलिये मैं भी बाथरूम के पास जा के खड़ा हो गया और आंटी से बातें करने लगा. फिर जब उनका काम हो गया तो वो बाहर ढाबे से ही रोटी मंगबाई, दोनों ने कहना खाया और टीवी देखने लगे.उसके बाद काफी बात करने के बाद आंटी मुझ से मेरी गर्लफ्रेंड के बारे मैं पूछने लगी. मजाक में मैंने कह दिया कि आंटी मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है और मुझे लड़कियों से बात करने में बहुत शर्म आती है. ये सुन कर आंटी ज़ोर ज़ोर से हँसने लगी और बोली तू झहोथ बोल रहा है ऐसा हो ही नहीं सकता है तभी वो पानी का ग्लास गलती से उनके छाती पे गिर गया, आंटी पतली सी नाइटी पहनी थी, तो नाइटी शारीर में चिपक गया और उनके बड़े बड़े बूब्स साफ़ साफ़ दिखने लगे, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। क्यों की वो अंदर ब्रा नहीं पहनी थी. मैं उनके मस्त मस्त चूचियों को देखने लगा. गजब की लग रही थी, क्यों की निप्पल की साइज साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था.तभी आंटी मेरे इरादे समझ गई और बोली  तुम लड़कियों से बातें करने मैं शरमाते हो पर उनके चूचियों देखने में नहीं शरमाते? मैं देख रही हु, जब से पानी गिर है मेरे ऊपर तब से तुम्हारी नजर कहा है यह सुन कर मैं हंसने लगा और थोड़ा झेंप गया और फिर से उनके मस्त मस्त बूब्स को घूरने लगा. उसके बाद क्या बताऊँ दोस्तों मुझे घूरता देख कर आंटी ने कहा- चलो तुम अपनी आँखे बंद करो मैं तुम्हे कुछ दिखाती हूँ. तभी मैंने अपनी आँखे बंद कर ली, और इंतज़ार करने लगा की क्या दिखाएगी, मैं भी आंटी के इरादे समझ रहे थे, लग रहा था आज जरूर ही कोई गुल खिलने बाला होगा. करीब दो से तिन मिनट के बाद आंटी ने कहा- अपनी आँखे खोलो.मैंने आँखे खोल के देखा ओह्ह माय गॉड, आंटी तो बिल्कुल नंगी हो के मेरे सामने खड़ी थी. क्या मस्त गदराया गोरा बदन था उनका. मोटे मोटे जांघ, बड़ी बड़ी सुडौल चूचियाँ, पेट सुराही के तरह दोनों जांघ सटी हुयी, उनकी चूत नहीं दिखाई दे रही थी, क्यों की वो जांघों के अंदर दबा हुआ था, गजब की लग रही थी. क्या बताऊँ दोस्तों मैं तो अवाक् रह गया.आंटी मुझसे हंस के पूछा- बेटा शर्म तो नही आ रही?

मैंने एक लम्बी सांस ली और फिर पैन्ट के ऊपर से ही मेरा लंड सहलाने लगी. मैंने समय गँवाए बिना अपने सारे कपड़े उतार दिए और आंटी से लिपट कर उन्हें चूमने लगा. और उनके बूब्स को दबाने लगा आंटी ने चूमते हुए कहा, मेरे प्यारे राजा आज तुम मुझे खुश कर दो मैं तुम्हे खुश कर दूंगी, आज तुम्हे ऐसा मजा दूंगी तुम मुझे ज़िंदगी भर याद रखोगे,इतना सुनते ही मेरा लण्ड और तेजी से फनफना गया, और मैं काफी कामुक हो गया, मैंने आंटी को गोद में उठा कर उनके पलंग पर लिटा दिया और उनकी चूत को कुत्तो की तरह चाटने लगा. आंटी ज़ोर जोर से आह आह आह और अच्छे से बेटा मजाः आ गया चिल्लाने लगी वो उफ़ उफ़ कर रही थी मैंने भी उनके चूत को चाट रहा था कभी जीभ अंदर गुसा रहा था, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो तकिया को जोर से पकड़ रही थी फिर वो थोड़े देर बाद एक लम्बी सांस ली और मेरे मुँह में ही अपना सारा माल निकाल दिया. मैं उनका सारा माल पी गया और और उनकी चुचियों को चूसने लगा. और होठ को भी काटने लगा अपने दांतों से.आंटी ने मुझे रोका और बोली- बेटा मुझे भी कुछ करने दे और फिर दोनों 69 के पोजीशन में आ गए, वो मेरा लण्ड अपने मुंह में लेके चूसने लगी और मैं उनकी चूत को फिर से चाटने लगा, कभी कभी मैंने अपनी ऊँगली उनके गांड में गलने लगा, वो तो और भी बाघिन हो गई. और वो फिर मुझे भद्दी भद्दी गालियां देने लगी, कह रही थी मादरचोद आज चोद कर दिखा मुझे, कुत्ते देख तू कैसे चाट रहा था इस कुतिया के चूत को, ले मेरे चूत का पानी पि और फिर मेरा लौडा पकड़ कर ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगी और फिर अपने मुँह में ले कर लोलीपोप की तरह चूसने लगी. मुझे इतना मज़ा आज तक नहीं आया था जितना कि अब आ रहा था और आने वाला था. मैंने भी ऑन्टी को पूरी तरह से चाट रहा था.करीब पंद्रह से बिस मिनट बाद जब आंटी लौडा चूस कर थक गई तो उन्होंने मेरा लौडा पकड़ के अपनी चूत में डाला और कहा- बेटा मुझे स्वर्ग का मज़ा दिला दे ! आज मेरे चूत को तू फाड़ दे, आज मुझे इतना चोद की मुझे तेरे लण्ड से प्यार हो जाये और मैं तुम्हारी रानी बन जाऊं

उसके बाद क्या बताऊँ दोस्तों मैंने ज़ोर से एक धक्का मारा और मेरा आधा लंड उनकी चूत मैं चला गया. जब मेरा लण्ड थोड़ा अंदर गया तो अंदर आग की तरह तप रहा था उनका चूत उसके बाद आंटी बोली- बेटा और अन्दर डालो. मैंने फिर एक धक्का मारा और इस बार मेरा पूरा लंड आंटी की चूत में समां गया.मैंने उनके चूत में अपना लण्ड पेलने लगा मैंने २०-२५ ज़ोर ज़ोर से धक्के मारे तो आंटी बोली- बेटा अब मुझे कुतिया बना के चोद ! मैंने आंटी को कुतिया की पोसिशन मैं खड़ा किया, और आगे की तरफ झुका दिया गजब का चौड़ा गांड, मुझे तो लग रहा था की अपना लण्ड उनके गांड में ही दाल दू. पर उन्होंने मेरा लण्ड पकड़ कर खुद ही अपने चूत पे सेट किया और इस बार एक ही धक्के में मेरा पूरा लंड उनकी चूत में समां गया. आंटी ज़ोर-२ से आह अह अह उफ़ उफ़ उफ़ ओह ओह ओह ओह चिल्लाने लगी. मैंने २०-२५ धक्को के बाद कहा, मजा आया आंटी, तो आंटी बोली हां रे मादर चोद, आज तो तेरे से पूरी रात चूदबाउंगी, मैं भी कहाँ कम था, मैंने भी कहा आज रात मैं भी कहाँ छोड़ने बाला हु, आज मुझे जन्नत मिला है तो इसका मजा क्यों ना लु, और फिर मैंने जोर जोर से चोदने लगा तभी आंटी बोली- बेटा मैं भी झड़ने वाली हूँ ! आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। और फिर वो जोर जोर से गांड उठा उठा के चुदवा रही थी और मैं भी जोर जोर से पेले जा रहा था, अचानक वो जोर से अंगड़ाई ली, और मुझे अपने में कस के पकड़ लिया, और शांत हो गई, मैंने पांच से दस झटके और मारे और मैं भी अपना पूरा माल अंदर छोड़ दिया, फिर वो शांत हो गई, और मैंने भी उनके ऊपर ही लेट गया, करीब आधे घंटे बाद फिर उठी और मुझे किश करने लगी और कहने लगी, मेरे राजा आज तूने मुझे खुश कर दिया, और फिर मेरा लण्ड पकड़ ली, क्या बताऊँ दोस्तों मेरा लण्ड फिर से खड़ा हो गया, और मैंने फिर आंटी को किश करने लगा और उनके बूब्स को पिने लगा और भी अपने बूब्स को पकड़ कर मुझे पिलाने लगी, और फिर से चुदाई शुरू कर दिया, रात भर में करीब ४ बार उनको भरपूर चोदा, पर सुबह होते ही क्या बताऊँ दोस्तों मेरा लण्ड खड़ा जैसे होता था दर्द होने लगता था, क्यों की मैंने पहली बार किसी को चोदा था, मुझे तो पहले डर लग गया, पर मैंने नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पर ही पढ़ा की पहली बार चुदाई करने के बाद दर्द होता है चाहे लड़का हो या लड़की हो, लड़का का लण्ड में दर्द होता है और लड़कियों के चूत में. कैसी लगी हम ऑन्टी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी ऑन्टी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/LuckySharma

मॉम की चुदाई कहानी

मेरी मॉम की उम्र लगभग ४५ साल होगी, वो बहुत ही सुंदर और सेक्सी है। मेरे पिता बाहर रहते हैं घर में मैं और मम्मी ही होते हैं।एक दिन हमारे घर में कोई मेहमान आये हुए थे, मेरे रिश्ते की चाचा ! उनकी अभी अभी शादी हुई थी।हमने उनको एक कमरा सोने को दे दिया और मेरी मम्मी और मैं साथ सो गए।रात को उनके कमरे से आवाज़ आने लगी तो मेरी नींद खुल गई और मैं इधर उधर देखने लगा तो मैंने देखा कि मम्मी अपने बेड पर नहीं थी। मैं मम्मी को देखने बाहर आया तो मैंने देखा कि मम्मी अपना पेटीकोट उतारकर दरवाज़े के छेद से अंदर देख रही हैं और अपनी चूत में ऊँगली कर रही हैं।
मैं चुपचाप देखता रहा, कुछ नहीं बोला। जब मम्मी झड़ गई तो उठ कर कमरे में आई और मुझे देख कर घबरा गई, बोली- क्या देखा तूने?
मैं बोला- कुछ नहीं !
मॉम बोली- अच्छा चल सो जा !
और हम दोनों सो गए पर मुझे नींद नहीं आ रही थी। अब मैं बार बार माँ की तरफ देख रहा था। मुझे वो बड़ी सेक्सी लग रही थी।सुबह चाचा लोग चले गए, फिर घर पर हम दोनों ही रह गये। माँ ने नाश्ता बनाया और हम दोनों ने साथ बैठ कर खाया।मम्मी ने मैक्सी पहन रखी थी और अन्दर से कुछ नहीं पहना था। मुझे लगा कि उनको सेक्स करने का मन हो रहा है। नाश्ता करने के बाद वो बाथरूम में चली गई, बोली-मैं नहाने जा रही हूँ, तू कहीं जाना मत !मैंने कहा- ठीक है !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मम्मी नहाने चली गई। हमारे बाथरूम के दरवाज़े में एक छेद है। जब मम्मी को गए कुछ देर हो गई तो मैंने छेद पर जा कर देखा कि मम्मी क्या कर रही हैं तो मैंने अन्दर देखा की मम्मी बाथरूम में एक लम्बे बैंगन को अपनी चूत में जोर जोर से अन्दर बाहर कर रही हैं।मैं यह खेल देखने में मशगूल हो गया। तभी अचानक मम्मी ने दरवाज़ा खोल दिया। मुझे भागने का भी समय नहीं मिला और मैं पकड़ा गया। वो बहुत गुस्से में थी और अंदर जाकर बोली- रुक जा ! तेरी शिकायत तेरे पापा से अभी करती हूँ !पूरे दिन वो मुझसे नहीं बोली और अलग अलग ही रही। अब रात को जब सोने का समय हुआ तो मुझसे बोली- तू आज मेरे साथ ही सोयेगा !मैं बोला- क्यों ?बोली- आज कल तू बहुत गलत बातें सीख रहा है, इसलिए !मेरा तो मन उनके साथ सोने को हो ही रहा था क्योंकि वो रात को सिर्फ पेटीकोट पहन कर सोती हैं और नीद में उनका पेटीकोट ऊपर खिसक जाता है तो सब कुछ दिखता है।फ़िर रात को हम सोने चले गए। मैंने पैन्ट पहन रखी थी। वो बोली- चल इसे उतार दे ! सोने में परेशानी होगी !
मैंने कहा- मुझे कोई परेशानी नहीं होगी।
तो बोली- मुझे होगी ! चल उतार !
अब हम दोनों सो गए। माँ बोली- तू क्या देख रहा है ?
मैं बोला- कुछ नहीं !

बोली- सच सच बता ! नहीं तो पापा से बोल दूंगी !
मैं डर के मारे बोला कि रात को आप जब उंगली कर रही थी तो मैंने आप को देखा था। फ़िर सुबह आप सेक्सी लग रही थी तो मेरा मन आपको देखने का कर रहा था तो आपको देखा।
मॉम बोली- तुझे कुछ होता है?
मैं बोला- हाँ, बहुत कुछ होता है !
उन्होंने मेरे लंड को पकड़ लिया मेरा तो लौड़ा बिल्कुल खड़ा हो गया।
वो बोली- अब समझी कि तू आजकल क्या कर रहा है।
वो बोली- अब जब तू सब कुछ जानता है तो चल मेरे साथ सब कुछ कर !
मैं बोला- नहीं !
तो बोली- पापा से बोलना है क्या !
मैं बोला- नहीं !
बस फिर क्या था, मैं तो चालू हो गया, उनके पूरे कपड़े उतार कर उनको चाटने लगा और चूत चाट चाट कर तो उनको झाड़ दिया।
मैं बोला- कैसा लगा?
बोली- अच्छा लगा ! लगे रहो !
फ़िर मैंने उनकी चूत मारी ! काफी देर तक मारने के बाद वो झड़ गई, फिर बोली- बेटा ! मज़ा आ गया !
कुछ देर बाद मैं भी झड़ गया। उस रात हमने चार बार चुदाई की।
अब तो रोज़ ही होता है !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक दिन मेरे पापा को शक हो गया, लेकिन मम्मी ने बात सम्भाल ली। अब मेरी मम्मी और मैं रोज़ रात को साथ ही सोते हैं। मम्मी और मैं बहुत ही खुश हैं।कैसी लगी हम डॉनो मां बेटे की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मां की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PoonamSharma

दीदी की चुदाई बाथरूम में

मुझे मेरी दीदी बचपन से ही बहुत चाहती थी क्यूंकि मैं घर में सबसे छोटा हूँ। हम दोनो एक ही कमरे में सोते थे और दीदी के 20 साल की होने तक तो हम एक ही बेड प़र सोते थे।प़र एक दिन माँ ने हमे अलग-अलग बिस्तर प़र सोने को कहा। मैंने हमेशा से ही दीदी को चोदने की सोची थी और रात को दीदी के सोते समय  दीदी की चूचियाँ और चूत कभी कभी दबा लेता था। प़र डर के कारण आगे कुछ नहीं कर पाता था। हाँ, बाथरूम में मुठ ज़रूर मार लेता था। दीदी को चोदने को मेरा बहुत मन करता था।अब भारती दीदी वापस आ गई थी। सो मैं रोज उससे अच्छी अच्छी बातें करने लगा ताकि दीदी को किसी पुरानी घटना की याद न आये।

एक दिन भारती दीदी बाथरूम से नहाकर आ रही थी तो अचानक मेरी नज़र उन पर पड़ गई, शायद बाथरूम में तौलिया नहीं था, वो गीले बदन पर गाउन पहने थी। भारती दीदी के कपड़े शरीर से चिपके हुऐ थे और वो बहुत ही सुन्दर लग रही थी।उस दिन फिर से मैंने मुठ मारी।हम दोनों हमेशा कंप्यूटर प़र गेम और चैट करते रहते थे। एक दिन दीदी साथ वाले कमरे में सो रही थी। मैंने कंप्यूटर प़र जानबूझ कर अन्तर्वासना की एक कहानी 'दीदी की चुदाई' पढ़नी शुरू की। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अचानक दीदी पास आकर बैठ गई और उसने वो कहानी पढ़ ली उसने मुझसे कहा- तुम यह सब पढ़ते हो क्या?मैं चुपचाप उनको देखने लगा। मैंने मौका देख कर उसके होठों पर चूम लिया। भारती दीदी ने मुझे पकड़ कर अलग कर दिया और कहा- मार खाएगा तू !और दीदी वहाँ से उठ कर जाने लगी। जाते समय मेरी तरफ देख रहस्यमयी मुस्कान दी। मैंने भी मुस्कुराते हुए दीदी की तरफ देखा।थोड़ी देर में दीदी ने मुझे आवाज़ दी और सोने के लिए कहा। मैं सोने आ गया। बातों बातों में दीदी ने मुझे अन्तर्वासना की कहानी के बारे में मुझे पूछा। मैने भी सब बता दिया।दीदी ने मेरी तरफ देखा, मैंने मौका देख कर फ़िर उसके होठों पर चूम लिया। भारती दीदी ने मुझे पकड़ कर अलग करने की कोशिश की लेकिन मैंने उन्हें छोड़ा नहीं और चूमता रहा।मैं भारती दीदी के होठों को अपने होठों से चिपका कर चूमे जा रहा था, वो बेतहाशा पागल हो रही थी।फिर मैंने दीदी के स्तनों की तरफ हाथ बढ़ाया। दीदी के स्तनों अग्र भाग को अपनी उँगलियों से चुटकियों से पकड़ कर गोल गोल घुमाया तो दीदी सिसिया उठी। मैंने दीदी के चुचूक पकड़ लिए थे। उनके चुचूकों को जोर से मींसा तो दीदी फिर से सिसिया उठी, मगर दर्द से। दीदी के चुचूक तन गए थे, जो ब्रा में उभर आये थे। मैंने उन पर अपनी उँगलियों के पोर को गोल गोल नचाते हुए छेड़ा, इसी बीच मैंने दीदी का गाउन उतार कर फेंक दिया। दीदी के कोमल गौर-बदन की एक झलक देखने को मिली।

अन्दर दीदी ने काले रंग की ब्रा पहन रखी थी। दीदी ने अन्दर सफ़ेद रंग की पैंटी पहनी थी। मैंने जिंदगी में पहली बार किसी लड़की को इस रूप में देखा था। भारती दीदी का पूरा शरीर जैसे किसी सांचे में ढाल कर बनाया गया था। काली ब्रा में उनके शरीर की कांति और भी बढ़ गई थी। ब्रा के अन्दर दीदी के बड़े बड़े स्तन कैद थे, जो बाहर आने को बेकरार लग रहे थे। मैंने ब्रा के स्ट्रेप को कंधे से नीचे उतार कर स्तनों को ब्रा की कैद से पूरी तरह आजाद कर दिया। भारती दीदी को नग्न देख कर मेरी हालत खराब हो गई। मैंने कभी किसी के स्तनों को छूकर नहीं देखा था फिर से बड़ी बुरी तरह उन्हें मसला।फिर दीदी ने मेरी टी-शर्ट को ऊपर की ओर उठा दिया। दीदी ने अपने हाथों से मेरा अंडरवियर उतार दिया, फिर लिंग को पकड़ लिया। भारती दीदी मेरे लिंग को देखकर आश्चर्यचकित रह गई। दीदी ने लिंग को प्यार से सहलाया। दीदी के हाथ के स्पर्श से ही लिंग में कसाव बढ़ गया। दीदी ने मुस्कुराते हुए मुझको को चूमा। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर दीदी तुरंत उसे चूसने लगी। दीदी को इस तरह से करते हुए देख मजा आ रहा था। दीदी ने बाकी लिंग को बाहर से चाट चाट कर चूसा तो मैं भी उत्तेजना से कांप गया।मैंने उनकी जांघों के ठीक बीच में अपना हाथ फिराया और दीदी की पैंटी की इलास्टिक में उँगलियाँ फंसा कर पैंटी को उतार लिया और हाथों से हल्के हल्के दीदी के योनि प्रदेश को सहलाने लगा तो दीदी गुदगुदी के मारे उत्तेजित हो रही थी।कुछ देर बाद भारती दीदी बहुत ही उत्तेजित हो गई थी हम दोनों ही अब काफी उत्तेजित हो गए थे। अब मैं दीदी की टांगों को फैला कर खुद बीच में लेट गया। मैंने भारती दीदी की योनि को सहलाया, उनके चूत की खुशबू मस्त थी। फिर उस पर पास में पड़ी बोतल से वैसेलिन निकाल कर लगाई। भारती दीदी की चूत का छेद काफी छोटा था। मुझे लगा कि मेरी प्यारी भारती दीदी मेरे लण्ड के वार से कहीं मर न जाये।
दीदी उत्तेजना के मारे पागल हो रही थी। दीदी ने मुझे लण्ड अन्दर डालने के लिए कहा।

भारती दीदी की योनि को अच्छी तरह से वैसेलिन लगाने के बाद फिर से दीदी की टांगों के बीच बैठ गया। मैंने दीदी की कमर को अपने मजबूत हाथों से पकड़ लिया। मैंने कोशिश करके थोड़ा सा लिंग अन्दर प्रवेश करा दिया। दीदी हल्के हल्के सिसकारियाँ ले रही थी। फिर मैंने एक जोरदार झटका मारकर लिंग को काफी अन्दर तक योनि की गहराई तक अन्दर पहुँचा दिया कि दीदी की चीख निकल गई।मैंने दीदी के चेहरे को देखा तो मैं समझ गया कि दीदी को दर्द हो रहा है। मैंने दोबारा वैसा ही झटका मारा, तो दीदी इस बार दर्द से दोहरी हो गई। मैंने यह देख कर उनके होठों पर चूम लिया वरना दीदी की आवाज़ दूर तक जाती।दीदी एक मिनट में ही सामान्य नज़र आने लगी क्योंकि उनके मुँह से हल्की हल्की उत्तेजक सिसकारियाँ निकल रही थी। मैंने फिर से एक जबरदस्त धक्का मारा, दीदी इस बार दहाड़ मार कर चीख पड़ी। मैंने देखा कि इस बार दीदी की आँखों में आँसू तक आ गए थे। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने दीदी के होठों को अपने होठों से चिपका लिया और जोर-जोर से उन्हें चूमने लगा और साथ ही दीदी के स्तनों को दबाने लगा। दीदी भी उतनी तेजी से मुझे चूम रही थी।मैं हल्के हल्के अपनी कमर चला रहा था। अब दीदी धीरे धीरे सामान्य होती लग रही थी। मुझे इतना समझ आया कि जब दीदी को दर्द कम हो रहा है। दीदी ने अपने टांगों को मेरी कमर के चारों ओर कस लिया। मैंने ने दीदी के होठों को छोड़ दिया और पूछा- अब मज़ा आ रहा है क्या ? दर्द तो नहीं है ?दीदी बोली- आराम से करते रहो ! मैंने एक जोरदार झटका मारकर अपना लिंग दीदी की योनि में काफी अन्दर तक ठूंस दिया। इस बार दीदी के मुँह से उफ़ भी नहीं निकली बल्कि वो आह.. सी.. स्स्स्स...सस... की आवाज़ें निकाल रही थी।दीदी बोली- मुझे बहुत अच्छा लग रहा है !

यह देखकर तीन चार जोरदार शॉट मारे और लिंग जड़ तक दीदी की योनि में घुसा दिया और अपने होठों को दीदी के होठों से चिपका उनके ऊपर चित्त लेटा रहा।अब झटकों की गति और गहराई दोनों ही बढ़ा दी। आधे घंटे त़क दीदी के रास्ते में मैं दौड़ लगाता रहा फिर दीदी ने अपनी टाँगें ढीली कर ली। दीदी स्खलित हो गई थी। कुछ ही देर में मेरा शरीर ढीला हो गया। काफी देर मैं दीदी के ऊपर लेटा रहा। दीदी मेरे होठों को बार बार चूम रही थी और आत्मसंतुष्टि के भाव के साथ मुस्कुरा रही थी। मैंने दीदी के कामरस को खूब पिया उन्होंने मेरा सर पकड़ कर अपनी चूत में चिपका दिया था। भारती दीदी को रात में 3 बार चोदा। हर रात मजा कर रहा हूँ।कैसी लगी दीदी की सेक्स कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी दीदी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/BhartiSharma

शादीशुदा चचेरी बहन की ख़ूब चुदाई

मैं गर्मी की छुट्टियों में मुम्बई गया था। मुम्बई में मेरी चाची रहती हैं। वह वहाँ पर चेम्बुर में रहती हैं। मैं जब मुम्बई गया था तब चाची के पास मेरी चचेरी बहन भी आई हुई थी। उसका नाम रीना है। उसकी शादी हो चुकी है। उसकी उम्र चौबीस वर्ष की है। वो दिखने में बहुत ही सेक्सी है। उसके कपड़े पहनने के ढंग और रहन-सहन भी बहुत सेक्सी हैं। उसे कोई भी देखे तो उसका लण्ड खड़ा होना ही होना है।एक दिन चाची को गाँव जाना पड़ा। वह गाँव चली गई। घर पर मैं और रीना दीदी दोनों ही थे। उस दिन शाम को मैं बोर हो गया था, इसलिए मैंने दीदी से कहा,"क्यों ना फिल्म देखने चलते हैं।" वह भी राजी हो गई, और हम फिल्म देखने चले गए। उस दिन हमने मर्डर फिल्म देखी। फिल्म में काफी गरम दृश्य थे। फिल्म देखने के बाद हम घर आए। हमने रात का खाना खाया। रात काफ़ी हो चुकी थी।

आपको तो पता ही होगा, मुम्बई में घर बहुत छोटे होते हैं। उस पर मेरी चाची एक कमरे के घर में रहती हैं। वहाँ सिर्फ एक ही बिस्तर के बाद, थोड़ी और जगह बचती थी। अब हमें सोना था। सो मैंने अपनी लुँगी ली और दीदी के सामने ही अपने कपड़े बदलने लगा। मैंने मेरी शर्ट खोली, बाद में पैन्ट भी। मेरे सामने अब भी मर्डर फिल्म के दृश्य घूम रहे थे, इसलिए मेरे लंड खड़ा था। वो अण्डरवियर में तम्बू बना रहा था। मेरे पैन्ट निकालने के बाद मेरे लण्ड की तरफ़ दीदी की नज़र गई, वह यह देखकर मुस्कुराई। मैंने नीचे देखा तो मेरे अण्डरवियर में बहुत बड़ा टेन्ट बना हुआ था। मैं शरमाया और मैंने मेरा मुँह दूसरी ओर घुमा लिया, फिर लुँगी बाँध ली।पर लुँगी के बावज़ूद मेरे लंड का आकार नज़र आ रहा था। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उस हालत में मैं कुछ भी नहीं कर सकता था। फिर मैंने यह भी सोचा कि दीदी यह सब देखकर मुस्कुरा रही है, उसे शर्म नहीं आ रही है, तो फिर मैं क्यों शरमाऊँ?मैं बिस्तर पर जाकर सो गया। फिर दीदी ने आलमारी से अपनी नाईटी निकाली और कमरे का दरवाज़ा बन्द कर लिया, उसने साड़ी उतारी। वाऊ... क्या बद़न था। वह देखकर तो मैं पागल ही हो गया और मेरा लंड उछाल मारने लगा। उसने अपनी ब्लाऊज़ निकाली और बाद में अपनी पेटीकोट भी निकाल दी। वह मेरे सामने सिर्फ ब्रा और पैन्टी में खड़ी थी। उसे उस हालत में देखकर तो मैं पागल ही हो रहा था। लेकिन वह मेरी दीदी थी, इसलिए नियंत्रण कर रहा था। मुझे डर भी लग रहा था कि मैं कुछ कर ना बैठूँ और दीदी को गुस्सा आ गया तो मेरी तो शामत आ जाएगी। उसने नाईटी पहन ली। उसकी नाईटी पारदर्शी थी, जिसमें से उसका सारा जिस्म नज़र आ रहा था।वह मेरे पास आकर सो गई। हम दोनों एक ही बिस्तर पर सोए थे। लेकिन उस रात मुझे नींद नहीं आ रही थी। मेरे सामने उसका नंगा जिस्म घूम रहा था। और उसके मेरे पास सोने के कारण मेरा तनाव और बढ़ा हुआ था। लेकिन कुछ करने की हिम्मत भी नहीं हो रही थी।

आधे घंटे तक तो मैं वैसे ही तड़पता रहा। लेकिन बाद में मैंने सोचा कि ऐसा मौक़ा बार-बार नहीं आने वाला। अगर तूने कुछ नहीं किया तो हाथ से निकल जाएगा। मैंने सोच लिया थोड़ा रिस्क लेने में क्या हर्ज़ है। और मैं थोड़ा सा दीदी की ओर सरक गया। दीदी मेरी विपरीत दिशा में मुँह करके सोई थी। मैंने मेरा हाथ उनके बदन पर डाला। मेरा हाथ दीदी के पेट पर था। मैंने धीरे-धीरे मेरा हाथ उनके पेट पर घुमाना चालू किया। थोड़ी देर बाद मैंने अपना हाथ उनकी चूचियों पर रखा। उसकी चूचियाँ काफ़ी बड़ी और नरम थीं। मैंने उसकी चूचियाँ धीरे-धीरे दबानी चालू कीं। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसने कुछ भी नहीं कहा, ना ही कोई हरक़त की। मेरी हिम्मत काफ़ी बढ़ गई। मैंने अपने लंड को उसके चूतड़ पर दबाया और उसे अपनी ओर खींचा और फिर धीरे-धीरे मैं अपना लंड उसके दोनों चूतड़ों के बीच की दरार में दबाने लगा। वह मेरी ओर घूम गई। मेरी तो डर के मारे गाँड ही फट गई।लेकिन वह भी मेरी ओर सरकी, तो मेरा लंड उसकी चूत पर दब रहा था और उसकी चूचियाँ मेरी छाती पर। मैं समझ गया कि वह सो नहीं रही थी, बस सोने का नाटक कर रही थी और वह भी चुदवाना चाहती है। अब तो मेरे जोश की कोई सीमा ही नहीं थी। मैंने उसे मेरी ओर फिर से खींचा, तो वह मुझसे थोड़ा दूर सरक गई। मैं डर गया, और चुपचाप वैसे ही पड़ा रहा।थोड़ी ही देर बाद उसने अपना हाथ मेरे लंड पर रख दिया और मसलने लगी। मैं बहुत खुश हुआ। उसने अपने हाथों से मेरी लुंगी निकाल दी और अण्डरवियर भी, और मेरे लंड को मसलने लगी। फिर उसने मेरे कान में कहा,"वीजू, तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है। तुम्हारे जीजू का तो बहुत छोटा है।"मैंने भी दीदी की नाईटी निकाल दी और उनको पूरा नंगा कर दिया। फिर मैं उनके ऊपर लेट कर उन्हें चूमने लगा। मैं उनके पूरे बदन को चूम रहा था। वह सिसकियाँ भर रही थी। मैं उसे चूमते-चूमते उसकी चूत तक चला गया और उसकी चूत पर अपने होंठ रख दिए। उसके मुँह से सीत्कार निकल गई। फिर मैंने उसकी चूत में अपनी जीभ डालनी शुरु की, वह अपने चूतड़ उठाकर मुझे प्रतिक्रिया दे रही थी।

मेरा लंड अब लोहे जैसा गरम हो गया था। मैं उठा और उसकी छाती पर बैठ गया और मैंने लंड उसके मुँह में डाल दिया। चचेरी बहन मेरा लंड बड़े मज़े से चूसने लगी। मुझे बहुत मज़ा आ रहा था। मैंने बाद में अपना लण्ड उसकी दोनों चूचियों के बीच में डाला और उसे आगे-पीछे करने लगा। वाऊ... क्या चूचियाँ थीं उसकी, मैं तो पागल हुआ जा रहा था। थोड़ी देर बाद उसने कहा,"वीजू, प्लीज़, अब रहा नहीं जाता, लंड मेरी चूत में डाल दो और मुझे चोदो।" आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं उसके ऊपर फिर से लेट गया और मैंने मेरा लंड हाथ में पकड़ कर उसकी चूत के ऊपर रखा और एक ज़ोर का झटका दिया तो मेरा आधा लण्ड उसकी चूत में घुस गया।मैंने दीदी से पूछा,"दीदी, तुम तो कह रही थी कि जीजू का लण्ड मेरे लण्ड से काफी छोटा है, तो तुम्हारी चूत इतनी ढीली? एक ही झटके में आधा लण्ड अन्दर चला गया।"इस पर वह मुस्कुराई और बोली,"अरे वीजू, तुम्हारे जीजू का लण्ड छोटा तो है, पर मेरी चूत ने अब तक बहुत से लण्ड का पानी चखा है।"फिर मैंने दूसरा झटका दिया और मेरा पूरा लण्ड उसकी चूत में चला गया। फिर मैंने उसकी चुदाई शुरु कर दी। वह भी अपनी कमर उठाकर मेरा साथ दे रही थी. उसके मुँह से आवाज़ें निकल रही थीं। वह कह रही थी,"वीजू... चोदोओओओ... और ज़ोर से चोदोओओओओ... अपनी दीदी की चूत आज फाआआआड़ डालो... ओह.. वीजू... डालो और ज़ोर से और अन्दर डालो..... बहुत मज़ा आ रहा है।"उसकी ये बातें सुनकर मेरा जोश और भी बढ़ जाता और मेरी रफ़्तार भी बढ़ती जा रही थी। फिर मैं झड़ गया और वैसे ही उसके बदन पर सो गया और उसकी चूचियों के साथ खेलने लगा। उस रात मैंने दीदी की ख़ूब चुदाई की।कैसी लगी चचेरी बहन की चुदाई स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चचेरी बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PriyaKumari

प्यासी मालकिन की चुदाई कहानी

मै एक दुकान में नौकर  हु  मै  आप लोगो के साथ एक आसली  घटना सेयेर कर रहा हु जो काफी सेक्सी है मै आपने मालिक के घर मे ही रहता हु  मैलिक की बीवी काफी सुंदर थी उनकी सदी के मात्र 3 महीने पहले ही  हुआ था  एक  रत  मेरी नींद खुली और मै  पानी पिने के लिए उठा मै  जैसे ही आगन में पहुचा तो  मैलिक के रूम से कुछ आवाज सुनाई  दी मै धीरे से खिरकी के पास जाकर देखा  तो मालिक मालकिन को चोदने की तेरारी कर  रहे थे मै  छुप कर  देखने लगा मैलिक का लंड  काफी छोटा था और  मालकिन को ठीक से पेल नही परहे थे मैल्किन दोनों पैरप को फैला कर मालिक के लंड को आपने हाथो से सहला रही थी  मालिक मालकिन के बूर को सहला रहे रहे थे मालिकिन का बूर काफी फुल्ल हुआ था!
बूर के किनारे किनारे छोटे बल थे बूर में काफी रसदार  चिप चिप मनो बूर ख राहा हो की जल्दी से इस में करक लंड घुसेरो.मेरा लंड खारा हो गया था मन तो कर  रहा था की मालकिन के बूर को चूस लू और आपना लंड को उसके बूर के पास लेजाकर रगर रगर के लाल कर  दू !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरा मन बिलकुल बेचन हो गया आचनक मालिक को अक दिन कम से बहर जाना परा उस दिन दुकान बंद कर  के वह चले गये  घर में मै और मालकिन थी मेरी नजर हमेसा मालकिन पर ही रहता थी  मै ने मालकिन को कपरे लेकर बथरूम में जाते हुए देखा मै  जल्दी से छत पर चला गया वह से बाथरूम साफ नजर आता था मालकिन ने कपरे धोने के बाद नहाना सुरु किया  क्या कहु दोस्तों नजारा देखने लायक था उसने पहले आपने बेलौज को बॉटम को खोला उसे के उन्दर की चोली उजला रग का था बन्दुक की नोख की तरह चोख चोख चूची !फिर उसने चोली के हुक को खोला ऒऒऒऒ  ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह  मेरे लंड में आग लग गया  हो जैस मेरा लंड लगता  था की चढ़ी फार कर  बहर आजाये गा !उसने अपना सारा कपर उतर दिया;मेरा लंड और पेलने के लिए मचलने लगा मै बेकाबू होता जारा था  मै मूठ मरना सुरु करदिया तभी आचनक मालकिन की नजर मेरे पर परी और मालकिन ने मुझे मूठ मरते हुए देख लिया मै डरने लागा की मालिकन मुझे घर से निकल देगी पर आशा कुछ नही हुआ मालकिन ने मुझे इशारे से आपने बाथरूम  मे बुलाया और बिना कुछ बोले वह मेरे लंड  को चूसने लगी!मेरा लंड  तो पहले ही बेकाबू था मालकिन ने जैसे ही मुह में लेकर 2-3 बार चूसा मेरा सारा माल बाहर आगया !मालकिन ने बोल की आज रत को तुम मेरे रूम में सोना ,मै समझ गया की मालकिन की चुदाई  आज तो मै  ही करुगा i जैसे ही रात हुआ मै मालकिन के घर में गया मालकिन पहले से ही तेया बैठी थी बस उपर से पतली टी नाईट ड्रेस पहनी रखी  थी मै मालकिन के पास गया मालकिन ने मेरे कपरे उतरने लागी मै भी जल्दी से मालिकन के कपरे उतर दिया !

और मै मालकिन की चूची को चूसने लागा  चूऊऊऊऊउ  वूऊऊऊउ  आआआअ च्चुच्च्चुच्च्चु मालकिन के मुह से  आआआअ ऊऊऊऊउ की आवाज आ रही थी मालकिन को बहुत मजा आ रहा था थोरी देर मे मालकिन से मेरा  लंड चूसने लगी  मै भी काफी माजा  था मालकिन मेरे लंड को देख कर काफी खुस थी मेरा लंड 7" लम्बा ओर 4" मोटा था !  आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मै मालकिन की कछी (पैनटी) को थोर सा हटाकर आपने लंड  को रागरे लगा और मालकिन से बूर को चुसना सुरु किया  मालकिन थोरी ही देर में मालकिन के बूर से पानी निकलने लगा ! अब उन से बरदास नही हो हो रहा था उस ने जल्दी से मेरे लंड  को पाकर और बूर के पास सटा दिया !मै भी बेताब था मै ने धीरे धीरे उंदर डालना सुरु किया मालकिन भी पुरे जोस में थी मानों कोई पहली बार पेल रहा हो मै भी थोरी देर में जोर जोर से पेलना सुरु क्या आआआआआआअ  ऊऊऊऊऊऊऊ  हहहहहहाहा ऒऒऒओ  ईईईईईईईईइ  की आवाज मालकिन के मुह से निकल रहे थे !15-20 मिनिट के बाद मालकिन के बूर से माल (स्पन) बहर निकलने लगा ! इतना स्पन निकला की मनो लग राहा था की  आज तक किसी ने मालकिन को चोदा ही नही हो  मालकिन काफी संतुस्ट थी और मै आज भी मालकिन को  अपनी बीबी की तरह मजे उठता हु!  जब भी मालिक नही रहते उस दिन मालकिन की चुदाई पकी है !कैसी लगी मालकिन की चुदाई स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी मालकिन की प्यासी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SipraKumari

मेरी रस भरी प्यासी चूत की कहानी

मेरा नाम सोनिया है मै  BA-2  क्लास में पढती हु मै अन्तेर्वासना की बहुत बरी फैन हु!  मै  ने इसे पढ़ कर बहुत कुछ सीखा है लरको के बारे में ,मै  आप  लोगो के साथ एक सची बात बाता  ने जा  रही  हु पर उस से पहले मै अपने बारे में आप लोगो को बता दू  मुझे लरको को सताना अछा  लगता है बहुत माजा आता है मै  रंग गोरा,पतली कमर  देखने में में बिलकुल सेक्सी लगती हु ! पतली कमर 5"1" लम्बा , मेरी  चूची की साइज़ जादा बारा नही है ! लिकिन इतना तो है की अगर मै किसी को दिखा दू तो लंड से पानी निकल जाये ! मुझे जब चुदवाने का जोस चढ़ता है तो मेरी चूची का साइज़ बढ जाता है और चूची का निपल एक टावर की तरह खार हो जाता है


मेरा बूर का साइज़ 2" लम्बा और फुल्ल हुआ है मै ने आभी सेक्स नही क्या है पर मै रोज आपने बूर में फिग्रिंग करती हु इसके चलते मेरे बूर का साइज़ कुछ बढ़  है और उस के उपर थोरे से  बल है !मेरे बूर के उपरी भाग जो छोटा सा बिंदु की तरह है अगर गलती  से भी उस पेर मेरा हाथ चला जाये तो मेरे बूर  आग लग जाता है जी करता है की किसी से भी जा कर चोद्वा लू  !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेरा पीरिएड 22 तारीख को आता है जब मेरा पीरियड आता है तो मै बहुत परेसान हो जाती हु दर्द भी होता है और मेरे  से पानी और बल्ड जैसा निकलता है और उसके 2-3 दिन बाद मुझे सेक्स करने का मन  करता है मेरे बूर का रंग गोरा है  ये बल कभी कभी मेरे बुर के पास गुदगुदी कर देता है उसके बाद मै और बेकाबू हो जाती हु पर मै क्या करू  मेरा बॉय फ्रेंड बेवफा निकला ,मै  तब की बात कर रही हु जब मई 10+2 क्लास में पद्धति थी वह  लरके और लार्किया साथ में पढ़ते थे एक सुमित नाम का लारका  था जो मुझे हर रोज लाइन मरता था मै भी थोरी बहुत  उसे चाहती थी वह  हर रोज मेरे  गली में साम को आता था मै भी  उस टाइम पर छत पे आ जाती  थी एक दीन मै स्कूल से आ रही थी तो वह रस्ते में मिला और उसने मुझे एक लेटर दिया और बोल इसे अकेले मै पढ़ लेना मेरे दिल की बात है इस लेटर में, मै भी उस के लेटर को लेली मै ने अकेले में उस लेटर को पढ़ा उस में मोबाइल नंबर भी था हम दोनों की बात होने लगी बहुत दिन तक हमरी आपस में बाते चलती रही एक दिन उस ने कहा की सेक्स वाली बाते आज करेगे !मै ने कुछ नही बोल

वह - तुम कितने नम्बर की बरा पहनती हो ?
मै-28''
वह - मै उस का बोटम खोल  हु
मै- उस की ग्राम सासे मेरे रोम रोम को भरका रही थी !
वह - मै तुहारे चूची को दबा रह हु
मै- मुझसे रहा नही गया  मै अपने हाथो से आपनी चूची को दबाना सुरु कर दिया मेरे चूची के दोनों निपल खरा हो गया ,
मै आपने चूची  के निपल को होटों से चाटने लगी !मै कैसे बताऊ आप लोगो से की लार्किया बहुत जल्दी जोस में आ जाती है
वह - मै तुहारे बूर की चडी (कछी )को उतार रहा हु ! और मै तुम्हारे बूर को चाट रहा हु  चूऊऊऊऊऊऊऊउ ,,तातातातातातातात ,चुचुचुचुमै- आपने बूर के उपरी हिसे को सहलाने लगी मेरे बूर अंदर अक अजीब सी  हलचल मची हुई थी जी तो कर   रहा  था की कुछ भी आपने उंदर डाल  के हिलोर दू ! फिर  मै ने ने आपनी अंगुली को बूर के अंदर डालना सुरु किया मत पूछो यारो जब मेरी अंगुली मेरे बूर के उपरी हिसे को टच करती थी तो मै और जोस में आजाती थी मन  था की मै अपने पुरे हाथ को बूर के अंदर दल दू पर कैसे करती फिर मुझे रहा नही गया मै  ने रत को आपने किचेन से बेलन लेकर बाथरूम में गई और मै  ने बेलन से बूर को बहुत मसाज किया मेरे बूर से आब पानी जैसा निकलने लगा ! आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मै और जोस में आकर तेजी से हिलाने लगी! और थोरी देर बाद मेरे बूर के अन्दर गुदगुद सी होने लगी लगता था सायद आब लंड के बिना कम नही चलेग !  उसने कहा की मै तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हु पर मै  कैसे कहती की मई भी सेक्स की प्यासी हु मै लरकी जो  थी ! फिर हम दोनों ने अक दिन पालन बने और मै टियुसन के बहाने बनाकर एक होटल को 2 घंटे के लिए लिया उस टाइम दिन 11 बज रहा था !हम दोनों जैसे ही रूम में घुसे अक दुसरे के कपरे खलने सुरु कर दिया बिना टाइम गवाए ! उसे फिर उसने मुझे बाथरूम से लगे और मुझे कहा की तुम मुतो मै देखूगा मै ने जैसे ही पेसब किया की उसे ने मेरे बूर को चाटने लगा !मै ने झट से मुझे बेड पर गिर दिया और मेरे बूर के साथ खलने लगा कभी अंगुले से मेरे बूर को पेलता तो कभी आपने जीभ से, मै भी थोरी देर में उस के लंड को मुह में लेकर ब्रश की तरह चुसना सुरु कर  दिया फिर वह मुझे आपने लंड से मेरे बूर को पेलने लगा !उस ने मेरे दोनों पैरो को फैला कर मेरे बूर को बे रहमी से पेल रहा था मुझे तो मजा भी आ राहा था और थोर सा दर्द भी हो रहा था ! हम दोनों ने करीब 30 मिनट तक सेक्स किया !

उस के बाद उस के लंड से स्पन बहार निकल गया !उस के बाद से हम दोनों  को कभी भी सेक्स करने का मन करता है सेक्स करते है और दोस्तों मै आप को बता दु की सेक्स इतना मजा किसी भी चीज में नही है मेरी ये सेक्स वाली कही आप को कैसी लगी आप मुझे इस साईट पर कोम्मेंट केरे के जाहिर करे !मै  जरुर पढूगी और आप के साथ कमेंट मै भी करुगी  !कैसी लगी मेरी सेक्स कहानियां , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SoniaSharma

ट्युशन टीचर की चुदाई कहानी

मै एक टीचर के घर पर पढने जा ता था वाहा  पर लार्किया भी पढती  थी ! लगभग 2-3 महीने के बाद वह पर एक  लरकी आई  जो की काफ़ी गोरी ,पति सी कमर ,चूची सुक्रेल (चुस्त दुरुस्त ),लाल रसगुल की तरह होठ ,देखने से काफी आमिर घर की लग रही थी !उसका नाम पल्लवी था कुछ दिन बाद मै  उसके सामने में बैठा था आचनक  मेरा कलम बेंच से नची गिरा, मै  ने जैसे ही उठाने की कोस्सी की की आचनक उसका कच्छी (पंटी ) देखा लाल रंग का थी और उन में उस के बूर (चुथ ) का साइज़ साफ झलक रहा था !उसे देखते है मेरा लंड खारा  होने लागा !
मै  पेसब के बहाने बाथ रूम  में गया और मूठ मारा ,फिर मै ने सोचा की मै कब तक मुठ मरता रहुगा ! मै  ने उसे पटाने का पालन बनाया ,1-2 महीने में हमारी फ़ोन पर बाते होने लगी !
एक  दिन मै ने  रात को सोचा की आज सेक्सी बात करेगे रात  को मई ने 11pm को  फ़ोन किया !
मै -क्या कर  रही हो ?
वो -कुछ नही !
मै - तुम्हे सेक्स करने का मन नही करता ?
वो-कभी  कभी
मै -गरम सासे लेकर बोली मानो की उसे भी सायद भुत चढ़ा हो चुदाई का ;फिर मै  ने कहा की किस दो ;
वो-ठीक है करो
मै-आह्ह्ह्ह्ह्ह की ससे बहते हु बोली .मै  ने फ़ोन पर किस  करना सुरु किया ;थोरी देर बाद ओह बोली की मेरे नीचले हिसे में किस करो मै  करता  गया ! कुछ देर बाद ओह बोली की  की मेरे चूची बहुत टैट हो गया है और  बूर से पानी जैसा चिसिपा संपन निकल रहा है मै भी इदर आपने लंड को सहला रहा था ,मेरा लंड से संपन  निकलने वाला था ! फिर मै  ने कहा की अपने बूर में फिंगर डाल कर  फिग्रिंग  करो बहुत आछा फिल  होगा ;ओ करने लगी ;ऒऒओऐऐ  आह्ह्ह्ह्ह  ईईईहूऊऊ  की आवाज सुन मेरे लंड  से संपन निकल गया .
थोरी देर में ओ भी सनत  हो गई !फिर हम दोनों ने अक दिन पालन बनाया सेक्स का , आचनक से उसकी दोस्त की सदी होन  वाली थी !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वाहा पर ओ  रात भर रुकने वाली थी मई सोच लिया की उस दिन उसे चोद कर  ही  रहुगा ;मै  ने उस से बोला की तुम 10pm के बाद पुराने गार्डन में मिलना वाहा पर ओ आगई ;उस दिन ओ जादा ही सुन्दर लग रही थी जसे ही उसे कुछ बोलना चाह मै ने उस की मुह को बंद करदिया बोल आज बाते नही कुछ और करेगे ;मै  ने उसे से बिना कुछ पूछे किस करने लगा,सुरु में तो थोरी सी फ़ोर्स कर रही थी लिकिन  थिर देर बाद उस ने बिलकुल छोड़ दिया मानो ओह कह्ना चाहती है की जो करना है करो,थोरी देर बाद ओ भी सपोर्ट  सरने लगी।अपने बूर को चोद्वाने का मन सायद अब से हो गया !एक एक कर के मै  ने सरे कपरे  उतर दिया ;बूर को चाटना सुरु किया!उस के बूर का स्वाद तो बिलकु लंड को चूसने लायक था बूर के रस मेरे लैंड को और उतेजित कर रहा था उस की  आवाज ईस्सस आह्ह्ह्ह्ह्ह ऒऒऒऒओ कर के आरही थी बूर में बल भी था वह आपने दोनों फुले हुए मामे को अपने होटो से चाट रही थी  !

फिर मै  ने आपने मोटे से लंड को उसके मह ने डाल कर  पेलने लगा वह मेरे लंड को लेमनचूस  तरह ले क्र चूस चूस कर चाट रही थी  मेरे लंड  को आपे चूची  से रगर कर  आपने मुह में गप गप दल रही थी ! मुझसे रहा नही गया  मै ने उसे निचे चादर  बिछा  कर  सोला दिया और  बूर में लंड डाल कर चोदना  सुरु किया उस का बूर का साइज़ बिल कुल मेरे लंड को मस्ट सेट हो रहा था लंड बूर में घुस कर चप  चप को आवाज निकल रहा था  वह  फर्स्ट बार सेक्स कर रही थी तो उसे दर्द जादा हो रहा था मै ने थोरी ही देर बाद अपने लंड  को उस के बूर से बहर लिकल लिया फिर वह दुबारा डालने नही दे रही थी मै ने बातो में फसकर आचनक से कस कर पेल दिया  उसको मानो रत में दिन हो गया हो आख में आसू आने लगे .मै जोर जोर से पलता रहा थोरी देर बाद उसे भी मजा आने लागा !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर ओ  मुझे कस कर पकर लिया किस करने लगी और बली चोद चोद  कर मेरे बूर को आज लाल कर दो ,मै ने काफी दिनों से इतजार किया है इस दिन का मै और तेजी उसे पेलने लगा ! उस का बूर से आब पानी आने लगा था ओह जल्द  ही झर गई फिर मै ने थोरी देर  बाद फिर से चुदाई सुरु की  वह आपने चूची को मसल रही थी मै ने इस बार उस के बूर को आपने  लैंड के उपर बैठा कर पेल रहा था !लगभग 5 मिनट के बाद मेरे लंड का  माल बहर आने की लिए बेताब हो गया !मै  ने आपने माल को (स्पन )को उस के बूर के अंदर ही दल दिया ! ,,आज भी मै  जब भी घर  जाता हु बिना चोदे मै  नही आता ;अब तो आदत हो गया है चोद्ने का !कैसी लगी टीचर की चुदाई स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी टीचर की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SapnaSharma

चोद चोद कर रंडी की गांड और चूत दोनों को फैला दिया

मेरा घर GB रोड से पास ही है घर नही रूम कह  सकते है मै ने  उस रूम को किराये पर लिया है  सायद आप लोगो GB  रोड के बारे में सुना होगा अगर आप लोग नही जानते तो मै आप लोगो से अगर अक लाइन में बताना चाहू तो रंडियों का कारखना आप कह सकते है  मै अक्सर उस रस्ते से आता जाता हु उस में से हर रोज किसी को आपने रूम में  लाकर पेलता  हु एक दिन की बात है मै ने एक  नई माल को पटा लिया था मै ने उसे आपने रूम में लेक  कर आया और बोला आज रत को तुम यही रुकोगी उस ने तो थोर सा नखरा किया लेकिन बाद में ,वह मान गाई  !
मै ने पास के होटल से कहने की कुछ चीजे मंगाई और साथ में दारू भी !खाना कहने के बाद मै ने उस से कहा की दारू तू आपने होटो से पिलावे , उस ने आपने आपने मुह में दारू लेकर मेरे मुह दल रही थी !फिर उस ने आपने सरे कपरे दिया और आपनी बूर को मेरे मुह पर कहकर थोर थोर  दारू आपने बूर से पिलाने लगी बूर से  दारू पिने का माजा था ही कुछ और था  मै ने रात को रंडी को बेड पर लेटा दिया और दोनों पैरो को चूमने लगा और धीरे धीरे मै उस के बूर के पास पहुच रहा था उस के मुह से आआआआआआआआआअ ,,ऊऊऊऊऊऊऊ की आवाज निकल रही थी मै थोरी देर में बूर के पास आकर उस की पानटी को थोरा सा हटाया और बूर को हाथो से मसलने लगा, उस ने बूर के सारे बल को साफ कर के आई थी मै फिर बूर को मीठे रसगुले की तरह चूसने लागा चुचुचुचुचु य्य्य्य्य्य्य ;मै  बूर में  पसीने को वह चाट रहा था बुत ही प्यार से,और फिर मै आपने मुह के जीभ से उस के बूर में पेल राहा था वह भी पुरे जोस में आगई थी थोरी देर में उस के बूर से पानी निकलने  लागा मै भी कम नही था मै उस के बूर के सरे पानी को चटा जा रहा था उस हसीना के बूर में पसीना देख कर मेरा लंड जोर जोर से पेलने के लिए बेताब था !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर मै ने अपनी पैट को उतरा और अपने लंड को उस के मुह में घुसेर दिया और मुह में पेलने लागा  वावावावावावावा  ऒऒऒऒऒऒओ फुक्कफुक्कफुक्कफुक्क मै ने अपने पुरे लंड को उस के कन्ठ तक घुसेर राहा था उस के आखो में से आसू निकल रहे थे फिर भी मै मुह में पेले जारहा था  फिर मै ने उसे बेड पर लेटा दिया और दोनों पैरो को फैला दिया और उस के बूर पर थूका कर लंड को रगरने लागा !बूर में लसदार के करन बूर से चप चप चप चप चप चप की आवाज आ रही थी और उस के मुह से आआआआआआ फ़्क्फ़्क्फ़्क्फ़्क्फ़्क्फ़्क्फ़्फ़्क   की आवाज निकल रही थी !

मै उस के चूची को पकर कर  मिस रहा था !उस के बूर के अंदर तो मनो की अजीब रस भरा हुआ हो मेरे लंड जब उसके बूर में जाता था तो लगता हा की चपक गया बूर में चप चप आवाज आरहा था फिर मै ने उसके उल्टा क्र के बूर में  लैंड को रख कर धिरे धिरे पेलने लगा !उस के बूर का रंग लाला हो गया था !और बूर के उपरी हिसे से हसीना के बूर से पसीना जैसा मॉल था थोरी देर में उस के बूर से वाइट रग का मॉल बहर आने लागा और मेरा लंड  अब एक रेल की तरह आगे पीछे आता जाता राहा  !लग रहा था की सायद वह अक बार झर गई थी फिर मै ने आओने लंड को उस के बूर से बहर निकल और उल्टा हो कर मै ने आपना लंड उसके मुह में और उसका बूर अपने मह में ले कर हम दोनों अक दुसरे को चाटने लगे लिंग को चाटने लगे  ही  में वह फिर से जोस में आ गई !आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। ही  में वह फिर से जोस में आ गई इस बार में ने आपने मोटे लंड को उस के बूर के नची वाले गंड में दल दिया ! गार तो इतना मस्त  था की लग रहा था की आज तक किसी ने इस के गर को पेल नही हो थोरी देर में फिर मै ने लंड को उसके बूर के अंदर दाल दिया !बूर का छेद थोर सा फ़ेल गया था इस कर के बूर के लालगुदी नजर आरहा रहा था   मेरे लंड कोबूर अंदर जाने में कोई दिक्त नही हो रही थी!  मै और तेजी से पेल में लगा ,उस के मुह से आआआआआअ ऊऊऊऊऊऊऊऊउ की आवाज निकल रही थी मै एक दम जोर जोर से और पेलने लगा मेरे पैर उसके चुतर को गार को चट चट  मर रहा था  !लगभग 5 मिनिट के बाद  मेरा भी लंड का माल अक दम मेरे लंड के मुह पर आ गया और मै ने उस सरे माल (सप्न) को उसके बूर के उपरी हिसे में गिर दिया,आआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह अब जा कर मेरे लैंड को आराम  मिला !कैसी लगी रंडी की चुदाई की कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई रंडी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/HasinaSharma

सहेली के बॉयफ्रेंड ने मेरी सील तोड़ी

मैं अठारह साल की हु, मैं खूबसूरत हु, चूचियाँ तो बहुत बड़ी नहीं पर साइज की है, मैं इससे बड़ा भी नहीं चाहती हु, मैं अपने फिगर का काफी ध्यान रखती हु, मेरा कोई बॉय फ्रेंड नहीं है पर अब बनाना चाह रही हु, मैं अभी जवानी की दहलीज पे हु, मेरे लिए अभी सब कुछ नया नया है, मजा भी तभी आता है जब आपके पास सब कुछ नया नया हो, आज कल मुझे सेक्स के तरफ रुझान बढ़ गया है, मैं कोई भी खूबसूरत लड़के को देखती हु, तो ऐसा लगता है की कास वो मुझे चूमता और मेरी बूब्स को दबाता, मेरी गांड पे हाथ फेरता, पर मैं फिर से अपने मन को काबू में करती हु, पर में अपने चूत और बूब्स को सहलाने के अलावा मैं और कुछ भी नहि कर सकती थीं पर चुद्वाने का मन बहूत करता था.
मेरी एक सहेली थी रम्भा, बहूत हि ज्यादा चुदक्कड थी, वो लड़को को तो पागल कर देती थी अपनी जलवे दिखाकर, लड़के भी उसके ऊपर मरते थे, वो जहाँ भी होती थी, उसका एक बॉय फ्रेंड होता था, बड़ी ही सेक्सी थी, मैं अब आपको सीधे अपनी कहानी पे लाती ही, बात उस समय की है जब मैं बारहवीं में पढ़ती थी, घर वाले भी कहने लगे मैं जवान हो गई, मुझे भी यही लगने लगा की मैं जवान हो गई, क्यों की मैं अठारह साल की हो चुकी थी, मेरे चूत में बाल, कांख के निचे बाल, मेरी दोनों चूचियाँ मचलते रहती थी, सारे लड़के, आदमी, अंकल की आँखे मेरे चूचियाँ को निहारती थी आगे से और पीछे से मेरी गांड को, मुझे भी घूरना बहुत ही अच्छा लगता था, लड़के जब कमेंट मारते तो बड़बड़ा के गालियां देती, पर जैसे ही थोड़ा आगे बढ़ती, मन में ख़ुशी होती, मुझे अपने जिस्म पे नाज है.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने 12th में कोचिंग जाना शुरू किया, रम्भा भी जाती थी, हम दोनों दो कोचिंग जाते थे, एक जगह मैथ्स पढ़ने और एक जगह साइंस पढ़ने, रम्भा के बारे में तो आपको पता है उसको दोनों जगह एक एक बॉय फ्रेंड बन गए, वो खूब मजे लेने लगी, वो कोचिंग में ही मोबाइल पे ब्लू फिल्में देखती थी, पर मैं थोड़ी दुरी बनाती थी, मजा तो मुझे भी लेने का मन करता था पर मुझे ऐसे ओपन में अच्छा नहीं लगता था, रम्भा को तो सीढ़ियों में भी चुम्मा चाटी शुरू हो जाती थी, यहाँ तक की चूचियाँ भी दबाने का काम भी वो सीढ़ियों में कर लेती थी, वो खूब मजे लूट रही थी पर मेरी चूत से सिर्फ पानी पानी हो कर रह जाता था, धीरे धीरे वो अपने एक बॉय फ्रेंड के साथ दिल्ली के सारे पार्क में भी जाने लगी, घूमने फिरने लगी, मौज करने लगी, मुझे जलन होने लगा, पर एक दिन की बात है, रम्भा और में दोनों कोचिंग से निकली उसी समय उसका बॉय फ्रेंड आ गया बाइक लेके.

तभी रम्भा बोली अरे हां आज तो चलना है ना, उसने कहा की हां तभी तो आया हु, तो रम्भा बोली चल तू भी चल पूजा, मैंने कहा नहीं नहीं आज पापा माँ घर पे नहीं है घर जल्दी जाना पड़ेगा, नहीं तो फ़ोन आ जायेगा, तो रम्भा बोली अरे यार फ़ोन तो तेरे हाथ में है, फ़ोन आएगा तो कह देना घर पे हु, और बोली चल आज पार्टी मनाते है, मैंने कहा ठीक है, वो बिच में बैठी, मैं सबसे पीछे, रम्भा की चूचियाँ उसके बॉय फ्रेंड के पीठ में सट रहा था वो दोनों मजे ले रहे थे और मैं चुपचाप बैठी थी, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। आपने अक्सर ऐसा देखा होगा, जब दो सहेलियां किसी एक सहेली के बॉयफ्रेंड के साथ जा रही होती है तो यही माजरा होता है, आप ये कहानी नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे पढ़ रहे है. उसके बाद थोड़े देर बाद ही हमलोग एक जगह पर रुके, वो घर था उसके बॉयफ्रेंड के दोस्त का फ्लैट था, जो की जॉब पे चला गया था, हमलोग तीसरी मंज़िल पर गए, उसका बॉय फ्रेंड ने ही दरवाजा खोला, रास्ते में ही वो कड्ड्रिंक्स एंड बर्गर ले लिया था, सिंगल कमरा था और एक ड्राइंग रूम था, ड्राइंग रूम में सोफे था हम तीनो वही बैठ कर खाने लगे और टी वी देखने लगे, उसने फैशन टीवी लगा दिया जहां पे लड़कियां ब्रा और पेंटी में आ रही थी और कई ऐसे भी आ रही थी जो अपने हाथ से ही चूचियाँ ढकी हुई थी, मैं तो चुपचाप थी पर वो दोनों एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे,करीब आधे घंटे बाद, मैंने कहा चलो, वो रम्भा बोली यार रूक जा, थोड़े देर, इस दिन का इंतज़ार कई दिनों से कर रही हु, आज मौक़ा मिला है, मैंने अपने घर पे कह दिया की आज मैं पूजा के साथ, एग्जाम मटेरियल लेने जा रही हु, और तू अकेले जाएगी तो कैसा लगेगा, मैंने कहा रम्भा तुमने मुझे बताया क्यों नहीं, तो रम्भा बोली अगर मैं तुम्हे सच सच बता देती तो क्या तू आती?

इसलिए मैंने थोड़ा प्लीज यार मान जाओ, आखिर दोस्त हु तेरा और दोस्त की ख़ुशी, तो दोस्त की ख़ुशी होती है, मैं सारा माजरा समझ गई की क्या होने बाला है, आज रम्भा यहाँ चुदने आई है, वो अपना सील खुलवाने आई है अपने चूत की, मैं सब समझ गई थी, तो मैंने भी कह दिया, की दोस्त की खुसी में खुश तो हु पर दर्द में मैं साथ नहीं हु, और तीनो हसने लगे, एक दूसरे को ताली देते हुए.वो दोनों उठ खड़े हुए और कमरे के अंदर जाने लगे और बोले की यही बैठना तुम, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं वही बैठी रही, वही फैशन टीवी देख रही थी, अब लड़के मॉडल आ रहे थे वो भी जांघिया में मैं तो देख देख कर पागल हो गई, मैं वही सोफे पे बैठे बैठे मैंने अपने चूची को मसलने लगी, और चूत को सहलाने लगी, मुझे काफी शकुन मिल रहा था, तभी कमरे में से चीखने की आवाज आई, मैं दौड़कर गई तो दरवाजा बंद था, पर एक ऊँगली का छेद था दरवाजे में, मैंने झांक कर देखि तो अंदर सब साफ़ साफ़ दिखाई दे रहा था, रम्भा निचे थी, उसका बॉय फ्रेंड दोनों पैर को अपने कंधे पर रख कर अपना लण्ड रम्भा के चूत पे सेट कर रहा था, और चूचियाँ को दबा रहा था, रम्भा गिड़गिड़ा रही थी, दर्द हो रहा है, प्लीज छोड़ दो, दर्द हो रहा था, नहीं जायेगा, इतना मोटा लण्ड नहीं जायेगा, मैंने मर जाउंगी, और उसका फ्रेंड कह रहा था अरे यार पहली बार थोड़ा दर्द होगा फिर ठीक हो जायेगा, और इतना कहते हुए उसने अपने लण्ड पे थूक लगाया और रम्भा के चूत पे सेट किया, और जोर से धक्का मार और रम्भा पर लेट गया,क्या बताऊँ दोस्तों मैं काफी डर गई, क्यों की रम्भा चीखने लगी, मर गई, आह आह आह आह, मेरी फट गई, आह खून निकल गया, आह और वो छटपटा रही थी पर वो लड़का उसको कस कर पकडे हुए था, और फिर धीरे धीरे वो रम्भा के चूत में अपना लण्ड डालने लगा,

धीरे धीरे रम्भा भी चुप हो गई, और फिर क्या बताऊँ दोस्तों, रम्भा भी गांड उठा उठा के चुदवाने लगी, मैं हैरान थी, जो अभी कराह रही थी वो अभी गांड उठा उठा के चुदवा रही थी, और अपनी चूची को वो खुद ही दबा रही थी, क्या बताऊँ दोस्तों मेरी चूत गीली हो गई देखते देखते, वो रम्भा की चूचियों के साथ खेल रहा था, और कभी किश करता कभी गांड सहलाता वो दोनों एक दूसरे को खूब संतुष्ट कर रहे थे पर मैं बाहर परेशां थी, मेरी साँसे तेज हो चुकी थी, और चूत गीली करीब आधे घंटे तक सब कुछ देखती रही, और जब एक जोर से आह दोनों की निकली और दोनों झड़ गए, मैं तुरत दौड़कर, सोफे पे बैठ गई, और करीब दस मिनट में वो दोनों बाहर आ गए, बाहर आते ही रम्भा बोली, पूजा तू भी करना जन्नत का सैर, मैं अभी कर के आई हु, इससे बढ़िया कुछ भी नहीं है, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।दुनिया की सब कुछ फ़ैल है इसके सामने, मैं चुप रही, जलन हो रही थी, क्यों की रम्भा की प्यास बुझ चुकी थी और मैं प्यासी थी, दोस्तों इसी के १० दिन के बाद मेरी भी सील टूटी, वो भी मेरे सर के द्वारा, सच बताऊँ गजब का एहसास मुझे हुआ था, मैं अपनी पूरी कहानी सुनाऊंगी आप नेक्स्ट पोस्ट का इंतज़ार करें, मेरी आने बाली कहानी है, प्लीज पढ़ना दूसरे दिन आके, मेरी पहली चुदाई : सर ने मेरी सील तोड़ी.कैसी लगी हम डॉनो सहेली की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी सहेली की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/RambhaSharma

जीजा ने हम दो बहन को एक एक करके चोदा

मैं ख़ुशी २२ साल की हु और मेरी छोटी बहन २१ साल की है जिसका नाम है प्रिया, मेरी दीदी कविता जो की २४ साल की है उनकी शादी पिछले साल ही हुई है, जीजा जी बड़े भी कमीने है, क्यों की शादी के बाद से ही वो हम दोनों बहनो की अमोली (छोटी छोटी चूच) को दबा देते थे पहले तो हम दोनों को गुस्सा आता था पर धीरे धीरे हम दोनों बहनो को अच्छा लगने लगा, पर मेरी कविता दीदी को ये सब अच्छा नहीं लगता था, कविता दीदी भी सही थी क्यों की किसी का पति अगर कही मुह मारे तो गुस्सा आएगा ही. पर हम दोनों बहनो को मजा आने लगा था.


जीजू बड़े ही हॉट है, जब वो मेरी चूतड़ पे चुट्टी काटते थे तो दर्द तो होता था पर उस दर्द का एहसास अलग ही होता था, लगता था कभी वो मेरी पेंटी में भी हाथ डालते, पर माँ का स्ट्रिक्ट पहरा होता था शायद मेरी माँ को पता था की दूल्हा हरामी है, कही मेरी बेटी पर हाथ ना साफ़ कर दे, इस वजह से उनका हाथ मेरी ब्रा के अंदर तक तो आराम से जाता था जब जब मौक़ा मिलता था,मैं अब आपको बताती हु, की कब ऐसा मौक़ा आया था की हम दोनों बहन चुद गए थे जीजा जी से, एक दिन की बात है, जीजा जी कोलकाता आये थे किसी काम से, दीदी और जीजा जी दिल्ली में रहते है, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो दुर्गापुर आ गए हम दोनों से मिलने के लिए, शाम को ७ बजे पहुंचे थे, usi दिन मम्मी और पापा दोनों भिलाई के लिए निकल गए थे क्यों की वह मेरे लिए लड़का देखने जाना था शादी के लिए, और वो एक दिन बाद आते, जीजा जी को जैसे ही पता चला की मम्मी आज ही गई है, तो वो बहुत ही खुश हो गए, ख़ुशी तो हमदोनो को भी हुई क्यों की हम दोनों भी कही से भी काम नहीं थे हम दोनों की जवानी लपलपा रही थी. रात को ८ बजे का शो देखने गए पास ही में सिनेमा हाल था, बीच में जीजू थे अगल बगल हम दोनों बहने चूचियाँ तो वही से दबानी शुरू हो गई थी, वो ढाई घंटे में तो दोनों के चूत से गरम गरम पानी निकलने लगा था, मन तो कर रहा था जीजू के पेंट का ज़िप खोल कर वही लंड को मुह में ले लू, या तो उनके गोद में बैठ के पूरा का पूरा लंड अपने चूत में डाल लू, पर कोई बात नहीं हमलोग ग्यारह बजे तक घर आ गए खाना तो बाहर ही खा लिए थे, अब हमलोग को सोना था, तो सोये कहा कहा रजाई एक ही बाहर थी,

बाकि ट्रंक में था, माँ चाभी ले के चली गई थी, ठण्ड की रात थी, तो हमलोग एक ही रजाई में सो गए, बीच में जीजू और साइड में हम दोनों,जीजू पहले मेरी छोटी बहन के तरफ घूम कर सो गए थोड़ी देर बाद प्रिया के मुह से आअह आआअह आआअह आअअअह्अअअअह् की आवाज निकलने लगी, मैंने तुरंत ही रजाई हटा दी देखि की प्रिया टॉप लेस्स थी उसकी बड़ी बड़ी दोनों चूचियाँ खुली हुई थी और जीजू निप्पल को मसल रहे रहे, थे, उसके बाद मैं जीजू को बोली ये गलत है जीजू, मैं बड़ी हु, पहले मुझे ऐसा करो, तो प्रिया बोली दीदी देखो मुझे जोश आ गया है मजा मत किरकिरा करो, आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। तो जीजू ने कहा देखो रात अपनी है, और कोई घर में है नहीं क्यों ना खूब मजे करे, और दोनों को एक साथ चुदाई करें.ठण्ड ज्यादा थी, फिर से रजाई के अंदर चले गए और फिर मैंने अपना पूरा कपड़ा उतार दिया, प्रिया भी सारे कपडे उतार दी, फिर क्या था जीजू के कपडे हम दोनों मिलकर एक एक कर उतार दिए, हम तीनो अब एक ही रजाई में नंगे थे, और हम तीनो एक दूसरे को किश कर रहे था, जीजू मेरी चूचियाँ दबाते और कभी पीते कभी प्रिया का निप्पल दबाते कभी पीते, उसके बाद तो वो प्रिया के ऊपर चढ़ गए और प्रिया के दोनों पैर को अलग अलग कर के, लंड चूत के बीच में रख के, कस के धक्का मारा, तब भी चूत के अंदर लंड नहीं गया, पर प्रिया की जान निकलने लगी काफी दर्द होने लगा वो रोने लगी, फिर मैंने प्रिया को सहलाया और प्रिया के चूची को भी सहलाया और जीजू ने फिर से तरय किया और लंड पूरा चूत के अंदर डाल दिया, अब जीजू जोर जोर से प्रिया को चोदने लगे.

मैंने अपना चूत जीजा से चटवाने लगी, वो प्रिया को चोद रहे थे और मेरी चूत को चाट रहे था और मैं प्रिया के बूब को दबा रही थी, उसके बाद मैं लेट गई और जीजू मेरे ऊपर चढ़ गए, वो मेरी चूत में ऊँगली डालने लगे और एक हाथ से चूची को मसलने लगे, मैं आह आह कर रही थी, प्रिया जीजू के गांड में अपनी चूची सटा रही थी, फिर जीजू अपना लंड मेरे चूत में डाल दिया, और चोदने लगे, क्या बताऊँ यारों कभी वो मुझे चोदते कभी प्रिया को चोदते, रात भर यही चुदाई का खेल चलता रहा.रात भर एक रजाई के अंदर हम दोनों बहनो की चूत को फाड़ दिया था जीजू ने, उसके बाद सुबह से उनको निकलना था, वो एक बार फिर जीजू ने हम दोनों बहनो को चोदा और फिर चले गए.कैसी लगी जीजा के साथ हम दो बहन की ग्रुप सेक्स कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई हम दो बहन की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/PriyaSharma

Chudai,chudai kahani,sex kahani,sex story,xxx story,hindi animal sex story,

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter