Bhai ka dost ne mujhe khub choda

Aj jo hindi sex kahani batane jaa rahi hu wo meri bhai ki dost ke sath sex ki hai.aaj main bataungi kaise bhai ka dost ne meri chut me lund dala aur chod chod kar mujhe behus bana diya.Mera naam Kavita hai,, meri shadi ho chuki hai,, Mera figure kaafi sexy hai aur mera rang gora aur height five foot 5 inch hai aur meri umar 28 saal hai.. main jab atharah saal ki thi tabhi log mujhe kaafi jyada ghurne lage,, aur badi hi sexy chaal aur hot jism ki malkin hu.. aaj main aapko apni ek kahani likh rahi hu.. mujhe sexy kahaniyan padhnaa bahoot hi jyada achha lagta hai.. aur main mast kahani ki regular visitor hu..ab main sidhe story pe aati hu,, ye baat uss samay ki hai jab mai kuwari thi 21 saal ki aur padhai kar rahe thi.. mere ghar me paanch log rehte the mom dad mera chota brother aur ek chhoti bahan..
Ek din ki baat hai mere mom dad ek rishtedaar ke yaha baahar gye the toh mai ghar pe akele thi bahan school gai thi aur mera bhai cricket khelne gaya tha uski barahvi ki exam sar pe tha par chhutiyon ki vajah se thoda enjoy kar raha tha.. uss di mai ghar mai saaf safai kar rahi thi kyon ki kaafi gaura ho gaya tha aur uss din chhuti bhi thi itne mai door beel baje or maine darwaja khola,, us time mai short aur tight top pehna tha jisme mere boobs kafi bade gol or nipple bhi nazar aa rahe tha main badi hi sexy lag rahi thi,, bahar mera bhai Ramesh or uska dostSam tha,,Sam toh mujhe dekhe ja raha tha kabhi mere boobs par kabhi mere nangi tango pe jo ki badi hi gol gol aur sexy lag rahi thi,, uske haath me ek cd tha shayad koi movie yaa game ki hogi..ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Jab wo aurar aaya to bhai bola didi aaj main nai film ki cd laya hu,, chalo aaj movie dekhte hai.. uske baad ham sab movie dekhe lage.. Kuch time baad mere bhai Ramesh ko uske dost ka phone ata hai or wo usko Chess khelne ke liye bulate hai to mera bhai chala jata hai ab ghar mai sirf mai or uska dostSam the,,Sam bahut hi haursome aur mast tha mai usko bahoot pahle se hi pasaur karti thi aur apnaa boy friend bnana chahti thi par ghar walo se darte thi kyonki hamara daram alag alag tha wo christion tha or mai hindu..Bhai to baahar chalaa gaya tha phir Sam aurar aa gaya aur mai Sam mere sath aa akar batih gaya sofa per waha bas do log hi baith sakte the isliye hum dono bilkul close the ek dosee ke aur jism bhi sat rahttha. itne me jo movie ham dono dekh rahe the usme sex scene aa giya or mai sharam kar lal ho rahe the tabhi Sam ne mere tango pe apna hath rakh diya mujhe laga waise hi rakha hoga lekin wo mere tango ko haule haule sahlaane laga toh mai kuchh bhi nahi boli kyonki mai bhi chudwaana chahti us hot aur cute larke se,, fir kabhi wo mere bhal piche karta kabhi apni hath mere boobs pe touch karta… Maine bra nai pehne thi toh mere boobs pe badi tight nipple saaf saaf dikhai dene lage wo unko dekh dekh kar siskiyan lene laga or phir ek dum mere hoth pe kiss kardi toh maine thoda natak kiya or gussa kiya par mujhe bahoot majaa aa raha tha.

Kyaa bataun doston sam bola kya karo ap ho hi itne hot aur bold toh raha nai giya,, maine kaha thik hai toh hum dubara film dekhne lag gaye uske baad pata nahi hum kab ek dusre ko sahlaane lage aur baat kuchh jyada hi badh gai. doston Wo mere pure chehre pe kiss karne laga or mere body ko chatne laga aur mere boobs ko press karne lagaa ab mai pure tarah garm ho chuki thi mere muh se aah aah aah nikalne lagi…
uske baad sam bola ki chalo kamre mai chalte hai maine kaha thik hai waha jate hi humne karib 20 min tak ek dusre ko kiss karte rahe aur ek dusre ke private part ko dabaate rahe fir usne mera top utar diya mere saare kadpe utaar diye aur wo bhi utaar diya apnaa saaraa kapda.Sam mere sharir ko chumne laga or apne teeth se mere bra ko khola or apne muh se mere strip niche kiye or utar diya istara ab mai short mai thi is time mere boobs itne mote nai thi uss samay shayad 32 ke size ki bra pahanti thi.bhai ka dost ne mere boobs ko choosne laga aur ragadne karne laga mujhe bahut maza ane laga or maine usko jor se apne boobs me chipkaa li uska land pure tarh khada ho gaya tha jo mujhe mehsus ho raha tha itne mai usne apne hath mere choot dala or utar diya aur ragadne lagaa. kabhi kabhi ungli daalne ki koshish karta. meri choot kaafi gili ho chuki thi. uske baad kabhi mere gaand ko sahlaa raha tha kabhi choot ko kabhi mere hoth ko choos raha tha.ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Uske baad main kaafi sexy ho gai thi. mere muh se sirf aah aah ki awaj aa rahi thi. uskaa land dekh kar khush ho gai thi uskaa land karib aath inch ka tha aur mota bhi tha kafi aur usne mujhe apna land muh mai lene ko bola to mai phele nakhde karne lage fir maan liya mai uska land ko muh me leke chusne lagi, karib das min tak chusne ke baad toh usne sara land mere muh mai dal diya jo ki mere gale tak aa giya or mere ankho se assu aa gye toh maine ek dum piche hat gye or uska land bahar kar diya ab hum dono 69 ki posion pe the wo bahut mast tareeke se mere chut chat raha tha aur mai uska mota land ki muth mar rahe thi itni mai wo discharge ho giya or uska sara maal mere muh pe gir giya maine apne jib se uska taste kiya jo ki kabhi acha laga fir maine uska land muh mai liya aur sara maal chat liya.. kaisi lagi meri sex kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri chikni chut me 9 inch ka lund dena chahte ho to add karo Facebook.com/KavitaSharma

Apni bhanji jyoti ki chudai

Ye chudai ki kahani meri bhanji ki chudai ki hai.aaj main bataunga kaise maine meri bhanji Jyoti ko choda..Jyoti bahut hi beautiful aur mast ladki hai aur barahvi ke bad hi BTech me admission ho gaya mechnical me uss samay uski umar atharah saal thi abhi to uske ubhar yaani ki chuchiyan bhi nahi aaye the..Thodi savli jaroor hai par mast slim maal hai.. koi bhi jab usko dekhta hoga land jaoor fadfadaane lagta hoga. Ab to Jyoti 21 sal ki mast ho gayi hai lekin abhi bhi cute baby jaisi ha uski chychiyan ab thoda dikhne layak ho gaye hai aur upar se tight tight lagti hai..Jyoti mere sagi bhanji hai wo meri badi didi ki beti hai.. ab main aapko apni kahani par aata thu ek din Hua aisa ki usko chhutiyon ki training karni thi so un logo ne mere se puchha to maine kah diya thik hai kaam ho jayega aap jyoti ko mere pass bhej do..Mai bhi ek real state company me engineer hoo aur Noida me meri wife ke sath rahata hu pai chowk ke paas..

Meri biwi kafi mast hai aur hamari chudaiy life bahut mast hai khoob maje karte hai kyon ki wo badi hi chudkadd chhinaar hai.. Kabhi story to kabhi boyfriend ya internet par chudai clip dekhte hai mujhe mast kahani dot com bahoot pasand hai aur mast chudai karte hai.. Jyoti apni summer training ke liye aane wali thi hamare flat me noida me hi mera flat do room the ek me ham aur wife rahte the jahan air conditionar laga tha dusri me keval fan tha aur ek purani coolar thi..Jyoti ko pahle mai aise nahi dekhta tha ki uske sath kuchh hoga lekin honi ko kaun tall sakta hai..Meri pyaari biwi thoda naraaj thi ki ek mahine se hum khul kar chudai nahi kar payenge maine samjhaya to boli thik hai aur majak me boli ki Jyoti ko hi le lena..ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Maine kaha- yaar tum iss tarah se baat kyon kar rahi hai pagal ho kya?

My Wife: isme burai kya hai engineering college me padti hai to kya bachi hogi aaj kal to class me sab ho jata hai..

Maine talte huye kaha ha thik kah rahi ho hame kya aayegi to training kare aur jaye ..

Usne muskarte huye kaha-kanhi tum traing na dene lagana ..

Maine kaha tumhe jalan ho rahi hai kya?

doston aap ye kahani mastkahani.com pe padh rahe hai

Khair mai use station lene gaya train time se aayi thi maine pahle dekha nahi tha lekin wo mujhe pahchanti thi shyad mama ke yenha dekha ho..Wo aayi aur mere pass aur boli chachaji namste maine dekha to dang rah gaya kafi sunder ho gayi thi aur t-shirt jean me kafi mast lag rahi thi kafi bada bag lekar aayi thi ..Mai apni gadi me gaya tha samn rakha aur ghar aane lage to puchha mami ji kaisi hai aur ghar ka hal chal et..
Ghar pahuch kar apna samn rakha aur sab mile kafi khush thi boli chachaji aap logo se mil kar to aisa lagti nahi ki mai door ki hoo..Maine kaha beta kahe ka door aur fir fresh hui to ham sabne khana khaya aur so gaye ..Agle din Jyoti ko training ke liye le gaya aur use training section me mila diya to wo log bhi coprate kiye ..Mai ne apne cabin me aa gaya tabhi mera ek dost aaya aur bola kya bat hai kafi mast chidi hai aur kaun hai..Maine kaha are yar meri door ki bhanji hai..ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.To chup ho gaya..Aisa do tin din bita tha ki tabhi mrs ke ghar par unki ma bimmar ho gayi aur wife ko jana padega to mai bola chalo to wife boli are tum mera tickrt kara do mai chali jaungi Jyoti akeli kaise rahegi ,wnha station par kisi bula lungi..Maine bhi tatkal me tiya aur usi din sham ko train par bitha diya ..Jane se pahle wife ne Jyoti ko khana banana ki hidayt de di thi aur sab bata diya aur boli bhi thi ki jab tak nahi aati hai tum inka khyal rakhna ,mai jaldi aane ki koshish karungi..Jyoti boli ji chachiji aap tension mat lo mai kar lungi..Nani ji ki tabiyat ka khayl rakhana..Patni ke jane ke bad ab hum aur Jyoti hi bache sath me jate aura ate to kafi bate hone lagi thi ..Training walo ne bata diya ki roj aane ki jarurat nahi hai aap apne project ghar me bana ljiye hum approved kar denge..ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.
Uske baad Agle din maine Jyoti ko bola tum khana kha lena aur aaram se mere hi room me ac chala kar rahan aur kuch problem ho to phone karana usne kafha ji chachaji..Mai office aa gaya to dophar me phone aaya ki chachaji aapka pc use karana tha to maine kaha thik hai aur use password bata diya ,bad me mujhe yad aaya are usme to sari bf aur chudai clips hai..Ab kya karu fir socha Ladki badi hogi kyon ki engineering kar rahi hai aur ladki hai sab samjhati hogi ki pati aur patni hai akele me rahte hai to maje lete hoge..Aur mai apne kam me busy ho gaya .. usi din sham ko ghar aaya to jyoti thoda sharmma rahi thi maine bola kam hua ki nahi..Usne dhire se kaha hum..Mai samajh gaya ki Jyoti ne file dekhi hai.. kaisi lagi meri bhanji ki chudai kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine mere bhanji ke sath chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/JyotiSharma

माँ चुदाई की ट्रेनिंग दे रही थी और मैं चोद रहा था

Desi xxx indian sex kahani,माँ ने चूत देकर मुझे चोदना सिखाया, Pyasi maa ki kamvasna xxx hindi sex story, माँ ने चूत खोलकर दर्जी से मुझसे चुदवाया, Maa ki chut chudai ki kahaniyan,दोस्तों आप ही सोचो माँ अपने बेटे को चोदने की ट्रेनिंग दे, पर इसमें मेरा दोष नहीं है, दोष मेरे माँ का है, मुझे आज तक वो बच्चा बना कर ही रखी थी भले मेरी उम्र २२ साल हो गई हो, पर मैं इसमें अपने माँ का भी दोष नहीं दे सकता, क्यों की हालात ही ऐसा हो गया. मेरे पिताजी फ़ौज में थे और जब मैं ग्यारह साल का था तभी उनका देहांत हो गया, इस दुनिया में मुझे और माँ को छोड़ गया, मैं अकेला संतान था, माँ मुझे बहुत प्यार करती थी, पता नहीं उनको डर था की कही वो मुझे खो ना दे इसवजह से वो मुझे ज्यादा केयर करती थी, पापा के मौत के बाद हमलोग अमृतसर अपने पुश्तैनी मकान में आ गए, मेरी पढाई लिखाई अमृतसर में ही हुई.
बचपन से ही मैं अपने माँ के साथ ही सोया करता था,
माँ मुझे ज्यादा इधर उधर जाने नहीं देती थी, मैं माँ से काफी ज्यादा लगाव था, मानो की वो मेरी एक अच्छी दोस्त थी, पर कुछ मामलों में मैं काफी पिछड़ गया था, मैं काफी शाय हो गया था, मुझे बाहर जाना बिलकुल भी अच्छा नहीं लगता था, मैं हमेशा घर में ही रहता था, लड़कियों पे प्रति भी मेरी ज्यादा रूचि नहीं होती थी, सच पूछिए तो मेरी ज़िंदगी अजीब हो गई थी, माँ के साथ जब सोता था, तब भी मुझे ज्यादा बुरे ख्याल नहीं आते थे क्यों की बचपन से ही मैं औरत के संपर्क में रहा था, माँ के प्राइवेट पार्ट को छूता था, रात में उनके चूचियों को पकड़ के सोता था, मेरी माँ की उम्र अभी 40साल है, वो बहुत ही खूबसूरत और अच्छी है,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक दिन मेरी माँ बोली की बेटा तुम्हारी लुधियाना बाली मासी तुम्हारे लिए रिश्ता ला रही है, तो मैंने कहा माँ मुझे शादी नहीं करनी है, माँ बोली बेटा अगर तू शादी नहीं करेगा तो मेरा खानदान कैसे आगे बढ़ेगा, घर में तुम्हारी पत्नी आएगी तो खुशियां लेके आएगी, तुम्हे भी बहुत मजा लगेगा, वो तुमसे प्यार करेगी, तुम्हे खुश रखेगी, और मेरा भी ध्यान रखेगी, मैं कब तक तुम्हारा ध्यान रखोगी, इसलिए तुम घर बसाओ और ज़िंदगी को खुल कर जियो, मैं चाहती हु की मेरा बेटा खुश रहे.बात तो सब समझ में आ गई पर मुझे लग रहा था की क्या मैं अपनी बीवी को खुश रख पाउँगा, मैं ज़ी टीवी पे सीरियल भी देखता था मुझे ऐसी लाइफ ठीक नहीं लगती ही, मुझे डर लगता था की मैं अपनी वाइफ को कभी भी सेक्स से संतुष्ट नहीं कर पाउँगा, तो मैंने एक दिन रात को माँ को कहा, माँ आप मेरी शादी नहीं कराओ, क्यों की मुझे ऐसा लगता है, मैं अपनी पत्नी को खुश नहीं रख पाउँगा, तो माँ काफी समझाई, पर मुझे अंदर से डर बैठ गया था, तो माँ ने मासी को बुलाई, मासी भी काफी समझाई, मैंने माँ से कहा माँ सच तो ये बात है, की शादी के बाद अगर मैं अपने बीवी को सेक्स से संतुष्ट नहीं कर पाया तो. माँ बोली बेटा इसकी चिंता नहीं कर मैं हु ना,

दोस्तों उसके बाद क्या बताऊँ, मासी शाम को चली गई. उस रात माँ ने कहा आज तू मुझे चोद कर देख क्या मैं संतुष्ट हो पाती हु, अगर कोई कमी रही तेरे में तो मैं तुम्हे बताउंगी की तुम्हे कैसे चुदाई करनी है. मुझे माँ का आईडिया अच्छा लगा, रात को माँ काफी सज धज कर आई, वो मेरे होठ को चूसने लगी, मैं भी उनके होठ को चूस रहा था, फिर वो मेरे कपडे उतार कर मेरे छाती को जीभ से सहलाने लगी. सच बताऊँ दोनों जब वो जीभ फ़िर रही थी, पहली बार मुझे ऐसा फील हुआ की मेरे में भी दम है. और मैंने माँ के चूचियों को दबाने लगा और फिर उनके चूतड़ को दबा के उनका चूत अपने लैंड के पास लाकर रगड़ने लगा. माँ भी काफी कामुक हो गई थी, वो मेरे लण्ड को अपने मुंह में लेके चाटने लगी. और कह रही थी बेटा मुझे तो पता ही नहीं था की तेरा लण्ड खड़ा होने के बाद इतना बड़ा हो जाता है. उसके बाद माँ मेरे मुंह के पास बैठ गई.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। पैर दोनों साइड था और उनका चूत मेरे मुंह के पास बोली चाट इससे, मैंने अपने माँ के चूत को चाटने लगा. माँ आह आह आह आह बहुत अच्छे मेरे बच्चे आह आह आह ऐसा करेगा तो कोई भी खुश हो जाएगी, आह आह, दोस्तों माँ के चूत से सफेद सफेद पानी निकलने लगा मैं उनके चूत से निकलने बाली सारा माल चाट गया, उसके बाद मेरा लण्ड खड़ा हो गया, पर मेरे लण्ड में काफी गुदगुदी होने लगी और मेरे लण्ड से पानी निकल गया, माँ बोली चल अब मुझे चोद, मैं चुप था वो निचे हुई, और मेरा लण्ड जैसे पकड़ी अपने चूत में डालने के लिए, वो बहुत ही गुसा हो गई .बोली किसने बोल था तुम्हे ऐसे ही गिराने के लिए पता है तुम्हारा सारा वीर्य गिर गया है, मेरे जगह पर तुम्हारी बीवी होती तो सच मच में भाग जाती, मैं अपने माँ को इतने गुस्से में पहली बार देखा था, मैंने कहा माँ आपको मैंने पहले ही कह दिया था की मैं सेक्स से संतुष्ट नहीं कर पाउँगा इसलिए आप मेरी शादी नहीं कराओ, पर ये ज़िद आपकी है, माँ इतना सुनते ही, वो मुझे गले से लगा ली और बोली बेटा चिंता नहीं करो, ये पहला दिन था मैं तुम्हे रोज ट्रेनिंग दूंगी, और एक दिन ऐसा आएगा की तुम मुझे भी और अपने बीवी को भी खुश करोगे.

दोस्तों दूसरे दिन से मेरे लिए माँ ड्राई फ्रूट लाइ और शिालजित लाइ, वो मुझे सरसों तेल से रोज मालिश करने लगी और मैं दिन भर में करीब २ किलो दूध पि लेता था, वही हुआ मेरी माँ रोज रोज मेरे साथ सेक्स सम्बन्ध बनाने के लिए चाहती पर मैं झड़ जाता, यही सिलसिला चलता रहा, पर दस दिन बाद से ही मेरे में एक जोश और गर्मी आ गई, अब मैं अपने माँ को खूब चोदने लगा. और वो भी मुझसे चुदवाने लगी. सच बताऊँ दोस्तों मुझे ज़िंदगी का मजा आ गया, माँ को जब भी मन करता था चोद देता था, जब वो रसोई में रोटी बना रही होती थी मैं पीछे से उनके गांड पे अपना लण्ड रगड़ रहा होता था फिर माँ अपना पेटीकोट उठा देती और मैं पीछे से भी चोद लेता था.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब मैं शादी के लिए तैयार था, मेरी शादी भी हो गई, मेरी बीवी भी आ गई, पर मैं नर्वस था, क्यों की माँ के साथ तो मेरा बचपन से रिलेशन था पर नई लड़की से सेक्स सम्बन्ध बनाना थोड़ा कठिन था पर माँ बोली मैं हु ना कोई दिक्कत नहीं होगी, रात को मैं अपने बीवी के कमरे में गया वो घुंघट में थी. मैंने घुंघट उठाया, और बातचीत स्टार्ट कर दी. काफी देर हो जाने के बाद मेरी वाइफ मेरा हाथ पकड़ कर अपने बूब्स पर रख दी. मैं थोड़ा शर्मा रहा था पर वो नहीं सरमा रही थी. धीरे धीरे वो ब्लाउज के हुक को खोल दी. वो ब्रा के अंदर टाइट टाइट बूब्स था, मैंने अपने बीवी के चूक को दबाना सुरु कर दिया, वो बड़ी गदराई हुई थी. वो गोरी थी उसका चूच बड़ा बड़ा और थोड़ी मोटी थी. वो काफी सेक्सी थी आँख बहुत ही नशीली थी. होठ गुलाबी, वो मुझे कस के पकड़ ली और वो मेरे ऊपर चढ़कर मुझे चूमने लगी. धीरे धीरे वो मेरे लण्ड को पकड़ ली और फिर वो अपने सारे कपडे उतार दी,
सच बताऊँ दोस्तों मुझे ऐसा लगा की मैं आज चोद नहीं पाउँगा, मैं थोड़ा परेशान होने लगा तभी मेरी नजर खिड़की पर पड़ी, वह अंधेरे था वह माँ खड़ी थी, वो मुझे इशारे से कह रही थी की बूब्स प्रेस करो, मैंने वैसा ही किया, वो फिर इसारे से ही कहने लगी की चूत चाटो, मैंने अपने बीवी का चूत चाटने लगा, मेरी बीवी इस इस इस इस उफ़ उफ़ उफ़ करने लगी. फिर उन्होंने इशारा किया की गांड में ऊँगली डाली मैंने वैसा ही किया, मेरी बीवी काफी कामुक हो गई थी. फिर माँ बोली अपना लण्ड उसके चूत पे लगाओ, मैंने वैसा ही किया और फिर मैंने अपना लण्ड अपने बीवी के चूत में घुसा दिया, क्या बताऊँ दोस्तों, मुझे चुदाई करने में बहुत मजा आने लगा मेरी बीवी भी गांड उठा उठा के चुदवाने लगी. और मैं चोदने लगा. जब भी कभी ऐसा लगता की मैं झड़ने बाला हु, मैं अपना ध्यान बटा लेता कुछ और सोचने लग जाता, और फिर से चुदाई करने लगता.

सुहाग रात को मैंने एक घंटे तक चुदाई की थी, और फिर मैं झड़ गया था पर खुश था क्यों की मेरी बीवी भी साथ झड़ी थी. दोनों संतुष्ट थे. सुबह माँ मुझे गले से लगाई, और बोली जियो मेरे शेर आज तूने वो कर दिखाया, और मुझे गले से लगा लिया, और फिर बोली की बीवी के चलते मुझे मत भूलना, क्यों की अब मुझे भी चाहिए क्यों की तूने मुझे आदत लगा दिया.कैसी लगी हम डॉनो मां बेटे की सेक्स कहानी  , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी माँ की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/KamdeviSunita

ससुराल में सास की चुदाई कहानियों

ये चुदाई कहानी मेरी सास की चुदाई की हैं,मुझे मेरी सास ने एक दिन शनिवार की शाम को बुलाया अकेले और कहा की तुमसे कुछ जरुरी बात करनी है माया के बारे में.मुझे जाना पड़ा अकेले ही,उन्होंने मुझे अकेले ही बुलाया था.उस दिन घर पर सास के आलावा कोई नही था,मेरी शादी एक गाँव में हुई थी जहाँ दूर दूर तक खेत ही खेत थे.आसपास कोई घर तक नही था.मै शनिवार को सास के घर चला गया.सास ने रत का खाना खाने के बाद मुझे अपने बेडरूम में बुला लिया पहले तो वो टीवी देखती रही,इतने में रात के १०.३० बज गए,उन्होंने मुझसे घर का हालचाल पूछा और माया के बारे में बात की,सास ने कहा की माया ने तुम्हारे बारे में मुझे ये कहा है की मेरा पति नपुंशक है.और मै वहां नही रहना चाहती,जिस वक़्त उन्होंने मुझे ये बात कही मै बेड के पास ही सोफे पर बैठा हुआ था और कुरता पायजामे में था,अक्टूबर का टाइम था,

ये बात सुनकर मेने कहा की नही मम्मी ऐसी कोई बात नही है,पर सास नही मानी.सास ने कहा की आज घर पर कोई नही है और तुम्हारे ससुर जी भी सोमवार की शाम को आयेंगे.तुम्हे कुछ कहना है,वर्ना मै माया को घर बुला कर उसका ब्याह कही और कर दूंगी,या फिर तुम अपने आप को साबित करो की तुम मर्द हो और माया को खुश रखोगे.मेरे सामने ये बहुत जबरदस्त इम्तिहान था,मै सोचने लगा की कैसे क्या साबित करूँ? मेरी सास ऊपर बेड पर पैर लटका कर बेठी थी और मुह मेरे सामने था.सास ने धोती और blause पहना हुआ था.सास ने कहा की तुम्हे तो औरत को देखकर भी जोश नही आता है जैसे माया ने मुझे बताया है.और ये कहकर सास बेड पर पीछे की तरफ लेट गयी.और सास ने अपनी धोती ऊपर उठा दी.मेरी साँस तेज तेज चलने लगी.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। सास की मोटी और गोरी जांघों के बीच में काले स्याह बाल देख कर मेरा सर चकरा गया.सास नंगी हो गयी थी.मेरा लंड फुफकारने लगा था,सास ने कहा की देख क्या रहे हो? अब हालत क्यों पतली हो गयी है?मेने कहा की मम्मी मुझे शर्म आ रही है.सास ने कहा की तो ऐसा करो बड़ी लाइट बंद कर दो और night बल्ब जला लो ,मै तुम्हे ऐसे ही इस कमरे से नही जाने दूंगी.मेने night बल्ब जला दिया.,तभी मेने तुरत एक निर्णय लिया और खड़े होकर सास की जांघों के बिच में हथेली से भरपूर पकड़ कर सहला दी.फिर मेने निचे झुक कर सास की चूत पर मुह लगा दिया और चूसने लगा.
सास के मुह से सिस्कारिया निकलने लगी,तभी मेने अपना पायजामा और कच्चा दोनों उतार दिए,मुझे खुद को सही साबित करना था मै सास का दाना अपनी जीभ से सहलाने लग गया.इसके बाद मेने अपनी पहले एक ऊँगली और फिर दूसरी बड़ी ऊँगली सास की चूत में डाल दी.औरतेजी से अन्दर बाहर चलायी,सास कामवासना में तदाफ्ने लगी थी.सास अपने चूतड धीरे धीरे उठाने लगी थी,उसकी चूत काफी tight थी.

मेने करीब २ मिनट नॉन स्टॉप ऊँगली चलायी ,सास अपने ऊपर कण्ट्रोल नही रख सकी सास ने बेड पर बेठने कीकोशिश की ,तभी मेने उसकी चूत को अपने मुह में समां लिया.मुझे पता था की अक्सर ५०% औरतें मस्ती में आकर पेशाब कर देती हैं,सास ने पेशाब की मोटी धार मेरे मुह में मार दी.मेने उसका सम्मान करते हुए करीब ७-८ चम्मच पेशाब पी ली,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
बस इसके बाद मेरा लंड काफी तन चूका था,अब मै देर नही करना चाहता था, सास मेरी जिंदगी की पहली औरत थी,जिसकी चूत में मै आज रात अपना बड़ा लंड डालने जा रहा था,मै धीरे से उठा और अपना मस्ताता हुआ कठोर लंड सास के छेद पर टिका कर अपने चूतड़ों से जोर से धक्का मारा,तो सास की दबी हुई चीख निकल गयी,मेने पूछा मम्मी क्या हुआ? सास ने कहा की माया ने, साली ने मुझे झूठ कहा था की तुम नामर्द हो, नामर्द तो मेरा आदमी है.बस इसके बाद में मेने सास के दोनों पैर अपने बाएं हाथ की मुट्ठी में पकड़ लिए और लंड अन्दर धकेलने लगा.सास तसकने लगी,उसने शायद इतना मोटा और लम्बा लौड़ा कभी नही देखा होगा और न लिया था.अब हम दोनों चुप जरुर थे पर सास के छेद से मेरे हर धक्के में हवा बाहर आ रही थी ,मेरा लौड़ा काफी अन्दर चला गया था.मै एक हथेली से मस्ती में आ कर के उसके चूतड़ों पर दाई हथेली से मार रहा था.मेने सास के अन्दर ७ इंच तक घुसा दिया था.इसके बाद मेने १२ मिनट बाद सास के दोनों पैर आजाद कर दिए अब सास ने खुद ही मस्ती में आकर के अपने पैर हवा में उठा लिए, उसकी पाजेब तेजी से बज रही थी.मेने अपनी स्पीड बढ़ा दी थी,फिर आखिर मै मेने सास के दोनों पैर पीछे उसके सर की तरफ झुका कर अन्दर ७-८ बार जोर जोर से पिचकारी मारी की उसका मुह खुल गया. इसके बाद मै सास के उपर लेट गया.हम दोनों के पैर निचे ही लटके हुए थे.लगभग ३ मिनट बाद सास ने मेरे कान में धीरे से कहा की प्रदीप ,तुमने मेरी हसरत पूरी कर दी,अब उतर जाओ ,

सास नेअपने पेटीकोट से मेरा मुरझाता हुआ लंड पोंछ दिया,सास मेरे गाल चूम रही थी,मेने कहा की मम्मी शर्म आ रही है,तब उसने कहा की किस बात की शर्म? ,अपनी मर्दानगी दिखाने में तुम्हे शर्म आ रही है? मेरा पति तो मेरी इच्छा पूरी नही कर सकता,मै तो माया की बात पर विस्वास कर बेठी,पर चलो जो हुआ अच्छा हुआ.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  सास ने कहा की प्रदीप तुम पेशाब करके आ जाओ.मै बाथरूम गया और उसी हालत में नंगा वापिस आ गया.सास भी उठी और बात रूम गयी.मेने कपडे पहनने सुरु किये ही थे की सास ने कहा प्रदीप अब रात भर तुम मेरे बिस्टर पर ही सोओगे.
इसके साथ ही सास ने अपनी सदी निकल ली,और मुझे बिस्टर पर खींच लिया,सास ने मुझे अपनी बाँहों में भर लिया और कहा की प्रदीप मुझे फिर से प्यार करो न.और इतना कह कर सास ने मेरा लंड हिलाना सुरु कर दिया,मेरा लंड फिर से अंगड़ाई लेने लगा था. मै भी सास के गाल और होंठ चूसने लगा.सास ने कहा की राज़ उठो और अपनी कमर के पीछे तकिया लगा लो,मै उठा और मेने अपनी कमार्के पीछे मोटे तकिये की टेक लगा ली और टाँगें फेलाली,सास ने अपना पेटीकोट उतार दिया.जब की ब्लौसे अभी भी पहना हुआ था.वो उठी और मेरी जांघों के ऊपर तन्घें फेलाकर बेथ गयी,और मेरे कण में धीरे से कहा की प्रदीप आज अपनी प्यास बुझा लो जो माया तुम्हे न दे पाई मै दूंगी. बस मुझे जी बहर कर प्यार करो मेने सिर्फ इतना ही कहा की मम्मी आप बहुत सुन्दर हो.सास ने अपने ब्लौसे के बत्तों खोल दिए और उसमे से दो गोरे गोरे निम्बू तन कर बाहर आ गए.सास ने अपने nipple मेरे मुह में दे दिए. मै भी मस्ती में आकर ठुम्नियाँ चूसने लगा.मेरे हथ्धिरे धीरे उसके सुदोल चूतड़ों पर मचलने लगे.मै सास के चूतड दबा रहा था और सास के पेट के निचे मेरा लंड दबा हुआ था.सास मेरे सीने से लिपटी पड़ी थी. मेने सास की pony tail खोल दी थी,कमरे में उसका बदन लाल रंग में नहा रहा था. मुझे रह रह कर माया का ध्यान आ रहा था की उसका क्या होगा? पर अब मै पूरी तरह से काम वासना में डूब चूका था .कहने को वो मेरी सासु माँ थी पर हम दोनों पति पत्नी की तरह से सम्भोग में मगन थे.मेरे हाथ धीरे धीरे सास के चूतड़ों के बिच में कुछ धुन्धने में लगे थे.जैसे जैसे मेरे हाथ निचे फिसल रहे थे सास की साँसे तेज होती जा रही थी.इस उम्र में भी सास के अन्दर काम वेग देख कर मै सोच रहा था की ये औरत अपने नामर्द पति के साथ कैसे जीती होगी? तभी मेरी ऊँगली एक बेहद गरम जगह पर जा कर रुक गयी.

मेने मस्ती में आ कर के अपनी ऊँगली पर थूक लगाया और धीरे से सास के पिछवाड़े घुमानी सुरु कर दी,सास समझ गयी और धीरे से मेरे कान में बोली ,नही राज़ मुझे मारोगे क्या?यहाँ नही, लेकिन मै ऊँगली घुमाता ही जा रहा था,सास इतनी ज्यादा कामुक हो गयी थी की,उसने मेरा लंड अपने हाथसे पकड़ा और जांघ उठा कर उस अपर बेठने की कोशिश करने लगी,उसने धीरे से मेरिलैंड का बड़ा सुपाडा अपने छेद पर लगाया और फच्च से बेथ गयी ,सास के मुह से बड़ी ही कामुक आवाज निकली,सास ने मेरे कंधे पकड़ लिए और अपने चूतड उच्चालने लग गयी,मेरा लंड किसी मजबूत खूंटे की तरह गदा हुआ था,सास मेरे होंठ भी चूम रही थी और बार बार अपने आगे आते हुए बाल पीछे कर रही थी.मै सोच रहा था की इस औरत के अन्दर इतनी आग होगी मै सोच भी नही सकता था.इसके तो मेने शादी में पैर छुए थे.बस वो मेरे से सिर्फ १४ साल बड़ी थी.मै २९ वें में चल रहा था और वो ४३ की थी.सास कभ धीरे धीरे और कभी जोर जोर से अपने चूतड दबाने की कोशिश कर रही थी ३-४ मिनट बाद ही वो थक गयी और मेरे सीने पर सर टिका दिया.तब मेने अपनी गांड उठा कर उसे चोदना सुरु किया ,सास और मै फिर से मजे लेने लगे,रात में हम दोनों घर में अकेले ही थे.सास ने गेट पर ताला लगा दिया था.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।  फिर मुझे सास ने बिस्टर पर गिरा दिया और बेशर्मी से कहा की प्रदीप मुझे अपनी छाती के नीचे रगड़ दो, मेने सास को बिस्टर पर बिलकुल नंगा लिटा दिया और फिर उसकी एक जांघ के ऊपर अपनी दायीं जांघ रख दी,अब मै उसके होंठ चूस रहा था उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी दुद्दी पर लगाया,मेने जोर से मसल दी,उसके मुह से मीठे दर्द की सिसकारी फूट पड़ी.मेने अपना हाथ सास की चूत पर रख दिया सास ने कहा की प्रदीप इसे ऐसे मत छोडो,इसे अपनी मर्दानगी का मजा दिखा दो ये बहुत तरस रही है,देखो ये इतनी प्यासी है की तुमने इसमें जो कुछ भी भरा था,उसे पीकर चुपचाप पड़ी है.मै झुका और अपने मुह से चाटने लगा,सास ने कहा की नही .प्रदीप बर्दास्त नही होता,मेरे साथ अपनी सुहाग रात मनाओ.मुझे बार बार रगडो, मै तुम्हारी हूँ, वो बहुत कामासक्त हो चुकी थी.उसकी आवाज बता रही थी. की वो कुछ भी कर सकती है.मेने कह की मै तुम्हारी अरजो जरुर पूरी करूँगा पर माया को भूल कर भी मत बताना,सास ने मेरा हाथ अपने सर पर रख कर कसम खायी की नही नही प्रदीप ऐसा कभी नही होगा.

बस फिर क्या था? मै सास के ऊपर लेट गया और उसके कंधे पकड़ कर अपना मोटा और ८ इंची लम्बा लंड उसकी tight चूत में डालने लगा.,इस बार सास ने खुद ही अपनी टाँगें उठा दी,मेने सास के चूतड़ों के नीचे अपनी हथेलियाँ रख दी और ऊपर को उठा दी,इससे मेरा लंड बुरी तरह से उसकी बच्चेदानी को बार बार चूम रहा था,
और उसके मुह से हर झटके में ,उईईईईईईए मम्मा आआआआआअह ,उफ्फ्फफ्फ्फ्फ़ ,yesssssssssssss. निकल रही थी और मै उसे जानवर की तरह से बुरी तरह से चोद रहा था,मेने कई फिल्मे देखि थी जिसमे औरत मर्द का चाहे कितना भी बड़ा लौड़ा हो ,ये नही कहती की बहुत बड़ा है,और समझदार औरत वो ही होती हैजो मर्द को झेल जाती है.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मै बिच बिच में उसकी दुदियाँ भींच देता था.करीब १७ मिनट तक मस्त चुदैके बाद मै मेने सास को बायीं कर्थल दे दी और उसका बाया घुटना मोड़ कर उसकी दायीं जांघ के ऊपर बेथ कर उसकी चूत में फिर से लौड़ा डाल कर चोदने लगा, उसकी चूत चौड़ा गयी थी,वो बार बार मेरी तरफ प्यार से पर मीठे दर्द से आहत हो कर देख रही थी,. मगर मै कुछ नही कर सकता था,मेरे लौड़े ने बहुत दिनों बाद एक रसीली औरत कस्वाद चखा था.मेरे आंड इस position में उसकी चूत पर टक्कर मार रहे थे.सास ने कहा की प्रदीप अब बस भी करो न मेने अपनी स्पीड बढ़ा दी और अपना सारा सफेद गाढ़ा मॉल उसकी चूत में उंदेल दिया ,मै बता नही सकता की मुझे कितना परम आनंद मिला.
मेने सास के चूतड अब भी पकड़ रखे थे,मै सास के ऊपर गिर सा पड़ा.३ मिनट बाद मेरा लंड बाहर निकलना सुरु होगया,आयर फिर सास ने मुझे कहा की प्रदीप पेटीकोट से पोंछ लो.मेने ऐसा ही क्या सास ने कहा की राज़ तुम्हारी सुहागरात ये सिर्फ आज आज के लिए थी या मेरी जिंदगी आगे भी आबाद रखोगे? मेने कहा की मम्मी आप मुझे बहाने से तभी बुलाना जब ससुर जी घर पर नही होंगे,सास ने कहा की ठीक है.इसके बाद मै और सास दोनों बातें करने लगे,मेने पूछा की मम्मी मेरे में ऐसा क्या है जो आपने मुझे हमेशा के लिए अपने बेड पर सोने का मौका दिया?सास ने कहा की राज़ तुम नही समझोगे,की आज रात तुमने मुझे क्या दिया है? मै इस शारीरिक सुख के मारे १३ साल से तड़फ रही हूँ जब से माया हुई थी.मेरा पति शराब का शोकिन है और दारू पीकर तो मुझे सूँघता तक नही.मै आज भी वेसी ही हूँ जैसी औरत २ साल बाद होती है,मै पूरी तरह से खिली भी नही हूँ जैसे और औरतें निचे से खिल जाती है,सचमुच फिल्मो में चुदने वाली औरतों की चूत के होंठ बाहर को लटक जाते हैं पर सास के नही थे.ससुर सास को चोद नही पाता था.

सास ने कहा की प्रदीप तुमने मेरी टाँगें थका दी हैं आज मेरी जिंदगी में पहली बार ऐसा हुआ है जब किसी अपने से पाला पड़ा हैऔर वो भी कड़क मर्द. जैसे तुम हो.मै सोच रही हूँ की माया साली एकदम पागल है जो तुम्हार प्यार अभी तक न पा सकी.मेरा मन सास की बातें सुन सुन कर उसे तीसरी बार चोदने का होने लगा.मै बाथरूम गया और कमरे में ही घुमने लगा.,मै छह रहा था की मेरा लौड़ा जल्दी से खड़ा हो जाये और मै अपनी सास को इस पर टांग दूँ.अस ने कहा की प्रदीप अब सो जाओ रात बहुत हो चुकी है तुम ऐसा करना की कल भी रुक जाना मै माया को फ़ोन कर दूंगी.पर मेरी तो आज पहली सुहागरात थी मै सास को कैसे छोड़ देता? मै पिशाब करके आया तो मेरे लौड़े में फिर से कर्रेंट बनना सुरु हो गया था.सास ने देख लिया,तो पेटीकोट पहनने लगी.मै समझ गया की सास छक चुकी है.पर मै कहाँ मानने वाला था,मेने सास को मनाया कि बस मम्मी सिर्फ आखिरी बार पर वो कह रही थी की नही प्रदीप ,कल भी तो करोगे न?आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मेने सास को प्यार से कहा की नही मम्मी मै आपकी सुन्दरता देखना चाहता हूँ.और इतना कह कर के मेने सास की पीठ ऊपर कर दी,मै उसके चूतड दबाने लगा.मै उसकी जांघ पर बैठ गया और उसकी फुद्दी अपने अंगूठों से फेलाने लगा.साली वाकी बड़ी मस्त औरत थी.पता नही मेरा इतना सारा मॉल कहाँ हज़म कर गईं थी?मेने लंड उसके चूतड़ों के बिच में रख दिया और घिसने लगा सास जल्दी ही गरम हो गयी.तब मेने उसकी जांघों के निचे हाथ डाल कर उस्के चूतड उठा दिए सास भी समझ गयी की पीछे से चोदेगा.इसलिए सास ने अपनी कुहनियाँ बिस्टर पर टिका दी और अपनी गांड उठा दी,मेने फिर से तीसरी बार अपना ८ इंची लम्बा लौड़ा सास की चूत में पेल दिया.सास बिलबिला गयी बस फिर मै उसे चढ़ह चढ़ कर अपने चूतड़ों से धक्के मार मार कर चोदने लगा,बीच बीच में में सास को अपने लंड पर उठा देता था.कभी कभी तेज झटके मारने पर सास निचे बिस्तर पर फेल जाती थी पर मै उसे फिर से उठा देता था.जितनी बार मर्द करता है हर बार वो पहले से ज्यादा समय लेता है.इस बार मुझे लंड पेलते पेलते भी दर्द होने लगा था पर मै झड़ने का नाम नही ले रहा था.मेने उसे करीब २२-२४ मिंट तक चोदा,और फिर उसकी चूत में झटके ले लेकर सारा मॉल फिर से झाड़ दिया ,
बस ये आखिरी बार था मेरा भी मन भर गया था,पर सास ने मुझे जो औरत होने का सुख दिया था वो मेरी यादगार बन कर रह गया था.इस बार हम दोनों छक गए थे.मेने सास को बहुत चूमा,और सास ने मुझे.रात के १ बज गया था .सास ने कहा की राज़ मै आज से तुम्हारी हूँ. इतना कह कर सास ने मेरी तरफ से मुह फेरकर करवट ले ली मेने भी सास को अपनी बाँहों में भर लिया और हम कब सो गए पता ही नही चला.सवेरे जब मेरी आँख खुकी तो मै तब भी नंगा था और सास ने मुझे आवाज दे कर जगाया कि अब तो उठ जाओ पतिदेव .मेरा शर्म के मारे बुरा हल था.पर वो मेरे पास बैठ गयी सास ने पूजा कर ली थी.और उसके करीने से गुंथे बाल बेहद अच्छे लग रहे थे,सास ने कहा कि राज़ आज बाज़ार चेलंगे,कैसी लगी सास के साथ चुदाई , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी सास की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/SwatiKumariDevi


मां बनने के लिए अपने सगे भाई से चुदवाया

आज जो भाई और बहन की चुदाई कहानी बताने जा रही हु वो मेरी सगे भाई से चुदवाने की कहानी हैं । आज मैं बताउंगी कैसे सगे भाई से चुदवाई, सगे भाई से चूत चटवाई, सगे भाई से गांड मरवाई, सगे ने मुझे नंगा करके चोदा, भाई ने मेरी चूत और गांड दोनों को मारा, भाई ने मेरी चूचियों को चूसा और चोद चोद कर मुझे गर्भवती बनाया .मेरा नाम आँचल है, मेरे माँ बाप मुझे अच्छी तरह से परवरिश की, पढ़ाया लिखाया, और फिर जो उनका अरमान था की मेरी शादी किसी अच्छे घर में हो और मेरा पति राजकुमार की तरह हो, मुझे कभी भी ज़िंदगी में किसी चीज की कमी नहीं हो, और फिर मेरी शादी जयपुर के एक प्रतिष्ठित परिवार में मेरी शादी करवा दी.

मेरी शादी को हुए अभी तीन साल हुए है, अभी मेरी उम्र २४ साल है, मैं देखने में काफी सुन्दर हु, जवानी भरपूर चढ़ी है, बदन गदराया हुआ है, ब्लाउज में चूचियाँ समाते नहीं समती, ब्रा का हालात भी ख़राब हो जाता है, क्यों की आज मैं बहुत खुश हु, और ससुराल बाले भी बहुत खुश है, मैं आपको अपनी ये कहानी आपके सामने पेश करुँगी. पहले तो मुझे लग रहा था की ये बात किसी और को बताऊँ की नहीं लोग क्या कहेंगे, कई तो ये सोचेंगे की क्या ये सही हो सकता है की कोई बहन अपने भाई से ही प्रेग्नेंट हो और खुश हो, पर हां ये मेरे साथ है, मैं खुश हु, और इसमें सिर्फ मैं अकेली नहीं हु, कई और भी है जो इस तरह का रिश्ता रखे हुए है और खुश है, मैं नॉनवेज स्टोरी डॉट कॉम पे कई सारे ऐसी कहानियां पढ़ी है, जिसमे ऐसे रिश्ते के बारे में है जिसमे एक भाई बहन पति पति के रूप में रह रहे है.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
मेरी शादी बड़ी ही धूम धाम से हुई, और शादी के चार से पांच दिन बाद ही मेरे पति को दौरा पड़ा, और वो पागल की तरह करने लगे थे, उसके बाद से हम दोनों के बिच में सेक्स सम्बन्ध नहीं बना क्यों की वो सोते तो मेरे साथ थे पर उनका लण्ड खड़ा नहीं होता था मैं कितना भी हिलाती डुलाती मुंह में लेती पर कुछ भी इसका प्रभाव नहीं पड़ता था, मैं काफी परेशां हो गई थी, क्यों की मुझे सेक्स चाहिए था, उनका बदन तो काफी गठीला था देखने में काफी अच्छे थे, मैं रात को पूरा उनको नंगा कर देती थी और मैं भी पूरी नंगी होके उनके ऊपर लेटती थी और कभी उनको ऊपर करती थी पर कोई फायदा नहीं होता था, उलटे मेरा दिमाग ख़राब हो जाता था, क्यों की मेरी चूचियाँ तन जाती थी, मेरे चूत से पानी निकलने लगता था, चूत मेरी गरम हो जाती थी, चूचियों का निप्पल टाइट हो जाता था, आँखे नशीली हो जाती थी पर मैं प्यासी की प्यासी रह जाती थी.

कई महीनो तक इलाज चला, पर वो ठीक नहीं हुए, घर में वो अकेला संतान थे, एक दिन मेरी सास बोली की बहू रात को सोने में तो कोई दिक्कत नहीं है. मैंने कहा क्या माँ जी समझी नहीं तो वो फिर बोली की मैं ये पूछ रही हु तो तुम दोनों में प्यार मुहब्बत है की नहीं, मैं समझ गई, की पागलपन के दौरे के बाद वो मुझे चोद पा रहे है की नहीं, मैंने कह दिया हां, इसमें कोई दिक्कत नहीं है, तो सासु माँ बोली भगवान् का शुकर है की इस हवेली के एक चिराग मिल जायेगा, फिर सासु माँ कहने लगी, देख बेटी, तुम जल्दी से एक बच्चा कर लो, क्यों की इस घर को एक वारिश की जरूरत है नहीं तो सब कुछ खत्म हो जाएगा, मैं हैरान हो गई, मैंने सोचा इतना बड़ा रिश्ता, सब ठाठ बाट की ज़िंदगी, मुझे कुछ चाल चलना पड़ेगा ताकि मैं इस हवेली की बहूरानी ज़िंदगी भर बनी रहु, मैं दो तीन दिन तक प्लान सोचते रही, तभी मेरा भाई जो की बंगलुरु में रहता है आया, मेरे पति को देखने की अब तबियत में सुधार है की नहीं,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
अपने भाई को देखकर मैं रोने लगी, उसने मुझे सांत्वना देते हुए कहा, बहन रोती क्यों है, हु ना मैं मैं इनको बड़ा से बड़ा डॉक्टर को दिखाऊंगा, ये ठीक हो जायेंगे, फिर पुरे दिन हम दोनों बातचीत करते रहे, उस दिन मेरे पति को चेकअप के लिए सासु माँ और ससुर दोनों जयपुर ले गए थे, घर में हम दोनों ही थे, शाम को मेरे ससुर जी का फ़ोन आया की हमलोग कल आएंगे. रात को कहना खाकर हम दोनों खुले छत पर घूम रहे थे और बात कर रहे थे तभी फिर से मेरी आँख छलक गई, और भाई ने मुझे गले लगा लिया, पता नहीं दोस्तों मुझे एक रूहानी एहसास हुआ और मैं अपने भाई के सीने से चिपक गई, वो मुझे अपनी बाहों में समेटे खड़ा था, और मैं उस पल का आनंद ले रही थी, तभी मैंने महसूस किया की भाई का लण्ड खड़ा हो रहा था और मेरे जांघों से सट रहा था, मेरी चूचियाँ उसके सीने से चीपकी हुई थी, फिर वो मेरे पीठ को सहलाने लगा, मैंने भी उसके पीठ को सहलाने लगी, और फिर मेरी साँसे जोर जोर से चलने लगी, और उसकी भी गरम गरम साँसे मेरे कानो के पास से गुजर रहा था, अचानक मैं थोड़ा अलग हो गई.

और दोनों निचे आ गए, थोड़े देर तक हम दोनों सोफे पे चुपचाप बैठे रहे और फिर मेरा भाई बोला क्या जीजा जी ठीक होंगे की नहीं, मैंने कहा कुछ भी नहीं पता और ऊपर से सास को पोता चाहिए, मैं कभी भी उनको पोता नहीं दे पाऊँगी, तो भाई बोला ये क्या बोल रही है, मैंने कहा हां, वो अब कुछ भी नहीं कर पा रहे है, पर ये बात मैंने अपने सास से झूठ बोला, जब वो मुझसे पूछी की सब ठीक ठाक है, तो मैंने कह दिया हां ठीक है और वो खुश हो गई, और बोली की चलो मेरे घर का चिराग आ जायेगा पर ये संभव नहीं है क्यों की मैं अकेले कैसे बच्चा दे सकती हु.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने कहा काश एक बच्चा हो जाता तो मैं यहाँ की रानी बन कर राज करती क्यों की और भी कोई वारिश नहीं है इस हवेली का. और फिर दोनों चुप हो गए, तो भाई ने कहा देख बहन एक बात है, तुम्हारे सास को पोता चाहिए, तुम्हारा पति दे नहीं सकता, तुम्हे भी बेटा चाहिए, अगर तुम मेरे से हेल्प चाहती हो तो तुम्हारी ज़िंदगी बन जाएगी और ये बात किसी को पता भी नहीं चलेगा यहाँ तक की तुम्हारे हस्बैंड को भी नहीं क्यों की वो पागल है. मैं तो अपने भाई का मुंह देखने लगी, पर बात में जान था, करीब पांच मिनट तक चुप रही वो नजदीक आके बैठ गया और मेरी बालों को सहलाने लगा और फिर मेरे से गले लगा लिया और फिर कब एक दूसरे के बाहों में खो गए पता ही नहीं चला, फिर मेरा भाई मुझे गोद में उठकर बैडरूम में गया और बेड पे पटक दिया.उसको बाद उसने मेरे ब्लाउज को उतार दिया और मेरे चूचियों को पिने लगा और दबाने लगा, मेरी चूचियाँ तन गई और निप्पल कड़ा हो गया, वो जोर जोर से मेरी चूचियों को खींचने लगा, और मेरे होठो को चूसने लगा, मैंने भी उसके होठों को चूसने लगी और उसके छाती के बालों को सहलाने लगी.

उसके बाद मेरा भाई मेरे सारे कपडे उतार दिए, और मेरी चूत की झांटो को सहलाने लगा, और फिर मेरे चूत में ऊँगली डालने लगा, मैं तो गरम हो गई थी, अब मुझे लण्ड चाहिए था क्यों की काफी दिन से लण्ड की भूखी थी, मैंने अपने भाई के लण्ड को मुंह में लिए और चूसने लगी, फिर दोनों 69 की पोजीशन में आ गए वो मेरे चूत को और मैं उसके लण्ड को चूसने लगी. और फिर वो बक्त आ गया जब मेरा भाई अपना मोटा लण्ड निकाल और मेरे चूत पे रख के जोर से धक्का मार और पूरा लण्ड मेरे चूत में घुसेड़ दिया, मैं आह आह करने लगी और फिर लगा वो जोर जोर से चोदने, वो मुझे गाली दे रहा था और मुझे वो गाली बहुत अच्छा लग रहा था मुझे जोश आ रहा था, फिर उसने मेरे चूत में सारा माल झाड़ दिया, और फिर से चूची को पिने लगा, करीब आधे घंटे बाद उसका लण्ड फिर से कड़ा हो गया और वो फिर से मुझे घोड़ी बना कर चोदने लगा,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। रात भर मैं चुदवाते रही और वो मुझे चोदते रहा, मेरा भाई करीब दस दिन तक रहा था और मुझे खूब चोदा, मुझे तो ख़ुशी का ठिकाना नहीं रहा था जब मुझे माहवारी नहीं आई थी, डॉक्टर के पास गई तो डॉक्टर ने कन्फर्म कर दिया की मैं माँ बन्ने बाली हु, मैंने ये बात अपनी सास को बताई की मैं माँ बन्ने बाली हु वो बहुत खुश हुई, पर उनको ये पता नहीं है की ये बच्चा मेरे भाई का है, उनका बेटा तो मुझे चोद भी नहीं सकता.कैसी लगी हम डॉनो भाई बहन की सेक्स कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना Facebook.com/AchanSharma

बाप बेटी की चुदाई - जवान बेटी की मस्त चुदाई

Chudai kahaniyan चुदाई की कहानी, बाप बेटी की चुदाई hindi sex story, अपनी बेटी को चोदा hindi sex story, अपनी बेटी मधु के साथ चुदाई की हैं। Baap beti ki sex xxx hindi story,बाप बेटी की चुदाई कहानियाँ, Indian xxx Father & Daughter sex hindi story,एक दिन मैं ड्रिंक करके रात को 9 बजे घर आया ,देखा तो मधु बैडरूम में रानी  कलर की साङी पहन कर सो रही थी  ,उसने बाल खुले कर रखे थे ,ब्लाउज़ में वो बहुत सुन्दर लग रही थी ,कमरे में नाईट बल्ब जल रहा था ,मैने अपना बैग रखा और मुह हाथ धोये और कपडे बद्ले ,गेट पर ताला मारा और फ़िर सीधा उसके पास गया। मैने उसके होंठों के ३-४ चुम्बनं ले लिए वो जाग गयी ,मैने उसकी वो शर्त पूरी कर दी थी.जैसे ही मैने मधु का  मुह चूमा ,उसने अपना मुँह घुमा कर मेरी तरफ़ देखा ,रात के 9 . 1 5 बजे थे ,मैं जैसे हि बिस्तर पर चढ़ने लगा उसने कहा पापा मैने खाना बना रखा है चलो खाना खा लो ,मैने भी नहीं खाया है ,उसने मेरे हाथ में रिमोट पकड़ाया और किचन में चली गयी ,
इसके बाद हम दोनों ने खाना खाया ,और बैडरूम  में लेट गए ,मैं गर्मी के कारण बनियान और अंडरवियर मे ही था पर वो साड़ी  में थी ,फैन , फुल स्पीड पर था ,बारिश तो नही हो रही थी ,पर आसमान में रह रह कर बिजली चमक रही थी ,करीब 10 बजे मधु बायीं करवट मुँह फेर कर लेट गयी ,मैँ उसके पीछे लेट गया और मैने धीरे से उसके कंधे पर हाथ रख दिया ,मै और करीब खिसक गया। मैने उसे पूछा मधु क्या सोच रही है ?उसने कहा पापा इस बिस्तर पर तो मम्मी का अधिकार है ,मैने उसे बाँहों में भर लिया और प्यार किया ,कमरे में नाईट बल्ब जल रहा  था ,मैने उसे कहा ,मधु चिंता मत कर ,वो जब आएगी देख़ा जायेगा ,मैने उसके स्तन दबाता रहा ,मैनें उसे कहा मधु बड़ी लाइट जला दूँ ?उसने कहा पापा जैसी आपकी इच्छा ,मैने उठ कर के बडी सी ऐफ एल जला दी ,और फ़िर उस्का चेहरा अपनी तरफ़ घुमा दिया ,मधु लाइट मे बहुत ज्यदा सुन्दर लग रही थी ,लेकिन उसकी आँखें झुकीं हुए थी ,मैने उसे चूमा तो वो रोने लग गयी ,मैने उसे सांत्वना दी ,मेने उसे पूछाः  क्या हुआ मधु? वो सुबक रही थी ,उसकी आँखोँ मे मुझ्से आसूं नहीं देखे जा रहे थे ,उसने कहा पापा आप बहुत अच्छे हो फ़िर हमारे सम्बन्ध ऐसे क्योँ बने ?तब मैने उसे संक्षेप में सारीं बात बतायीं ,कि मै तेरी मम्मी को पसन्द नहीं करता हूँ ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।उससे मेरे करीब एक साल से शारीरिक सम्बन्ध नहीं हैँ ,दूसरे मै तुझे बहुत चाहता हूँ ,तीसरे तू जवान हो गयी है ,तू सुन्दर है ,और चौथे ये कि तू हि मेरी शारीरिक भूख मिटा सकती थी ,मौसम अच्छा था और हम दोनों अकेले थे ,ये ही  सारे काऱण थे कि हमारे बीच  मे दैहिक सम्बन्ध बन गये ,उसने कहा पापा अब ना तो मै आपकी बेटी रही और न हि पत्नि बन सकती हूँ। आज तक आपने मुझे बेटी की तरह प्यार दीया और ऱक्षा की ,लेकिन अचानक पत्नि की तरह इस्तेमाल कर लिया। अब मै क्या करूँ ? मेरे पास उसके जवाब नही थे ,इसलिए मैने उसके आँसूं पी  लिये ,क्योंकी अब मधु मेरी जान बन चुकी थी ,मेंने बदले में उसे चुप करने के लिये उसके होंठ अपने होंठों में ले लिये।पापा मुझसे वादा करो कि जब तक मम्मी नहीं आती आप मुझे अपनी बीबी की तरह इस्तेमाल करोगे ,पापा पापपाआ …………।  मेरे अँग- अंग पर अपने प्यार की मुहर लगा दो ,मैं समझ गया कि वो मुहर कहाँ लगवाना चाहतीं थी ? उसने कहा पापा आप मेरा बदन देखना चाहते हो ना? लो मैं आपकी बाँहों में और आपके बिस्तर पर हूँ  ,मधु ने कामुक होकर कहा पापा आज की रात आप मुझे गर्भवती करोगे ना ? ये बात कहते हुए उसने अपना चेहरा मेरे सीने में छुपा लिया ,मेरा  हाथ उसकी क़मर में पहूंच चुका  था। मैने उसे अपने सीने से सटा लिया।मुझे हल्का नशा था उसने कहा पापा आप फ़िर पीकर आये हो ना ?

मैने मना किया  था  ना ?आप ऐसा करेंगें तो मुझे खो देंगें मेंने उससे मॉफी मॉँगी ,मै उसकी ब्रा के बटन ढूंढने लगा पर मधु ने ब्रा नही पहनी थी ,मधु ने कहा पापा क्या ढूंढ रहे हो ?मेने कहा कुछ नही। मैने अपना दायाँ हाथ उसके कूल्हे पर रख दिया ,और नीचे खिसकाने लगा ,उसने कहा पापा मै साड़ी  मे क़ैसी लग रही हुँ? मैने कहा मधु मै तुम्हारी क्या  और कैसे तारीफ़ करून?बस तुम लाजवाब हो। मेरे हाथ उसके नितम्बों की गोलाई मेहसूस कर रहे थे ,मै उसके उठे हुए नितम्ब बाहर से हि दाबने लगा। मधु मेरे करीब होती चली गयी ,मैने उसके कमर मे ब्लाउज़ मे हाथ ड़ालने कि कोशिश की पर बेकार ,बहुत टाइट  था। मेरा हाथ फिर नीचे फिसल गया ,और इस बार मैने उसकी साड़ी और पेटीकोट दोनों उपर कर दिये ,मेरे हाथ उसके गरम नंगे नितम्बों पर थे ,मेरी हथेली मधु के नितम्बों मे धंसती जा रही थी ,उसका नीचे का हिस्सा काफी तप रहा  था ,दुसरी हाथ से मै उसके बाल सहला रह था ,जब मुझसे नहीँ रहा  गया मैने मधु को सीधा कर दिया ,और उसके उपर लेट गया ,मैने उसके बटन खोल दिये ,उसके दोनों सुडौल  स्तन बेहद सुन्दर दिख रहे थे ,मेने उन्हे बारी  बारी से चूसा ,मधु कि छाती धड़कने लग गयी थीं ,उसकी गालों पर किस करके मैनें उसकि साङी के चुन्नट निकाल दिए उसने कोइ प्रतिरोध नहीं  किया ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मैने फिर साड़ी खींच कर किनारे रख दी ,मधु अब पेटीकोट मे थी ,ब्लाउज़ ख़ुला  था ,मेरे हाथ रुकने क नाम नहीँ ले रहे थे मै उसकी कर्वी फिगर देखना  चाहता  था। आखिर में मेने उसके ब्लाउज़ और पेटीकोट भी  उसके तन से  अलग  कर दिया ,वाह !!!! क्या मस्त और सॉलिड फिगर थी मधु क़ी ? वो साक्षात् काम की  देवी रति लग रही  थीं। रौशनी में उसका दूधिया बदन देख कर मुझे अपने भाग्य पर भरोसा नहीं हो रहा था। लेकिन सच मेरे सामने था ,मै उसे 20-25 सेकंड अपलक निहारता रहा। मैने उसे बिस्तर पर 3 -4 पलटियां दी ,उसके गोरे  गोरे फिर मेरे होंठ उसके बदन पर चलने लगे,मधु कि छाती उपर नीचे  होने लगी , मधु की दुद्दियाँ बस क्रिकेट बाल से थोड़ी ही बड़ी थी ,मैने जैसे हि अपनीं बनियान उतारीं ,मधु मेरे अंडरवियर को गौर से देखने लगी ,मेने करवट लेकर उसे फ़िर से अपने सीने  से सटा लिया ,मेरी छाती के बाल उसकी दुद्दियों  पर मचल रहे थे ,हम दोनों आपस में लिपट से गये थे ,मधु के हाथ धीरे धीरे मेरे अंडरवियर की ओर आ रहे थे तभी मैने अपने अंडरवियर पर उसके हाथ का  दबाव महसूस किया।

उसने कच्छे के बाहर से ही मेरे लिंग को सहलाना शुरू कर दिया ,तभी मेरे कानोँ में उसकी मधुर आवाज सुनायी दी पापा मत तरसाओ ,और ये कह कर उसने मेरा अंडरवियर नीचे खिसका दिया उसने मेरा लिंग जबर्दस्त ढंग से अपनी मुट्ठी में  ले लिया  था।  मै मधु की काम वासना को भड़का चूका था पर अब चुप हो गया था मै उसकी कसक देखना चाहता  था तभी मधु ने मेरा कच्छा घुटनें तक सरका  दिया ,फ़िर जैसे हि मेंने टॉँग उठाकर कच्छा उतार कर फेंका वो  अपना मुँह मेरे लिंग की तरफ़ लायी ,वो मेरे लिङ्ग कि मोटाई का अन्दाज लगा रही थीं। वो अपनी अंगुली और अंगूठे का घेरा बना कर मेरा लण्ड नाप रही थी ,उसकी ऊँगली और अूँगूठे के बीच में करीब पौण इंच का गैप ,मैं सीधा  कमर के बल लेट गया। मैने तुरंत पूछा मधु। क्या देख रही है ? उसने बिना शरमाये कहा पापा , आपका थण तो बहुत मोटा  है ,मधु मेरे लिंग को हिलाने लगी वो मेरे लिंग कि चुम्मियाँ लेने लग गयीं ,उसके हाथ कि गरमि से और उसकि जीभ के स्पंदन से मेरा पानी कि तरह जैसा चीकना द्रव बहने लगा ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।मधु मेरे लिंग की खाल को उपर नीचे कर रही थी ,उसके कोमल स्पर्श से मेरी आँखें बंद होने लगी, उसने कहा पापा ये आपकी पैंट में कैसे समाता है ?मैने आनंदित हो कर कहा जैसे शानिवार की  रात को तेरे अन्दर समा गया था। मधु नाराज हो गयी ,और बोली गंदे कहीँ के ,मेंने कहा  तुझे कैसा लग रहा है ? उसने कहा पापा जब मुझे ये सब अच्छा लग रहा है तभी तो मैने इसे हाथ में लिया है ,ये कहते हि उसने मेरे लिँग का गुलाबी चिकना सुपाड़ा अपने मुह में ले लिया।और चूसने लग गयी ,उसके सिर के बाल मेरे पेट और जांघों पर गुदगुदी कर रहे थे ,वो बार बार मेरे कड़क लिंग को हथेली  मे लेकर  चूस रही थी उसकी लार मेरे लिंग की जड़ तक पहुँच गयी ,तभी मैने मधु की जांघों के नीचे दोनो हथेलियाँ डाली और उसका नितम्ब वाला हिस्सा उठा कर अपनी छाती पर रख दिया अब उसकी चिकनी चूत की खुश्बू मेरे नथुनों में घुस रही थी ,मैने उसकी दोनों शानदार चुत्तडों के नीचे हथेलियाँ टिका दी,और उसकी चूत की दरार को , सच में जन्नत मेरे चेहरे के सामने आ गयी थी ,मधु की गुदा बार बार संकुचित होने लगी ,मैं उसकी मोटी  मोटी  फाँकें  कामुक होकर निहारने लगा ,उसकी चूत का कर्व  या कट  करीब 3 इंच लम्बा था ,तभी मैने उसके भगांकुर पर पानी जैसी बूंदे देखी ,मधु के नीचे वाले मुँह से लार टपकने लगी थी ,वो काम आसक्त हो गयी थी ,मेने उसके चुत्तड़ नीचे किये और उसकी काम रस की बूँदें पीने लगा ,मधु मस्ती में आकर अपने दोनों चुत्तड़ इधर उधर करने लगी वो मेरा सारा ध्यान अपने सुन्दर चूत पर केंद्रित करना चाहती थी ,

उसकी चूत का काट जरूर लम्बा था पर मुझे पता था कि कुल एक इंच का स्लॉट है उसका , उसका पेशाब का छेद भी है और उसके नीचे उसका गुप्ताँग। इसके बाद खुद मधु ने हि अपनीं चुत को मेरे मुह पर रख दिया और घिसने लगी ,उसकी छोटी छोटी झाँटें मेरे गालों पर चुभ रही थी ,पर उस आनंद में मै सब कुछ भूल गया ,मेने उसके दोनो नितम्ब फैलाये और अपना चेहरा उनके बीच मे फ़ंसा दिया ,मै अपनी  जीभ से उसकी गुदा पर गुदगुदी करने लगा ,मधु अपने सुडौल चुत्तड़ ऊठाने लगी थी ,मुझे उसकी चूत से निकालता रस बहुत आनन्द दे रहा था ,मधु कि चूत में मेरी जीभ नही घुस पा रही थी ,मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे मैने बिना छत्ता तोड़ें शहद निकाल लिया ,मैने मस्ती मे आकर उसकी गुदा में थूंक में उँगली गीली कर के हल्के से घुमायी ,उसने मेरी तरफ़ गर्दन घुमा कर देखा ,मधु आनन्द के मारे खुद ही अपना भगांकुर (चूत के ऊपर जो छोटा सा किसमिस की तरह मुलायम नोक होती है ) मसलने लग गयी ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।इतने में बाहर तेज बारिश शुरू हो गयी ,बस तभी मैने मधु को नीचे लिटा दिया और उसकी आँखों में देखा। वो मेरे  2 इंची  मोटे हिलते हुए लण्ड को  घूरने लगी ,मेंने ऊसकी फ़ुद्दी पर एक बार हाथ फेरा और उसकी दोनों टाँगें पीछे कई तरफ़ को ऊठा दी ,मेंने अपने लौडा पकडा और उसकी चूत पर घिसने लगा ,फ़िर मैने जैसा 3 दिन पहले किया था पूरी ताकत से उसके अन्दर लण्ड पेल दिया,मधु फ़िर से कराही  और सामान्य हो गयी ,मधु ने कहा पापा आपका थण बहुत बड़ा  है , धीरे- धीरे पापा, धीरे- धीरे लेकिन मै उसे चोदने लग गया मधु लगातार सिसक रही थी ,धीरे धीरे मैने उसकी टाइट चूत में लन्ड ६ इंच तक पेल दिया और जोर जोर से अपने चुत्तड़ आगे पीछे करने लगा ,मधु अपने हाथों से मुझे पीछे को धकेलने लगी ,पर आज कि रात मै उसकी नाभि तक लण्ड पहुंचाने मे लगा था। करीब ५-६ मिनट बाद मेने लण्ड बाहर निकाला और उसे ऐसी पोजीशन में कर दिया जैसे बकरी आगे के घुटने मोड़ लेती है पर पीछे वाला हिस्सा उठा हि रहता है मै उसके पीछे सुडौल चुत्तडों को अपनी जाँघों के बीच में लेकर झुक गया ,फिर मैने मधु को वो कामसुख देना शुरू कर दिया जिसके लिए उसने मुझे 100 में से 200 मार्क्स दिये थे उसे मेरा मस्त कड़क लौड़ा पसन्द आ गया था, बैडरूम मधु की कामुक आवाज़ों से गूंजने लग गया ,और मैं एक बहशी जानवर की तरह बेरहम हो गया ,मैने उसकी पतली कमर कस कर पकड़ ली थी ,उसकी आहें और दर्द भरी सिसकारियाँ मुझे बेहद आनंद दे रही थी ,मधु की आवाज़ ,बारिश की तेज आवाज़ में दब कर रह गयी , थोड़ी देर बाद मै जैसे हि रुका  ,मधु ने कहा पापा ,आप मुझे अपनी  गोद में उठा लो ……। .

उसकी बात सुनकर मुझे ताज्जुब नहीं हुआ क्योंकि अक्सर अत्यधिक काम  वेग में ऐसी ख्वाहिश कर बैठती हैं ,मेंने फ़ौरन उसे बिस्तर से नीचे खिंचा और गोद मे ऊठा लिया उसने आपने पैर मेरी कूल्हे के दोनो तरफ़ फैला दिये ,मेने अपने खडे लण्ड को नीचे से मधु की चूत पर टिकाया और मधु को नीचे कि तरफ़ को दबाया मधु उपर को उछली ,उसने अपने  दोनों हाथों का हार सा बना कर मेरे गले में डाल रखा  था। उसके चुत्तड़ मेरी हथेलियों में  थे ,मै मधु को अपने हिसाब से उपर नीचे उछालने लगा , मधु के खुले बाल हवा मे लहराने लगे थे ,मेंने कामुक होकर मधु को कहा ,कहां तक गया तेरे ……… ? क्योंकि मधु की गोरी मोटी फाँकों से मेरे अण्डकोष बुरी तरह दब रहे थे ,उसने मेरी बात सुनकर मेरे होंठों पर अपने दाँत गड़ा दिये ,मुझे ऐसा महसूस हो रहा  था जैसे मेरा लण्ड उसकी बच्चेदानी के मुँह को उपर धकेल रहा  हो , मधु ऊईई.………………   उईई.…………………  ……… पापा करके सिसकारियाँ भरने लगी ,मै ऐसा सिर्फ़ 3  मिनट ही कर पाया ,क्योंकि मधु का दो तिहाई वजन मेरे लण्ड़ पर पड़ रहा था ,मुझे लग रहा  था  कि मेरा  7 इंची लम्बा लण्ड उसकी कसी हुई मांसपेशियों में फंस रहा था ,मैने उसे आहिस्ता से नीचे बेड़ पर लिटा दिया ,मै भी  थक गया था और बिस्तर पर पीठ के बल लेट गया ,लेकिन मेरा कामुक लण्ड ऐसे सुनहरे मौके को नहीं छोड़ना चाहता था ,मधु भी  थक ग़यी थीं ,फ़िर उसे पता नहीं क्या सूझा ? उसने अपनी दायीं जाँघ उठायी और बिस्तर पर मेरी दोनों टाँगों के बाहर टाँगें फैला कर खड़ी हो गयी ,मेरी नजर उसकी उभरी हुई फुद्दी पर गयी , उसकी आँखों में काम वासना के लाल डोरे तैर रहे थे ,शायद उसकी फुद्दी में बहुत जान थी ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।और वो  प्यासी होने के कारण मेरे तगड़े लौंडे को अब भी घूर रही  थी ,तभी मधु ने धीरे धीरे नीचे बैठना शूरू किया उसकी माँ ने पूरी जिंदगी में ऐसा नहीं किया  था ,बेटी ने धीरे से मेरे लण्ड को पकड़ा और उसे अपनी फ़ुद्दी के छेद पर सटाया और हल्के से एक आह के साथ उस पर धंसती चली गयी ,उसने अपने दोनो हाथ मेरी छाती पर टिका दिये और मधु , मेरी छाती पर पकड़ बना कर सिर्फ अपने चुत्तडों को आगे पीछे संचालित करने लगी ,मैं उसके कामसुख लेने के तरीके को देखने लगा ,थोड़ी देर बाद मधु ने अपने तन को पीछे की तरफ झुका लिया और अपने चुत्तड़ नीचे उपर करने लगी ,मधु  सही मायनों  में मुझे चोद रही थी  ,और वो आँखें बंद करके लगातार अपने  चुत्तडों से जोर मार  रही थी ,करीब ४-5 मिनट बाद मधु मेरे लण्ड पर बिलकुल बैठ गयी , तभी मैने काफी गरम पानी अपने लण्ड के चारों ओर महसूस किया ,  वो झड़ चुकी थी ,और मेरा लण्ड  आ गया और मेने लेटे  ही लेटे कस कर 15 -16 धक्के मारे ,और अपने चुत्तड़ बिस्तर से 8 -9 इंच उठा दिए ,मेरे आंड उसकी गुदा पर सट चुके थे ,मैं मुश्किल से 5 -6 सेकंड ऐसे ही रहा ,और मेरा वीर्य वाला वाल्व खुल गया और मधु की चूत भरती चली गयी। इसके बाद मेरे चुत्तड़ अपने आप नीचे होते चले गए। मधु मेरी छाती पर लेट गयी ,जैसे जैसे मेरा लण्ड सिकुड़ता गया ,मेरी झाँटे मेरे दोनों आंड हम दोनोँ के बदन के पानी से भीगते चले गये ,मधु ने अपने लहराते काले बालों से  मेरे चेहरे को ढक  दिया , हम दोनों अपनी सांसों पर  काबू पाने लगे,कैसी लगी हम डॉनो बाप बेटी की सेक्स कहानी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बेटी के साथ चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/MadhuSharma

पापा के दोस्त ने मेरी जवानी का मजा उठाया

आज जो चुदाई कहानी बताने जा रही हु वो मेरी पापा के दोस्त के साथ चुदाई की हैं । आज मैं बताउंगी कैसे पापा के दोस्त ने मुझे चोदा,कैसे पापा के दोस्त ने मेरी चूत और गांड दोनों को मारा, पापा के दोस्त ने मेरी चूत को चाटा, पापा के दोस्त ने मेरी चूचियों को चूसा और पापा के दोस्त ने मेरी चूत फाड़ दी.मेरे पापा के एक सीनियर दोस्त हैं और रिटायर हो चुके हैं,वो हमारे घर से करीब 4 किलोमीटर दूर रहते थे,उनका घर कॉलेज से आते हुए रस्ते में पड़ता था उनका हमरे यहाँ काफी आना जाना था,उनके रिटायरमेंट को 2 साल हो चुके थे,उनका एक बेटा था जो बंगलौर में काम करता है,आंटी की डेथ 6-7 साल पहले हो चुकीं थी।पापा कहा करते थे की कभी अपने अंकल के पास भी चली जाया करो उनके हाल चाल पूछ लिया करो,वो बेचारे अकेले रह गए है उन्होंने काम के लिए एक महिला रखी हुई थी,

जो दिन का खाना बना कर चली जाया करती थी।मैं अक्सर उनके घर एक आध हफ्ते में चली जाती थी और वो मेरे लिए कोफ्फे या ड्रिंक बना देते थे,मै थोड़ी देर रेस्ट करके और kuch magzin पढ़ कर चली जाया करती थी कभी वो मुझे कार से भी छोड़ देते थे,एक दिन मेने देखा की उनकी अलमारी में सेक्स की भी कुछ किताबें राखी हुई थी,में उनके बेडरूम में बैठ कर पढने लगी।में कुछ ऐसे दृश्य देख रही थी जो काफी हॉट थे और किस्सिंग सिन थे,मुझे पता नही चला की वो कब मेरे पास आ कर खड़े हो गए और वो भि पीछे।वो झुके और पीछे से मेरा चेहरा पकड़ कर 3-4 बार किस कर लिया। किताब मेरे हाथ में ही थी।में सलवार और सूट में थी। मेरा चेहरा शर्म से लाल हो गया,में उन्हें कुछ न कह सकी धीरे से उनके हाथ मेरे वक्ष की तरफ फिसलने लगे,और उन्होंने मेरी दुदियाँ जकड ली,मुझे उनसे यह उम्मीद नही थी,पर मेरी गलती यह थी की में वो किताब पढ़ रही थी।वो मेरी दुदियाँ मसलने लगे।पहली बार किसी मर्द ने मेरी छातियों पर हाथ रखा था। मेरी आँखे नशे से बंद होने लगी में छह कर भी उन्हें रोक नही पायी।फिर वो बगल से घूम कर आये और मेरी बगल में बैठ गए।उन्होंने उस समय तहमल और बनियान पहन राखी थी। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फिर तो वो मुझे पागलों की तरह चूमने लगे।में उनका बहुत सम्मान करती थी।मेने उन्हें धीरे से कहा की अंकल प्लीज नही उन्होंने धीरे से सेक्सी आवाज में कहा की मधु तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो।और औरत मर्द के लिए ही बनी होती है।यह कह कर उन्होंने अपना दायाँ हाथ मेरे सलवार में डाल दिया .में चिहुंक उठी जब उन्हने मेरे दाना दबाया।उनकी हथेली मेरे गुप्तांग के बालों को सहला रहीथी।वो मुझे चूम भी रहे थे,मेरी दुददी भींच भी रहे थे और निचे हाथ से काम उत्तेजित भी कर रहे थे,मुझे ऐसा आनंद आज तक नही मिला था।मुझे ऐसा लगा की मेरा पानी टपकने वाला है।उनकी ऊँगली मेरी गुप्तांग को सहला रही थी ,फिर उन्होंने मुझे अपनी गोद में किसी बच्चे की तरह उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया।वो खुद भी मेरे ऊपर आ गए,टहमल तब भी था।उन्होंने मेरा कुरता ऊपर कर दिया और मेरे निप्पल अपने मुह में लेकर चूसने लगे।उनकी मूछें मेरे बदन को स्पर्श कर रही थी।

वो चुमते चुमते मेरे निचे की तरफ आ रहे थे अपर में ऐसी काम के अधीन हो चुकी थी वो मेरी नाभि तक आ गए,फिर उन्होंने मेरा नाडा खोल दिया।और मेरी काली कच्छी निचे सरका दी ,उनकी ऊँगली मेरे दाने पर गोल गोल घुमने लगी थी,में इतनी उत्तेजित ही गयी थी की मेने अपनी आँखें बंद कर ली मेरी सांस तेज तेज चल रही थी।इसके बाद वो फिर से मेरे होंठों को चूसने लगे।वो मेरी गर्दन और कानो के निचे चूम रहे थे,मुझे लगा की में अपने बस में नही हूँ।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
उन्होंने अपनी टाँगें फेला ली थी और मुझे पानी जांघों के बिच में किसी सख्त लम्बी और गोल चीज़ का अनुभव हो रहा था।उन्होंने मेरी सलवार और कच्छी दोनों निकल दी,इसके बाद वो पता नही क्या करने लगे मेरे निचे।तभी मुझे अनुभव हुआ की कोई गरम अंडे की तरह की मांसल चीज मेरी योनी पर आकर टिक गयी है
अंकल ने धीरे से मेरे दोनों पैर ऊपर किये और अपने बाएं हाथ में पकड लिए ,मेरे लिए ये बिलकुल नया अनुभव था।अंकल ने वो गर्म गर्म मांसल करीब 7 इंच लम्बा डंडा मेरे बिलकुल निचे से ऊपर तक की फांकों तक करीब 6-7 बार घिसा।मेरी छातियाँ ऊपर निचे होने लगी थी तभी अंकल ने अपने चूतडों से एक जोर से धक्का मारा और में बिलबिला गयी,मेरे अन्दर उन्होंने अपना काला डंडा घुसेड दिया था,मेने दर्द से उनकी तरफ देखा तो उन्होंने मेरे गाल थपथपाए और कहा की मधु बस।।चला गया मत घबरा,,बस इसके बाद अंकल धीरे धीरे उस काले मांसल डंडे को मेरे अन्दर धकेलने लगे।अब मुझे भी मजा आने लगा था।अंकल के चूतड जितनी तेजी से मचलते थे,मुझे उतना ही मजा आने लगा था,अंकल ने अब मेरी टाँगें छोड़ दी थी,पर आनंद के मारे मेने ही खुद फेला ली थी।अंकल मुझे इसी हालत में करीब 15 मिनट तक खूब चोदते रहे ,उन्होंने मेरे पूरा अन्दर दे दिया था।मै समझती थी की बूढ़े मर्द लड़कियों को प्यार नही कर सकते।पर उन्होंने मेरा दावा गलत कर दिया था।आखिर में अंकल की स्पीड काफी बढ़ गयी और कमरे में उनकी सांसें और मेरी दबी दबी आहें भर गयी थी,तभी अंकल ने अपना मुह ऊपर की तरफ किया और सांड की तरह से गले से आनंद में आवाज निकली और मेरे अन्दर शयद बच्चेदानी पर अपनी 7-8 बार ऐसी मजेदार गरम पिचकारी मारी की मै मस्त हो गयी,अंकल धीरे से मेरे ऊपर लेट गए ,करीब 2 मिनट तक हम दोनों ऐसे ही पड़े रहे।इसके बाद अंकल ने मेरी चुम्मियां ली और फिर सीधे होकर बिस्तर पर मेरी बगल में लेट गये.

मेरी नजर उनके काले लंड पर टिक गयी ,जिस पर थोडा सा खून लगा हुआ था,साथ ही मेने अपनी जांघों के बिच में देखा ,उसके किनारे भी खून से सने हुए थे।में समझ गयी की अंकल ने मेरा कोमार्य भंग कर दिया है।
उनका काला मोटा लंड मुरझा गया था पर उसकी खाल अभी भी पीछे ही थी।अंकल का मुरझाया हुआ लंड भी करीब 5 इच का था,उफ्फ्फ।।।जब मेने ध्यान से देखा की हाय।।।।।मेरे इतना अन्दर गया होगा में सिहर उठी। अंकल की आँखें बंद थी,में रोने लगी ,अंकल ने मुझे चुप करा दिया,और कहा की बस पहली बार सभी लड़कियों के निकलता है, अंकल ने अपने तहमल से मेरा गुप्तांग और अपना लंड साफ कर दिया। मेरी सारी झिझक मिट गयी थी।मेने उठ कर अपनी सलवार पहन ली,अंकल ने मुझे कहा की मधु कैसा लगा,मेने सर झुका कर कहा की अंकल आपने मेरे साथ क्या कर दिया ?उन्होंने कहा की हर लड़की के साथ मर्द ऐसे ही करते है पर किसी को मत बताना,मेने कहा की अंकल मुझे बहुत अच्छा लगा।उन्होंने कहा की जब भी मूड बने तो यहाँ आ जाया करना,इसके बाद उन्होंने मुझे चाय बनाने के लिए कहा और मार्किट चले गए ,उन्होंने मुझे 2 गोलियां खिलाई और कहा की अब तेरे पेट में बच्चा नही ठहरेग।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अंकल ने कहा की जल्दी से उठ और बाथरूम में जाकर के पजोर लगा कर पेशाब कर ले ,मेरा वीर्य अभी तेरे ही अन्दर होगा।में जब पेशाब कर रही थी तो मेरे छेद से करीब 2 चमच्च सफ़ेद गाढ़ा घी जैसा पदार्थ निकला ,जो की उन्होंने मेरे अन्दर धकेल दिया था।कैसी लगी पापा के दोस्त के साथ सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो अब जोड़ना Facebook.com/NehaKumari

शराब की नशे में अपनी बेटी का चोदा

ये बाप बेटी की चुदाई कहानी,अपनी बेटी  की चुदाई हैं.घर मे मै,मेरी बीबी और मेरी बेटी जो कि 18 साल की है ,रहते थे मेरा घर गांव से करीब २ फर्लांग दूर खेत में था ,मै लगभग रोज ही शराब पीकर घर लौटता था कभी मैं घर पर खाना खाने से पहले पीता था ,मैं ड्राइंग रूम में बैठ कर पीता था ,मेरी बेटी मुझे बहुत प्यार करती थी ,
मैं अपनी बीबी की गैर मौजूदगी में उसकी कच्छी खिसका कर ऊसका गुप्तांग देखता था ,जो बेहद चिकना और गोऱा था। तब उसकी झाँटे भी नहीं आयी थीं ,पर अब वो बडी हो गयी थी ,मेरी आदत थी कि मैं टाइम निकाल कर उसका गुप्तांग देख़ा करता था ,उसकी गोरी चिकनी चूत पर रेशे उगने शूरू हो गये थे ,फ़िर कुछ महीने बाद उसके बाल मोटे और काळे होने लग गये ,

मेरी बीबी मेरे शेविंग रेज़र से अपनी झाँटे बनाती थी ,एक दिन मैने देखा कि मधु मेरा शेविंग किट टटोल रहीँ है ,मै समझ गया कि मधु अपनी झाँटें साफ करेगी ,मेंने उसमेँ 4 ब्लेड रखे हुए थे ,उसमे से एक गायब हो गया ,बस उस रात मैने फ़िर से उसकी सोते हुए कच्छी साइड की और मेरा शक सही निकला ,उसनेँ झाँटें साफ़ कर ली थी ,उसकी चूत देख कर मेरा लौड़ा खड़ा हो गया ,वो हर 20 -25 दिन बाद झाँटें साफ़ करने लगी थी ,बस मेरा मानना था कि जब लड़की झाँटें साफ़ करने लग जाये तो वो चुदने लायक हो जाती है ,वो घर में ही मासिक स्राव वाले दिनो में पुरानी चादर के टुकड़े लगा लिया करती थी ,दिनो वो मुरझाई सि रहतीं थीं ,मैं काफी शराब पीने लगा था ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। वो मुझे रोज मना करती थी ,पापा आप शराब छोड़ दो ,पर मै अपनी बीबी से बहुत परेशान था ,मेरी बेटी 18 साल में चल रही थी ,सुन्दर तो वो थी ही ,उसके जिस्म के अंगों कि तरफ़ जब जब मेरी नजर पड़ती थी ,मैं बेचैन हो जाता था था , घर में अक्सर स्कर्ट और टॉप मे रहती थी पर कॉलेज जीन्स मे जाया करती थी ,वो बी एस सी में आ गयी थी
जब इण्टर में उसकी फेयरवेल हुई उसनेँ साङी पहनी ,उस वक़्त मै उसकी कद काठी देख कर बहुत कामुक हो गया था ,मै उसकी साड़ी ठीक करने के बहाने नीचे बैठा और उसकी साडी के चुन्नट सेट किये ,मै उसकी साडी और पेटीकोट हल्के से उठा कर देखा उसकी नाजुक चिकनी गोरी पिंडलियाँ बहुत सुन्दर थी ,वो साड़ी मे बेहद सेक्सी लग रही थी ,उसके पीछे के उभार मुझे सम्भोग के लिये बैचैन कर रहे थे। खैर वो कॉलेज चली गयी ,बस तभी से मैं मधु को भोगने की ताक मे रहने लगा ,मेरे पास सिर्फ़ 2 महीने थे ,सावन का महीना शुरू हो गया था।
जीन्स में और टॉप में उसके बदन के उभार मुझे घायल करने लगे,कभी कभी जब वो मेरी बगल में खड़े होकर मुझे रात का खाना परोसती ,तो मुझे उसके गोरे बदन से उसकी जवानी की खुश्बू आने लगती ,मैं बाथरूम में जाकर उसकी कच्छियाँ सूंघता ,जो वो नहाने से पहले निकाल कर खूंटी पर टाँग दिया करती थी ,मेरा मन उसे पाने के लिए तड़फ़ने लगा ,

कई बार जब मै दारू पीकर बाहर से घर आता था तो तब तक वो सो जाती थी ,और मेरा खाना टेबल टेबल पर रखा रहता था ,मैं खाने के बाद उसके कमरे के अंदर जाता था तो वो अपनी माँ के डबल बैड् पर टॉप और स्कर्ट पहन कर बेसुध लेटी रहती थी ,मै ऊसके सुन्दर मुख को देखता था और साथ ही उसकी छोटी छोटी पर पैनी ऊठी हईं निप्पल देख कर आहेँ भरता था ,उसकी स्कर्ट सोते समय उठ जाया करती थी तब मैं गौर से उसके सुगढ़ नितम्ब देखता था , यानि कि उसकी मस्त गोरी गान्ड ,उस समय मै अपना लण्ड हाथ मे लेकर उसकी खाल आगे पीछे करने लगता था ,मेरा मन होता था कि मैं मधु को उल्टा छाती के बल लिटा कर इसकी मस्त गाँड मारूँ ,या फ़िर मधु को अपनी गोद में खड़े होकर चोद दूँ ,मधु का बदन भरने लगा था ,जब वो मुँह फेर कर करवट ले कर सोयीं हुई रहतीं तब मै उसकी कच्छी का उभरा हुआ हिस्स्स्सा देखता था जिसमें घुसने के लिये मेरा लण्ड कड़क हो कर हिलने लगता था ,ऊसकी कच्छी की बींच की स्ट्रिप उसकी फांको के बीच में घुसी हुई होती थी ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक रात मैं रह नहीँ सका और मैँ टोर्च लेकर ऊसकी फ़ुद्दी को देखने के लिये बैठ गया ,मैने धीरे से उसकी स्ट्रिप एक किनारे कि और देखा कि मधु क़ी चूत पर घणे काले बाल हैं उस वक़्त मेरा मन हुआ कि मै उसकी खुबसूरत जवान चूतको अपनी मुट्ठी में बन्द करके भाग जाओं ,पर मै ऎसे न कर सका ,मै उसकी लंम्बी झिरी को देखता रहा जो मेरी मन्जिल बन चुकि थी ,मै सोच रहा था कि मधु को ऎसा रगडूंगा कि किसि को भि न बतां सके कि पापां का लॅंड बहुत मोटा है ,मुझे अपने लण्ड पर घमंड था।मुझे पक्का यकीन था जब मधु एक बार मेरा तना हुआ 7 इंच लम्बा और दो इंच मोटा लण्ड देख लेगी तो उसे छुए बिना नहीँ रह सकेगी। भले ही वो मेरी बेटी थी ,लेकिन उस वक़्त मै अपना मन मार कर वपिस आ गया ,रात भर मै मधु की मस्तायी हुई गान्ड के बारे मे सोंचता रहा , कुछ दिन बाद मेरी बीबी अपने भाई के घर 2 महीने के लिए जोधपुर रहने चली गयी, अगले दिन मै इंगलिश वाइन का हाफ घर लेकर आ गया। उसी वक़्त मधु अपनी सहेली के घर जाने के लिये तय्यार थी ,उसने जीनस पहन रखि थीं ,और पीला टौप ,उसनेँ मेरे लिये चाय बनायी और मेरे गले मे प्यार से अपने दोनो हाथ डाल कर कहा पापा ,… मुझे 1000 रुपए दे दो ,

और उसे रुपए दे दिये मैने उसके बदन पर एक निगाह डाली ,उसने पूछा पापा आप ऐसे क्यों देख रहे हो ?मैने तुरन्त कहा मधु आज तूं बहुत सुन्दर लग रही है ,वो शरमाई और मेरे गाल पर किस कर के चलीं गयीं ,
मैने इस बीच सोच लिया कि आज मधु की ज़ी भर कर चूदाई करुँगा चाहे मधु कितना हि चिल्लाएं ?वैसे भी लड़कियां ऐसी बनी होती हैं कि वो कई मर्दों को संतुष्ट कर सकती हैं , ,बस मै उसके आने का इंतज़ार करने लगा ,उसने मुझे फोन किया कि पापा देर हो जायेगी ,आप ख़ाने की चिंता मत करना , वो करीब रात 9 बजे वापिस आई ,वो अपने साथ होटल से खाना पैक कर क ले आयीं थीं ,उसकी कसी हुईं गाण्ड देख कर मेरा मन बेचैन था। ,आज मेरा प्यासा लौड़ा उसकी कुंवारी चूत को चोदने को बेताब हो रहा था ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैने उसे कहा मधु बात सुन ,तू ख़ाना खा ले ,मेंने उसे कहा मै पहले ड्रिन्क करूँगा उसने कहा ठीक है पापा ,उसने जीन्स मे हि मेरे लिये सलाद काटा ,तब तक मै एक पटियाला पेग ले चूका था ,ऊसने कहा पापा आप ड्रिंक के साथ हि खा लो न ,उसने आपना ख़ाना खाया और जब जब वो किचन मे जा रही थी मैँ कल्पना कर रहा था कि आज मधु के भारी चुत्तड़ मेरि गोद में होंगें। मै कुर्सी पर बैठा अपना लंड़ मसल रहा था ,वो जब तक मेरे पास आई मै 3 बड़े पेग ले चुका था ,वो मेरे काफी करीब आई और सब्ज़ी ड़ाल कर जाने लगी मेने उसके चुत्तड़ पर हल्के से हाथ लगाया ,उसने पता नही क्या समझा ? लेकिन उसने कुछ नहीं कहा मैने ख़ाना खा लिया था ,फ़िर मै ड्राइंग रूम की तरफ़ चला गया ,वो बर्तन धोने लग गयी ,मै सोफे पर बैठ गया ,मैने लुंगी,और सैंडो कट बनियान पहन रखी थी ,मैंने उसे पानी लेकर बुलाया ,उसने मेरी तरफ़ देखा ,उस वक़्त उसने चैक वॉली बटन वालीं छोटि शर्ट और स्कर्ट पहन रखी थी ,जैसे हि वो पानी रख कर जाने को हुई ,मैने उसे कहा ,मधु तेरा काम निपट गया न? ,उसने कहा कि हां पापा बस किचन मे साफ़ करना है ,मेंने उसे कहा कि मुझे तुझसे कुछ खास बात करनी है ,मधु ने कहा पापा सुबह कर लेना ,आपको काफी नशा भी हो गया है ,मेंने कहा अरे पगली ,इतनी तो मै रोज ही पीता हुँ ,उसने कहा पापा ठीक है ,आ जाउँगी ,मेंने 3 पैग ले लिए थे ,

जुलाई की 8 तारीख थी ,बाहर बारिश शूरु हो गयी थी ,करीब ६-७ मिनट बाद वो आ गयी ,उसने कहा पापा मैने गेट पर ताला लगा दिया है ,जब वो आयी तो मेरी बगल में बायीं तरफ़ बैठ गयी ,मैने पहले उससे पढाई के बारे में २-४ बात की ,मैने उसके कंधे पर बायाँ हाथ रख दिया पहले भी मै रखता था ,मैने उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया ,मैं बातोँ हि बातोँ में उसका हाथ दबाने लगा ,फ़िर मैं उसके बाल सहलाने लगा ,मैने उसे कहा मधु ,आई लव यू ,उसने भी मुझे थैंक यू कहा। उसने कहा पापा आई लव यू टू। बस तभी मैने उसे अपनी तरफ़ खींचा और उसके होंठों पर चुम्बन ले लिया. मैने उसे कहा मधु तू बहुत सुन्दर है ,उसने मुझे फ़िर से थैंक यू कहा और ऊठ कर जानें लगीं ,बाहर तेज बारिश शुरू हो गयी थी ,मैने उसे खींच कर अपनी गोद में बैठा लिया ,उसने कहा पापा नहीं ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मुझे पता था कि इस समय क्या करना है ?मैने अपनी दायीं हथेली से उसकी दुददी धीरे से दबाई ,उसने मेरा हाथ पकड़ लिया ,और बाएं हाथ को मैने मधु की चिकनी जाँघ पर रख दिया ,वो मेरी जाँघों पर बैठी हुई थी ,मैने उसे कामवासना का अह्सास करा दिया था ,मै उसके गालों को चूमने लगा। मैने उसकी दोनो टाँगें अपनी जांघों में भींच ली ,मधु मेरी गोद में पसर सी गयीं ,मैनें ऊसकी कच्छी में हथेली सर्का दी ,उसनें कहां पापां ,नही.मैं उसकी करकरी झाँटों से खेलने लग गया ,जो कि ६-७ दिन पुरानी थी ,फ़िर मेंने उसकी शर्ट के उपर के दो बट्टन खोल दिये,मधु ने धीरे से कहा पापा नहीं ,क़ोई देख लेगा ,मैने उसे दिलासा दी कि नहीं यहॉँ क़ोई नही आने वाला है ,रात के 11 बजे है बस तू और मैं हैँ ,मै उसकी दुदियां मसल्ने लग गया ,उसने कहा पापा आप बहुत नशे मे हैं ,लेकिन मै नहीँ माना ,मैने मधु का गुप्तांग अपनी हथेली में हल्के से दबा दिया ,साथ हि मै उसके होँठ चूस रहा था ,वो मेरा हाथ पकड़ने की कोशिश कर रही थी ,तभी मैने धीरे से मधु की दोनों टांगें दायें हाथ से उपर उठायी और बाएं हाथ से मधु को सोफे पर लिटा दिया ,मैने पहले उसकी स्कर्ट और फ़िर उसकी कच्छी उतार दी ,और बिना समय गंवाए उसकी चूत पर 3 -4 चुम्बन ले लिए। उसकी छाती धड़कने लगी थी ,साथ हि मैनें अपनीं लुंगी उतार कर फेंक दी,कमरे मे सी एफ एल बल्ब जल रहा था ,मैने देरी करना उचित नहीं समझा ,मधु गरम हो चूकीं थी ,मैने नीचे झुक कर उसे अपनी दोनो बाँहों में उठा लिया,मधु ने दबे हुए स्वर में पूछा ,पापा ,मुझे कहां ले जा रहे हो
मैने उसे सिर्फ़ इतना हि कहा ,मधु आज मै तेरी सुंदरता देखूंगा ,और तेरी सवारी करुँगा ,मै उसे बैड रूम में ले गया ,और नाईट बल्ब जला दीया ,मैनें मधु को धीरे से नरम बिस्तर पर धकेल दिया ,और मैं उसके उपर सवार हो गया ,मै उसे बेतहाशा चूमने लगा ,साथ हि मैनें उसकि शर्ट के सारे बटन खोल दिये,मधु मेरे नीचे पड़ी हुईं थी ,मै बेहद कामुक हो गया था ,मैने उसकी शर्ट उतार कर नीचे डॉल दी ,

मेंने फ़िर से ऊसके होंठ अपने होंठों मे दबाये ,उसकी सॉंसों की महक मेरी कामवासना को भड़का चुकी थी ,मैनें इसके बाद उसके कानों के नीचे चुम्मियाँ लीं। फिर मेने उसकी बाँहों के नीचे की पसीनें क़ी गँध सुँघी ,फ़िर मेंने जैसे हि उसके निप्पल अपने मुँह में लिये और चूसें ,उसने मुझे अपनी बाँहों में मजबूती से जकड़ लिया,
मैं उसकी काम उत्तेजना भड़का रहा था। तभी मधु ने कहा पापा ,आई लव यू ,उसने ये भी कहा पापा प्लीज लाइट बन्द कर दो न ,मैने उसे कहा मधु मुझे तेरा बदन देखना है ,उसने कहा पापा प्लीज बन्द करो न ,फ़िर मैने हाथ बढ़ा कर लाइट बन्द कर दी ,मै उसके गोरे बदन को चूमता हुआ नीचे आने लगा ,उसकी नाभि में मैने जीभ चलाइ। नीचे नंगी तो वो थी ही ,मैनें अब उसकी झाँटोँ कि खूश्बू लेनी शुरु कर दी ,मै अँधेरे मे ही बिस्तर पर उकडू बैठ गया ,और मैने उसके पुटठों के नीचे हाथ डाल कर उसके चुत्तड़ अपनी हथेलियों में टिका लिये मै इतने कामान्ध हो चुका था कि अपनी हि जवान पुत्री के जिस्म से खेल रहा था ,मैने उसका कुंवारा गुप्तांग अपने मुह मे ले लिया और चाट्ने लग गया ,मधु की कुँवारी चूत चाटने का मुझे बेहतरीन मौक़ा हाथ आ गया था। मधु आनंद के मारे अपनी करकरी चुत मेरे होंठों पर घिसने लगी थी ,ऎसा तब होता है जब उसके बदन को लण्ड की चाहत होने लग जाये ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैने नशे की हालत में उसे कहा मधु तेरी चूत बहुत मस्त है मैने अपनी ऊँगली पर थूक लगाया और उसे और कामुक बनाने के लिये उसके भगांकुर को तेज -तेज सहलाना शुरू कर दिया ,उसकी कामुक सी सी.…… की आवाज़ें मेरे कानो में एक सँगीत सा घोल रही थी तभी मैने मधु की टाँगें बिस्तर से नीचे लटकायी और फिर से नाईट बल्ब ऑन कर दिया ,इस बार उसने कुछ नहीं कहा ,मैं नीचे फर्श पर उकड़ू बैठ गया ,मैने बेटी की उभरी हुई चूत को दोनों अंगूठों से फैलाया ,और देखा कि मधु का छेद सिर्फ़ एक पेंसिल की मोटाई के बराबर है यह देख कर मेरा लण्ड झटके मारने लगा। मैने फिर से उसके भगांकुर को तेजी से 1 मिनट तक हिलाया , तभी मेरी छाती पर तेज गरम धार पड़ी ,मधु ने काम आनन्द में आकर पेशाबकरनी शूरू कर दी। पेशाब ,बनियान से बहती हुई मेरे अंडरवियर तक आ गयी ,जब तक उसकी पेशाब रुकी मेरा अंडरवियर भी गिला हो चुका था ,उसकी फुद्दी थरथरा रही थी ,मैने उसकी गीली फ़ुद्दी को चाटना शूरु कर दिया उसने मेरे सिर को कस कर पकड़ लिया,
मैने फिर लाइट बन्द कर दी और खड़ा होकर अपना कच्छा और बनियान निकाल दिया ,मेरे खुद के पैर नशे में कहीं के कहीँ पड रहे थे और दूसरे उसकी चूत में लण्ड घुसेड़ने की इच्छा ,मैने फ़िर से उसकी टाँगें उठायी और बिस्तर पर पलट दिया ,मैने मधु को उसके मुह के बल लिटा दिया और उसकी कमर पर लेट गया। मैने अपना मोटा और कड़क लण्ड मधु के चुत्तडों के बीच में लम्बाई के दाँव रख दीया और आगे पीछे हिलने लगा ,मैने अँधेरे में ही उसके कान में कहा मधु , तेरी गाण्ड बहुत गरम है ,मेरा लेगी क्या ?उसने सिर्फ हूँ कहा। पता नहीं वो समझी या नहीं कि मै क्या कह रहा हुँ ,पर शायद वो भी मेरे मोटे स्थूल लण्ड क़ी गर्मी और सख्त पण महसूस कर रही थी ,

मेने उसके चुत्तड़ मले और फ़िर मधु को सीधा कर दिया ,बाहर तेज बरिश हो रहीं थी। मै फिर से उसके ऊपर लेट गया और फ़िर मैने अपने लण्ड को उसकी चूत के उपर रख दिया ,वो लिपट गयी मैने उसकी मांसल झिर्री में लैंड फंसाया और नीचे से उपर क़ी तरफ़ घिसने लगा। करीब 6 -7 बार घिसने के बाद मैने उसके छेद पर हल्का सा दबाव बढाया ,मधु ने कहा पापा दर्द हो रहा है ,मै फ़िर घिसने लगा ,उसका निचला हिस्सा बीच बीच में उपर उठने लगा था ,बस यही टाइम था जब मधु का बदन लण्ड मांग रहा था तभी मैने सुपाड़ा उसके छेद पर टिकाया और लगातार भरी दबाव बनाये रखा ,मधु चिल्लायी नहिं पापा नहीं ………………………। मेरा आधा सुपाड़ा उसके टाइट गुप्तांग को खोल चुका था ,
पापा मैं मर गईइइइइइइइइइइइइइइइइइइइ ……… मधु अँधेरे में चिल्लाई बस इसके बाद मैने अपने मोटे चुत्तडों से कस कर धक्का मारा ,और सुपाड़ा अंदर हो गया ,मधु ने गहरी सांस लेकर कहा , आआआः
…… इसके बाद मैं मधु के बदन के उपर सवारि करने लगा ,मै धीर धीरें ऊसकी कसी हुईं चुत के सलवट खोलनें लगा ,मधु कि आवाज़ें आह आह मेरे कानो में सेक्स सुख का रस घोल रही थी ,मै पूरीं ताकत से मधु के निचले हिस्से को रौंद रहा था ,कमरे मे घना अंधकार था ,मेरे अनुमान के हिसाब मधु के अन्दर मेरा लौड़ा 5 इंच तक घुस चुका था ,मुझे चुदाई करते हुए करीब 10-12 मिनट हो गए थे मैं मधु के बदन कि ताब न सह सका और मेंने अपने दोनों चुत्तड़ ऊठा कर मधु के अन्दर अपनी गरम फुहारें छोड़नी शूरु कर दी। मै उसके बदन के ऊपर अधमरा सा लेट गया मुझे ये पता नही चला कि कब मुझे नींद आ गयी ,सुबह जब मेरी आँख खुली तो मेरे उपर चादर थी और मै बिल्कुल नंगा पड़ा था। मैं उठा और मैने फर्श पर अपना गिला कच्छा और बनियान पडी देखी ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैं अपराध बोध से ग्रसित था ,मैने आलमारी से दूसरा कच्छा लिया और पहना ,मेरे अन्दर अपनी बेटी मधु से आँख मिलाने कि हिम्मत नहीं थीं ,फ़िर भी मै उसे देखता हुआ रसोई ,बाथरूम और फ़िर ड्राइंगरूम में गया ,वहाँ फर्श पर मधु क़ी कच्छी और ब्लू स्कर्ट पड़ी थी ,मैं फ़िर वापिस बैडरुम में आया और क्रीम कलर की चादर को ध्यान से देखा ,उस पर खून के धब्बे पड़े हुए थे ,मैनें अपने कच्छे को नीचे सरका कर देखा मेरे मुरझाये हूए लंण्ड पर भी खून के धब्बे थे जो हल्के पड गये थे ,अब मुझे यकीन हो गया कि मैने अपनी बेटी मधु के साथ रात नशे में शारीरिक सम्बन्ध बना लिये थे ,अब सवाल था कि मधु आखिर गयी कहाँ?मुझे बहुत डर लगने लगा कि कहीं मधु कोई गलत कदम ना उठा ले,मै अपनीं बेटी को खोने मात्र के ङर से ही परेशां हो गयामै फ़िर से ड्राइंग रूम मे गया जैसे हि मैने उसकी स्कर्ट उठायी तो ऊसके नीचे मुझे एक लैटर मिला , मैने जल्दी से उसे खोला ,और सोफे पर बैठ कर पढ़ने लगा ,उसमें जो कुछ भि लिखा था मैँ वैसा हि यहाँ लिख रहा हूँ ,मेरे प्रिय पापा ,मुझे नहीं पता कि मुझे घर में ना पाकर आप कैसा महसूस कर रहे होंगे ?मैं आपकी सिर्फ़ एक और एक हि बेटी हूँ ,इसलिये मैं आपको बहुत प्यार करती हूँ ,पर कल रात आपने नशे में मेरे साथ शारीरिक सम्बन्ध बना लिये ,

ये ऐसा सम्बन्ध है जिसे समाज एक पिता और बेटी के बीच में कभी भी स्वीकार नहीं करेगा ,मैं आपको बहुत प्यार करती हूँ इसलिये चाह कर भी आपको रोक नहीँ पायीं ,मुझे पता है कि जब मै आपके सामने अपनी बात रखूंगी आप यही कहेँगे कि मुझे कुछ भी याद नहीं ,इसलिए मैने अपनी स्कर्ट ,कच्छी और शर्ट जो जहाँ आपने उतारीं थी वहीं छोड़ दी है ,अब मैं बड़ी हो गयी हूँ ,पर ऐसा मेरे साथ पहले कभी भि क़िसी ने भी नहिँ किया। आपकी ये पहली गलती है ,लेकिन इसमें मेरी भी बराबर कि गलती है ,मैँ यह बात कभी भी किसी को नही बताऊँगी ,और ना ही आप बताएँगे ,चाहे नशे में भी हों। मैं समाज में कभी भी आपका कद छोटा नहीँ होने दूँगी ,
रात को आप मेरे शरीर से खेल रहे थे ,और जब आपका मन भर गया तो आप मेरे उपर ही सो गये ,इसके बाद मुझे भी थकान के कारण नींद आ गयी ,सुबह जब मेरी आँख खुली तो मैने अपने आपंको आपकी बाँहों में पाया ,कहने की जरुरत नहीं कि हम दोनों किस हालत में थे ?मैने अपने आपको आपकी बाँहों से मुक्त किया और हाथ बढा कर बल्ब जला दीया। मैं तो नंगी थी ही ,आपको भी इस हालत में देख कर मेरे बदन में अजीब सा होने लगा ,बाहर रुक रुक कर बारिश हो रही थी ,आपका पुष्ट लिंग और उस पर लगे खून के धब्बे देख कर मुझे रात का सीन मेरी आँखोँ मे घूमने लगा ,चादर भी ख़राब हो गयी थी। आप गहरी नींद में सोये हुए थे ,मैँ आपके पुष्ट लिंग को बहुत करीब से देखती रही ,जो सामान्य दशा में आ गया था ,और जिसने मुझे कली से फूल बना दिया था ,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। पापा मैं जल्दी से लाइट ऑफ करके बाथरूम में गयी और शीशे में मेंने अपने शरीर पर आपकेँ दाँतोँ और ऊंगलियों के निशान देखे,खैर पापां मैँ वो दर्द ज़िन्दगी भर नहीं भूलूंगी जो आपने कल रात मुझे दिया है साथ हि वो आनन्द भी नहीँ भूलूंगी जो आपने उस दर्द के बाद दिया है ,साथ हि सोने से पहले आपने मेरे अन्दर जो प्यार उंडेला था ,उसे आपकी मधु ने स्वीकार कर लिया है ,मेरी वो गलती आप माफ़ कर देना ,जब मैने अन्जाने में आपको भिगो दिया था ,इसके बाद भी आपने मुझे प्यार किया ,साथ ही मेरी चीखों ने आपकेँ प्यार में खलल डाला हो तो मुझे माफ़ कर देना।ये मेरे बस में नहीँ था, क्योंकि आप पूरे मर्द हो। इसके लिए आपकी मर्दानगी जिम्मदार है ,और हाँ एक बात और ,न जाने आपके हाथों और होंठों मे वो कौन सा जादू था कि आपका प्यार पाकर मेरा अंग अंग मचलता गया ? मैं आपको इस काम के लिये 100 में से 100 मार्क्स और आपकी मर्दानगी के लिये 100 में से 200 मार्क्स दे रही हूँ ,ये मार्क्स आप किसी को नहीं बताएँगे ,मेरे सिवा वक़्त आने पर मेरी चिंता मत करना ,और ना हि ड्रिन्क करना ,साथ हि कल रात वाले मेरे और अपने कपड़े चादर सहित भिगो देना ,मैँ आकर धो दूँगी ,जब मेरा मन थोङा शांत हो जायेगा मै खुद हि आ जाउँगी।

अगर आपको लगता है कि आपकी मधु ने आपकों थोडी सी भी संतुष्टि दी है तो जब आप मुझे पहली बार देखें तो मुझे आपके किस का इंतजार रहेगा आपकी अपनी मधु।जब मैने उसका ये मार्मिक लैटर पढा तो मेंरी ऑंखों में आसूँ गये ,उसने मुझे माफ़ कर दिया था। साथ ही उसने मुझे मर्दानगी से नवाज दीया था ,मुझे नही पता कि आखिर मैने उसे ऐसा क्या दिया था ,जो वो इतनी भावुक हो गयी थी ? परउसका लैटर पढ़ कर इतना मुझे अंदाजा हो गया था कि मधु मेरे बड़े और मजबूत कड़क लण्ड की दीवानी हो गयी है ,आखिर होती भी क्यो नहीँ ? उसे मेरा लौड़ा पसन्द आ गया था यह हाल तो उसका तब था जब मै कई कोशिशों के बाद भी सिर्फ़ 5 इंच अंदर घुसेड़ पाया था और सुबह जो उसने मेरा मुरझाया हुआ मगर मोठा लण्ड़ देख़ा होगा तो ऊसकी तमन्ना फ़िर से जाग गयीं होगी।आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मै दो दिन तक उसका इंतजार करता रहा पर वो नहीँ आयी ,मै किसी को नहीं बता सकता था कि क्या हो गया है ?तीसरे दिन शाम को मेरे से नही रहा गया और मैं ड्रिंक करके रात को 9 बजे घर आया ,देखा तो मधु बैडरूम में रानि कलर की साङी पहन कर सो रही है ,उसने बाल खुले कर रखे थे ,ब्लाउज़ में वो बहुत सुन्दर रही थी ,कमरे में नाईट बल्ब जल रहा था ,मैने अपना बैग रखा और मुह हाथ धोये और कपडे बद्ले ,गेट पर ताला मारा और फ़िर सीधा उसके पास गया। मैने उसके होंठों के ३-४ चुम्बनं ले लिए वो जाग गयी ,मैने उसकी वो शर्त पूरी कर दी थी,कैसी लगी हम डॉनो बाप बेटी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी बेटी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/MadhuSharma

चुदाई की प्यासी भाभी की चूत की गर्मी

आज मैं आपके लिए एक बड़ी ही हॉट सेक्स स्टोरी लाया हू, ये मेरी पहली चुदाई की कहानी है, क्यों की इसके पहले मैं कभी भी किसी को नही चोदा था, मेरे घर के सामने एक शादी हुई थी, मनोज भैया की, मनोज भैया दिल्ली मे रहते थे, वो शादी के लिए आए और फिर शादी हो जाने के बाद वो एक महीने के बाद ही वापस ही ड्यूटी पे चले गये, घर मे सिर्फ़ भाभी और मनोज भैया की वाइफ रंभा थी, शादी के एक दो दिन बाद ही मैं उनसे मिलने गया था जब मुझे खुद ही मनोज भैया भाभी से मिलाने ले गया थे. उसके बाद तो हल्की हल्की मुस्कान उनके सामने बाली खिड़की से ही मिला करती थी. मनोज भैया के जाने के बाद भाभी की मुकसान सिर्फ़ सामने बाली खिड़की से ही मिला करती थी.

एक दिन की बात है उनकी सास अपने बीमार भाई से मिलने चली गई, अब घर मे सिर्फ़ रंभा भाभी ही थी, एक दिन मैं कॉलेज से आया ही था उस समय करीब 12 बाज रहे थे काफ़ी गर्मी थी, लोग अपने अपने घरों मे बंद थे, मैने देखा भाभी जी खिड़की से झाँक रही थी, मैने मुस्कुरा कर इशारे से पुचछा क्या हाल है, भाभी बोली आ जाओ बताती हू, तो मैने कहा ठीक है मैं खाना खा कर और कपड़े चेंज कर के आता हू, मैं घर गया और करीब एक घंटे बाद मैं खाना पीना खा कर उनके घर गया, मेरे घर के तरफ से उनका दरवाजा पिच्चे बाला पड़ता था, मैने दो तीन बार खटखाया वो आकर दरवाजा खोली, हवा काफ़ी चल रही ती, वो भी गरम गरम भाभी हल्की से घूँघट ली थी, वो सिर्फ़ अपने आप को गरम हवा के झोंको से बचने के लिए, उनके कमरे मे जाकर बैठा, पलंग पर. भाभी पानी लाकर दी और पूछी क्या पूछ रहे थे, तो मैने कहा मैं पूछ रहा था क्या हाल है? तो बोली पति के बिना क्या हाल रहेगा, वो भी जिसकी नई नई शादी हुई है, वो उमर मे मेरे से दो तों साल की बड़ी होगी, पर शरीर काफ़ी सॉलिड थे उनका बदन काफ़ी गदराया हुआ था, वो बड़ी ही हॉट लग रही थी, उनके गुलाबी होठ और बड़ी बड़ी चूचियाँ गजब ढा रही थी.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है।
मेरी नज़र उनके ब्लाउस के उपर दो खुले हुए हुक के तरफ था क्यों की वाहा से दोनो चूचियाँ के बीच का भाग दिखाई दे रहा था, सच पूछो दोस्तों मुझे तो सिहरन हो रही थी, लग रहा था मैं उनके चूच को दबा डू, मेरी जवानी भी फड़फड़ा रही थी, भाभी बोली क्यों जी अब बताओ क्या बोल रहे थे, मैने कहा कुच्छ नही भाभी जी यौंही आपका हाल चाल पूछ रहा थे तो वो कहने लगी कैसा रहेगे एक शादी शुदा लड़की जिसकी शादी हुए अभी एक महीने ही हुए है और पति डोर दिल्ली मे है. मैने कहा हा भाभी ये बात तो है, तो मैने कहा आप भी क्यों नही चले गये. तो भाभी बोली, मैं अभी नही जा सकती, मैं एक साल बाद जौंगी तब तक वो अपना अर्ृंगमेंट सही तरह से कर लेंगे. फिर बात चिट का सिलसिला चला, उसके बाद भाभी बोली आपकी कोई गर्ल फ्रेंड है की नही मैने कहा नही भाभी अभी मैं सिर्फ़ पढ़ाई पर ध्यान दे रहा हू, तो भाभी बोली अरे अपनी जवानी क्यों खराब कर रहे हो, पता लो किसी लड़की को ठोंक दो अपने औजार से उसको, क्या बताऊँ दोस्तों मैं तो हैरान रह गया उनकी बातों को सुनकर, मैने कहा नही जी, मैं ऐसा नही कर सकता तो वो बोली क्यों, आपका खड़ा नही हॉट,

मैने कहा भाभी आप बहूत ही गंदी गन्दी बात कर रहे हो. मैं जाता हू, और मैं कमरे से निकालने लगा, वो दरवाजे पे बैठ गई, मैं जैसे ही निकालने लगा, वो मेरे लॉडा को छु दी, उनके छूटे ही मैं पीछे हो गया, पर तब तक देर हो चुकी थी, उनके च्छुने से मेरा लॅंड खड़ा हो गया. अब मैं अपने लॅंड को शांत करने की कोशिश करने लगा, पर हुआ नही क्यों की भाभी अपना आँचल नीचे गिरा दी थी और उनकी दोनो चूचियाँ आधा दिखाई दे रहा था, उनकी गोरे जिस्म को देखकर मैं पागल हो गया, अब मेरा भी मान करने लगा उनको स्पर्श करने का, फिर मैं जाने को कोशिश करने लगा, भाभी फिर से मेरे लॅंड को च्छुई, इश्स बार मैने भी उनको चुचि को च्छुने की कोशिश की, पर वो वाहा से भाग गई और कमरे के कोने मे चली गई, मैं भी उनके पिच्चे भागा और पकड़ने लगा,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। एक बार उनके चुचि को छुआ और मैने भागने लगा तभी वो दौड़ी और फिर वो मेरे लॅंड को छु दी, फिर मैं उनको पकड़ने के लिया दौड़ा, फिर मैने पीछे से दोनो चुचियों को दबा दिया, ये मेरा पहला एहसास था दोनो हाथो से चुचि दबाने का, फिर भागा यही सिलसिला चलते रहे अचानक वो बैठ गई और मैने उनके चुचि को पीछे से बैठ कर दबाने लगा, वो शांत हो गई, उन्हे अच्छा लगने लगा, मैने कहा भाभी क्या आप मुझे चोदने दोगी, वो बोली हा ठीक है पर ये बात किसी को पता नही चलनी चाहिए.और फिर उठ कर बाहर चली गई, इधर उधर देख कर आई, दिन के करीब 2 बाज रहे थे, गर्मी के दिन मे बाहर कोई नही हा, वो आते हुए दरवाजा बंद कर दी और मेरे से लिपट गई, मैने उनके होठ को चूमने लगा और वो धीरे धीरे अपनी साडी खोल दी, वो पेटीकोत और ब्लाउस मे थी, गदराया हुआ बदन मैने चूतड़ को पकड़ कर अपने लॅंड के पास ले गया, उसके बाद वो मुझे अपने बाहों मे भर ली ध्एर धीरे मैने भाभी की ब्लाउस को खोल दिया, और चूचियाँ पीने लगा, वो आ आ आ अफ कर रही थी, चुचि के निपल को मैं उंगली से मसालने लगा वो सी सी सी सी करने लगी, फिर उन्होने खूद ही पेटीकोत का नाडा खोल दिया, वो अंदर कुच्छ भी नही पहनी थी, गजब का एहसास था, काले काले बाल मोटे मोटे जाँघो के बीच मे वो फिर पलंग पे ले गई, मैं हड़बड़ाया हुआ था, मैने उनके उपर लेट कर अपना पेंट खोल दिया वो मुझे अपनी चूचियाँ पिलाने लगी, और उनका आँख लाल हो गया था, वो बार बार अपने होत को दातों से दबा रही थी, गजब लग रही थी, यार, फिर मैने उनके नाभि मे उंगली घुसा तो वो कहने लगी, इसमे क्यों घुसा रहे हो राजा मैं तो सब कुच्छ सौप दी हू,

मैने उनके चूत को चिर कर देखा अंदर से लाल लग रहा था, मेरे से रहा नही गया और मैने अपना लॅंड निकाला, और चूत पर लगा कर मैने उनके उपर लेट गया, पर चूत के अंदर मेरा लॅंड नही जा रहा था, बार बार फिसल रहा था, भाभी बोली चोदने भी नही आता है, और उन्होने अपने पर खो तोड़ा उपर की और मेरा लॅंड पकड़ कर, अपने चूत पर रख दी और बोली मारो धक्का, ऑश पहग्ला एहसास था पहली चुदाई का, मैने ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा, वो अंदगाड़ी ले रही थी, मोटी मोटी जांगे और बड़े बड़े सॉलिड चूच मुझे मदहोश कर दिया था, वो आ आ आ अफ अफ कर रही त, वो अपना मोटा गांद उठा उठा कर छुड़वाने लगी, करीब आधे घंटे मे ही मैं झाड़ गया, पर भाभी अभी प्यासी ही रह गई थी, बोली मुझे अभी कुच्छ नही हुआ, मैने कहा मुझे क्या पता, आप संतुष्ट कैसे होगे, बोली रात को आना, आज हमदोनो रात भर चुदाई करेंगे,आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। उसी दिन रात को दस बजे उनके घर पहुचा घर मे बाहना बना कर की आज रात को मैं अपने दोस्त के घर मे सोऊंगा क्यों की मुझे कॉलेज का प्रॉजेक्ट बनाना है, फिर क्या था दोस्तों वो रंगीन रात जब भाभी खूब chudwai और मैने भी खूब चोदा , दिन मे तो फैल हो गया था पर रात को भाभी को बाप बाप बोलबा दिया था, उसके बाद मैं एक महीने तक रोज चोदा, फिर मैं बाहर पढ़ने आ गया, उनकी बड़ी बेटी मेरी बेटी है, जहाँ तक मुझे लगता है. उस समय मेरे से ही प्रेगञेन्ट हुई थी. कैसी लगी भाभी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी भाभी की गरम चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ShefaliSharma

विधवा माँ की तड़पती जवानी

आज की सेक्स कहानी मेरी माँ की चुदाई की है. मेरे पापा की डेथ हो चुकी है जब मैं १२ साल थी, मैं एकलौती संतान हु, मेरी माँ काफी पढ़ी लिखी और समझदार महिला है पर वो भी क्या करे भरपूर जवानी में ही उनका पति उसे छोड़ गया, वो काफी सुन्दर है, लम्बी और गोरी औरत है, मेरी माँ मेरे पापा के गुजर जाने के बाद वो किस तरह से तनहा ज़िंदगी जीई थी मुझे पता है, तो आज वो मेरे से बेवफा भी की है तो मुझे किसी भी तरह से कोई शिकबा शिकायत नहीं है, मैं और मेरी माँ अब एक ही घर में सौतन की तरह रह रहे है दोनों माँ बेटी का पति एक है.

मैं आपको अपनी ज़िंदगी के अनछुए पहलु को विस्तार से बताती हु, मेरे हस्बैंड का उम्र करीब 32 साल है और मेरी उम्र 18 और मेरी माँ की 38 अब आप समझ गए होंगे तीनो का उम्र का क्या फासला है, शादी के पहले मैं माँ बेटी आसनसोल में रहती थी मेरे एक रिश्तेदार ने मेरी शादी दिल्ली में तय किया लड़का बिहार का रहने बाला है, शादी हो गयी और हमलोग दिल्ली आ गए, सब कुछ ठीक ठाक चल रहा था, मेरी सेक्स लाइफ काफी अच्छी थी, हम दोनों बिना बिस्तर गर्म किये एक दिन भी नहीं रहते थे, करीब रात भर में तीन से चार बार सेक्स होता था संडे और सैटरडे को तो हम दोनों रूम में ही बंद रहते थे मेरा पति बहुत प्यार करता था. मैं वह थोड़े दिन के बाद ही एक बगल के स्कूल में जॉब कर ली.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अब मैं रोज सुबह ६ बजे स्कूल चली जाती और वापस करीब तीन बजे आती, इस विच मैंने महसूस किया की मेरे हस्बैंड मेरे माँ को घुमाने कभी मूवी कभी इंडिया गेट कभी कॉफी हाउस, मुझे उस समय कुछ भी नहीं लगा, क्यों की मेरे हस्बैंड मुझे बोले की देखो स्वाति तुम तो खुश हो मेरे साथ लेकिन तुमने अपने माँ के बारे में सोचा उनकी भी अपनी ज़िंदगी है, वो काफी खोई खोई रहती है इस वजह से थोड़ा मैं उनके इधर उधर घुमा रहा हु, ताकि तो खुश रहे वो खुश रहेंगे तो हम दोनों भी खुश रहेंगे, बात में दम था, मैंने कहा हां बिलकुल और मेरे माँ को हम दोनों के अलावा है कौन.एक दिन की बात है मेरे पति ने माँ को ब्यूटी पारलर ले गए उनका बाल कटवाया फेसिअल ब्लीच इत्यादि करवाया माँ गजब की लग रही थी, उसके बाद उनके लिए मॉल से अच्छे अच्छे ड्रेस ले के आये माँ वाकये में खूबसूरत और खुश लग रही थी, पर बात मैंने बिगड़ते देखा एक दिन जब मैं स्कूल से आयी दरवाजा खुला हुआ था, मैं अंदर आ गयी पर बैडरूम में माँ को मेरे पति के साथ सोये हुए देखा, पर वो दोनों कुछ कर नहीं रहे थे, पर दोनों पास पास थे, मुझे सक हुआ कुछ ना कुछ बात जरूर है,

मैं पालिका बाजार गयी और एक छुपा हुआ कैमरा ले के आयी और मैंने अपने कमरे में लगा दिया, दूसरे दिन जब स्कूल से वापस आयी और मैंने पढाई का बहन बना कर कमरे के अंदर आ के दरवाजा बंद कर दी, और मैंने कह दिया की कुछ जरुरी काम है डिस्टर्ब मत करना, और मैंने अपने लैपटॉप में देखने लगी कैमरा का बैकअप.आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। कैमरा में सुबह के ८ बजे थे मेरी माँ आयी और रविश को गुड मॉर्निंग बोल के लिपट गयी रविश भी माँ को अपनी बाँहों में भर लिया और बोला गुड मॉर्निंग जान, फिर माँ ने अपना कपडा उतार दिया, और और रविश को किश करने लगी, फिर रविश ने माँ का ब्रा का हुक खोल दिया और उनकी बड़ी बड़ी चूचियों को दबाने लगा, तो माँ बोली जल्दी क्या है आराम आराम से करो मेरी सौतन तो तीन बजे आएगी, मैंने दंग रह गयी मैंने सोचा मेरी माँ ऐसी बात कैसे बोल सकती है वो भी अपने बेटी के लिए की मैं उनकी सौतन हु, और फिर बोलने लगी, आराम आराम से चोदो मुझे रात भर कैसे काटती हु तुम्हारे बिना मुझे पता है, और तुम्हारे कमरे की वो सेक्सी आवाज़ जो स्वाति निकलती है जब तुम उसे चोदते हो वो तो मुझे और भी मदहोश कर देती है, मैंने अपने चूच को दबा के और बूर में ऊँगली दाल के सो जाती हु और वेट करते रहती हु की स्वाति कब स्कूल जाये.उसके बाद मैंने रविश को देखा वो भी अपना अंडर वियर खोल दिया माँ ने रविश के लंड को अपने बूर पे सेट करती है और आराम से बैठ जाती है, और दोनों एक दूसरे को किश करते है और जोर जोर से चुदाई करते है, मेरी माँ फिर निचे हो गयी थी और ऊपर रविश को बुलारकर पैर फैला दी और बोली मेरी वासना को शांत कर दो रविश मैं काफी प्यासी हु, अब मैं तुम्हारे बिना एक पल भी नहीं रह सकती, आज रात को तुम मेरे कमरे में आ जाना जब स्वाति सो जाएगी आज मैं खूब चुदना चाहती हु, और मेरा कैमरा का मेमोरी फुल होने की वजह से वही स्टक हो गया,
दोस्तों आप मुझे कमेंट कर बताये मुझे क्या करना चाहिए, आपने मेरी कहानी सुनी आपको क्या फील हुआ, मैं क्या करू प्लीज बताओ. मैं इंतज़ार करुँगी,कैसी लगी हम डॉनो माँ की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी माँ की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/ShawtiSharma

Bahut mushkil se mummy ke sath sex kiya

Desi xxx hindi sex kahani, Maa beta ki chudai xxx hindi sex story, Apni mummy ke sath sex kiya, Mummy ko choda hindi story, Mummy ki yoni chati, Mummy ki yoni me lund dala, Mummy ne mera lund ko chusa hindi story, Maa beta ki sex romance hot xxx kahani,ye sex kahani meri aur meri maa ke bich sex ki hai.. mummy ki age 42 hai fegure 36-34-36 hai chikna badan lambe 2 baal bhari 2 gaad..bikul gori rekha jaisi lgti hai hai bilkul..maine maa ke bare me kabhi galat nahi socha tha..aur na hi main kabhi buri nazar dali thi..lekin ek ghtna ne meri aur maa ki zindagi badal di..baat aaj se 6 month phle ki hai jab maa mujhse milne Indore aai thi..Mai bahoot khus tha ki maa ki aane ki wajh se..raat me hum dono ne bahar hi khana khaya aur phir ham dono sone ke liye wapas apne apne kamre me aa gye..mere room me 1 hi single bed tha..maine kpde chnge kiye aur 1 short aur tsart daal li..maa bhi washroom dress change karne chali gai aur wapas aai toh short night sexy dress me kisi actress ki tarah lag rhi thi unka pura badan nighty ke upar se hi dikh raha thaa badi choochi bra ke andsr bhi aap yakin nahi karenge bilkul tight aur tane huye the gaand bhi bilkuk bahar ki or ubhri hui dikh rahi thi maa ne wax karwaya hua tha kyon ki pair me 1 bhi baal nhi dikh rhe the bilkul clean dikh raha tha maa ki nighty bilkul tight thi life me pahli baar mujhe maa ko dekhkr ajeeb sa feel hua mujhe apne short me ajeeb sa mahsus ho raha tha..mai bus maa ko dekhe ja raha tha hosh

mujhe tab aaya jab maa ne kaha Ajay ab sone chale kafi raat ho gai hai beta aur hum so gaye mai kafi der tak maa ke bare me sochta raha aur mujhe mahsus hua mera lauda bilkut tight hai mere pant ke andr mujhe apne aap pe gussa bhi aa raha tha ki main apni maa ke bare me galat soch raha hu lekin mera mann mere kabu me nhi tha sayad maa so gai thi mai washroom gya aur life me pahli baar maa ke naam ki muthh mari aur itna sukun mila mai btaa nhi skta..Phir mai aakr so gya aur phir main utaa toh subah ho gai thi mai bathroom gya aur fresh hokar bahar se naasta laya phir maine aur maa ne nasta kia phir hum bahar gye dher sara shoping kia maa ne mere liye bhi shoping ki phir hum saam ko waps aa gye mai dekhne lga maa ne kyaa kyaa lia hai achank meri najr usme rakhe 1 paket pe padi maine socha isme kya hai aur kholne lga maine deka usme mat bras aur penty the mai panty hath me lekr dekhne lga bilkul soft sa mulyam panty thi mai bahoot haran tha ki maa itni morden aur short panty phnti h mai baar 2 palt ke panty ko dekh raha tha aur soch raha tha ye mere maa ki badi gaad ko kaise dhkti hoti tabi maa aa gai aur boli Ajay ye kya kr rhe ho mai bilkul dar gya.Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.Aur kuch bol bhi nahi paya maa ne kha wo tumare kaam ki nhi hai rakh do toh maine rakh dia phir hum raat me khakar sone chale gaye maa ne aaj black short nighty phni thi jiske back me zip lga tha mujhe tum baar baar maa ki penty yaad aa rahi thi aur mera lauda bilkul tight ho gaya tha mai soch raha tha kas 1 baar apne maa ko us panty me dekh pata mai kafi der tak sone ki koshish karta raha lekin baar baar maa ke badan aakho ke samne aa jata mujhse ab bilkul control nahi ho raha tha maine dekha maa gahri neebd me so rhi thi mera man hua q na maa ke badan pe hath rakha jayeLekin dar se himmat nahi ho rhi thi lauda ka bura haal tha maine bahoot himmat karke 1 hath maa ki kamar pe rakha kuch der aise hi rakhe raha aur phir maa se chipk ke let gya mera man tha ki ami ki nighty upar karu himmat krke thoda sa nighty upr kia toh maa ki mote 2 chikne ghangh dikhne lge maine apna 1 hath maa ki jhangh pe rakh dia ami ke gangh bilkul mulaym the aur bahoot soft mere lauda mano fat jayega aisa mahsus ho raha tha maine nighty aur upar kar di ab maa ki badi gaad bilkul mere samne thi maa ab bhi gahri need me thi maine maine apni pant utar di aur apna lauda panty ke upar se hi maa ki gaad ke bich rakh dia aur halka sa dbaaw dala toh lauda ka sufda gaad ki surakh me atak gya mai waisi hi lete raha maa ab bhi so rahi thi maine himmat krke nighty ki zip khol di maa ne bra phni thi mai bra ke upar se hi unke kele jaise tane huye choochi dbane lga aur lauda ko gaad ki surakh pe ragdne lga mujhe bahoot mzaa aane lga tbi maa ne karwat li

Uske baad Toh mai jhat se dur ho gaya maa uth ke bath gai mai sone ka natak krta raha mai dar se kaap raha tha maa ne meri taraf dekha aur apni nighty ki hook ko band ki aur so gai subah mai jaan bujhkr der tak soya raha soch raha tha maa kya bolengi phir maa ne uthaya boli aaj bahoot need aa rhi raat ko kam jgaa kro aur has di mai ne socha maa gussa nahi h sara din aise hi nikl gya raat ko mai aur ammy so gaye aaj mai maa ko chodna chahta kuch der baad jab lga maa so gai toh mai maa se chipk gya aur mai maa ki nighty upar krne lgaa aur mai ye dekhkr hairan tha maa ne penty nahi pahni thi maa ki badi chutad bilkul mere samne thi mera lauda apne kabu me nahi tha maine lauda ko maa ki gaand pe rakha,toh mujhe laga swarg me hu meri himat badh gai thi maine maa ki chut pe hath rakha toh wha bilkul b hairs nahi the maine mom ki nighty ki zip khol di Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.aur dekha mom ne aaj bra bhi nahi phna tha tha mai unke choochi maslne lga ab mujhse control nahi ho raha tha toh mera lund mom ki chut pe rakh dia aur 1 halka sa dhakaa mara toh lauda fisal gaya mom ki chut bahoot tight thi phir lauda pe thuk lga ke chut ke hole pe rakha aur jordar dhakaa mara mera aada lauda chut me chla gya aur maa ki chikh nikl gai phir mai ruka nahi aur aur agle hi jhtke me me pura lauda chut me tha phir mai andrr bahar kene laga mom waise hi leti rahi 15 min me maine apna sparm maa ki chut me hi chod dia . kaisi lagi meri mummy ki sex kahani .. ascha lage to share karo .. agar kisine meri mummy ke sath sex karna chahte ho to add karo Facebook.com/HeenaSharma

Apne chote bhai ke sath sex kiya

Ye bhai behan ki sex kahani 2016 ki hai. aaj main bataungi kaise bhai se chudwaya,maa aur papa out of station gaye the for buisness. main aur mera bhai room mein baithe the woh mobile pe game khel raha tha aur main bed par hi baithi thi aur Maine dip gala nighty pahni thi aur woh chori chori meri taraf dekh raha tha mujhe thoda ajeeb sa laga leking acha bhi lag raha tha. uske baad maine use kaha babu mere pair daba de Bahut dard ho raha hai usne ik dum se bola abho daba deta hu didi.Uski akhien jaise chamak uthi ho. Maine rajai le rakha tha aur wo pair dabane laga aur main wahi par let gai fir Maine kaha babu plz andar se daba de . Woh bola ok didi usne rajai ke andar hath dal ke pair dabane laga.mujhe thoda Aram ane laga aur nend bhi thodi der bad mujhe feel hua ki babu meri legs daba raha hai.meri ankh khuli Maine kaha pair daba sirf woh bola ok didi.


Ab mujhe nind nahi aa rahi thi woh baar baar pair ki taraf a raha tha meri akhien band thi fir woh thodi der bad ghutno ke upar se meri jaangh dabane laga. lekin Maine kuch nhi bola. magar meri penty gili ho rahi thi Maine control kiya ki yeh mera bhai hai.Fir ekdum usne apna hath meri panty pe rakh diya main jat se uth gai aur boli Kya kar raha hai babu woh bola didi sorry galati se ho Gaya main toh sirf apko sulane ki kosish kar rHa tha main chip ho kar let gai phir woh dabane laga uske baad thodi der bad fir usne meri panty pe hath rakha is baar Maine kuch nhi bola fir woh apna hath ragarne laga meri panty par.main pretent kar rahi thi ki main so rahi hu usne apna hath panty ke andar dala aur dusra hath mere Chuchi pe rakh diya meri halat kharab ho rahi thi main use rokhna chahti thi bit rok nhi pa rahi thi .kynki woh mera chota bhai hai.uske baad main ik dum uthi or chilai ki babu Sharam nhi ati main Teri behan hu iske muh par smile thi aur kehne laga didi tum bahut beautiful ho ho. Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.mujhe bahut gussa aya fir bola didi aapki body bahut sundar hai. tumhare Chuchi bahut hi ache lagte hain Maine gusse mein usse thapad laga diya usne mujhe pakad liya main uske chilai aur woh bola chup kar Randi bahar ke logo se chudwaa sakti hai aur mere se Kya problem hai. mera bhai wapis mujhe thapad Mara aur bed pe patak diya. aur bola aj toh tu chudegi Shradha. Main lagi aur boli plz babu main Teri behan hu aur woh bola toh main bhi behan chod hu.woh mere upar let gaya aur kiss karne laga.Uske baad maine apne bhai ko push karne ki kosish ki Lekin usme bahut zor tha. w bola sali Rand Rona band kar aur Maza le.usne apna lauda nikala aur mere mug mein dal diya main kamp uthi woh has raha tha 10 min mein usne mere muh mein apnaa pura paanii chhod diya. wo mujhe bhi thoda acha lag raha tha.fir usne mujhe kiss karni suru ki Maine bhi uska sath diya,Fir mera bahi mera Chuchi chusne laga paglo ke Tarah Maine kaha aram se babu plz main behn hu Teri pyar se woh bola chup kar saali ki aur usne itni love bites ki ki mere Chuchi lal ho gae aur meri awaz loud hoti ja rai thi main boli babuuuuuu plz mera bhai aram se Teri behan mar jaegi pyar se kar meri jaan wol bola haramjadi maar hi duga aj tuje…..meri chila uthi Aap ye kahani newhindisexstories.com paar paad rahe hai.jab usne mere Chuchi pe kata aaaah babu marrrr gai chudai kar de mujhe usne mujhe ek thappad jad diya aur aur bola chup saali aur meri chut chatne laga main to bas aah aah kar rahi thi, uss samay janant thi jab woh meri choot chat raha tha. uske baad kuchh der baad main jad gai.

Mera Bhai ik mint lagaya aur meri choot mein apna lauda dal diya aur zor zor se andar bahar karne laga mujhe bahut maza a raha tha main bol rai thi babu harami chod apni behan ko sale aur chod …uski speed aur yeh ho gai humne 20 min chudai ki aur woh jad Gaya.us din humne 5baar chudai ki ar uske baad mera mera sara sharir dukh raha tha aisa laga jaise meta rape hua ho but maza bahut aya mera bhai bahut hi wild hai mujhe usse chood ke achha lagaa.kaisi lagi chota bhai ke sath sex ki kahani.. ascha lage to share karo .. agar kisine meri chudai ki pyasi chut me 9 inch ka lund se chudai karna chahte ho to add karo Facebook.com/SwatiSharma

Chudai,chudai kahani,sex kahani,sex story,xxx story,hindi animal sex story,

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter