भाभी की प्यासी चूत की चुदाई

चुदाई कहानी, bhabhi ki chudai, हिंदी सेक्स कहानी, Chudai Kahani, 30 साल की सेक्सी भाभी को चोदा sex story, भाभी की प्यास बुझाई xxx kamuk kahani, भाभी ने मुझसे चुदवाया, bhabhi ki chudai story, भाभी के साथ चुदाई की कहानी, भाभी के साथ सेक्स की कहानी, bhabhi ko choda xxx hindi story, भाभी ने मेरा लंड चूसा, भाभी को नंगा करके चोदा, भाभी की चूचियों को चूसा, भाभी की चूत चाटी, भाभी को घोड़ी बना के चोदा, 8 इंच का लंड से भाभी की चूत फाड़ी, भाभी की गांड मारी, खड़े खड़े भाभी को चोदा, भाभी की चूत को ठोका,

दोस्तों मैं आज अपनी भाभी की चुदाई की सच्ची घटना के बारे में लिख रहा हूं। इस कहानी का शीर्षक है कविता भाभी की गरम चूत की चुदाई , मेरी भाभी का नाम कविता है। जो कि मेरे ताऊ के लडके की पत्नी है। मैंने कविता भाभी को उनकी शादी के एक साल बाद चोदा था। भाई की शादी दो साल पहले हुई। मेरी भाभी दिखने में गोरी है। पतली है और बूब्स भी मध्यम साइज के हैं। मेरे भाई बाहर रहते हैं। भाभी घर में अपनी सास के साथ रहती है।मैं भाभी से प्यार करता था। और उन्हें चोदना चाहता था। मैं भाभी से मजाक बहुत करता हूं और मजाक में ही कभी उन्हें किस करता तो कभी उनके बूब्स दबाता। भाई साल में एक बार घर आते हैं। और फिर एक महीने बाद जाते हैं। मेरा भाभी को देखकर चोदने का मन करता था। तो मैं उनके नाम की मुठ मारता था। एक दिन मैं उनके नाम की मुठ मार रहा था तो उन्हें पता चल गया। शायद उन्होंने मेरे मुंह से अपना नाम सुन लिया था। मैं डर गया कि कहीं भाभी किसी को बता न दे।
भाभी की प्यासी चूत की चुदाई
भाभी की प्यासी चूत की चुदाई

भाभी के नाम की मुठ इसलिए मैंने भाभी की चुदाई की प्लानिंग की। दोस्तों मैं आपको बता दूं कि मेरी भाभी एकदम टाइट कपडे पहनती है। चूडीदार सलवार और टाइप सूट। उसमें भाभी के बूब्स बहुत ही आकर्षक लगते हैं। मैं भाभी के बूब्स को दबाता ही रहता हूं। अब मैं आपको बताता हूं कि किस तरह मैंने भाभी की चुदाई की।एक दिन भाभी के घर पर कोई नहीं था ।भाभी की सास अपने मायके गई थी। और भाभी घर पे अकेली थी। मैंने मौके का फायदा उठाया और भाभी के यहां चला गया। भाभी ने मुझे बिठाया और पानी पिलाया।फिर भाभी चाय लाई और दोनों ने चास पी। ये चुदाई कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। भाभी को देखकर मेरा लंड खडा हो गया। पेंट फाडने के जैसे कडक हो गया था। मैं धीरे धीरे भाभी के करीब गया और भाभी से कहा कि आज आप बहुत सेक्सी लग रही हैं। भाभी हंस दी। फिर मैंने भाभी के बूब्स छू दिये तो वो समझ गई कि मैं उन्हें चोदना चाहता हूं। भाभी ने कहा कि आज घर में कोई नहीं है जो करना है करो। आप यह कहानी मस्ताराम.नेट पर पढ़ रहे है | मैं भाभी को किस करने लगा। और फिर भाभी के बूब्स दबाने लगा। भाभी उत्तेजित हो रही थी। मैंने भाभी को गोद में उठाया और बेडरूम में ले गया। फिर मैंने भाभी की सूट उतार दी लेकिन मैं सलवार नहीं उतार पाया क्योंकि वो बहुत टाइट था। भाभी ने उसे झट से उतार दिया। भाभी की गरम चूत का पानी पी लिया

अब भाभी मेरे सामने सिर्फ ब्रा और चड्डी में थी। ब्रा भी छत्तीस साइज की थी।   अब मैं भाभी के ब्रा और पैंटी भी उतार दिए। मैंने देखा कि भाभी के बूब्स एकदम गोल और गोरे थे सोचा भाई तो इन्हें बहुत चूसता होगा। और उन गोल गोल और गोरे बूब्स पर काले निप्पल उनकी शोभा बढा रहे थे। फिर मैंने भाभी की चूत देखी उस पर एक भी बाल नहीं था। मैंने कहा कि शेव करती हैं तो वो बोली अभी आये ही नहीं। मैं हैरान था क्योंकि उसके मुकाबले तो मेरे लंड की बहुत बडी झाडी है।अब मैं भाभी की गरम चूत में अंदर बाहर अंगुली करने लगा। और साथ ही बूब्स दबाने लगा इससे वो पूरी तरह उत्तेजित हो गई। अब मैं भी नंगा हो गया। और दोनों एक दूसरे के गुप्तांग चूसने लगे। मैंने भाभी को जोर से बाहों में जकड दिया और किस करने लगा। फिर हम अलग हुए। अब दोनों उत्तेजना में एकदम पागल थे।भाभी की चूत एकदम बहुत गीली हो चुकी थी।ये चुदाई कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। मैंने अपना लंड निकाला और भाभी की गरम चूत पर रख दिया और शुरू हो गया। मैंने भाभी की चूत में अचानक लंड का झटका दिया और सात इंच का लंबा मोटा लंड भाभी की चूत में पूरा समा गया। भाभी को दर्द हुआ और वो बोली उई मां मररर गईईईई मेरी चूत फाड दी।इतना बडा तो तुम्हारे भाभी का नहीं है। ऐसा भाभी ने कहा । मेरे जोर से प्रहार के कारण भाभी की चूत से खून आने लगा। लेकिन मैं धक्के जारी रखकर भाभी को चोद रहा था। आह आह उई उई और लंड से फच्च फच्च की आवाज आ रही थी। मैं अपना लंड भाभी की चूत में पूरा अंदर बाहर कर रहा था। अब भाभी का दर्द और खून दोनों कम हो गये। अब मैं स्पीड से भाभी को चोद रहा था। मैंने भाभी को बहुत टाइट जकडा था ताकि वो हाल डुल न सके।

भाभी को भी मजा आ रहा था और वो अब तक तीन बार झड चुकी थी। उसकी चूत पानी छोड रही थी। मेरा लंड भी अब माल उगलने वाला था तो मैंने भाभी को कहा कि इसे कहां डालूं तो वो बोली मेरी चूत में छोड दो। मैंने अपना सारा माल उनकी चूत में डाल दिया और झड गया।हम दोनों थक गये थे। और एक दूसरे से चिपके हुए थे। भाभी की गरम चूत खून से लाल थी। फिर मैंने भाभी को गोद में उठाया और बाथरूम में ले जाकर चूत का खून साफ कर दिया।भाभी के हर अंग कोमल था ।ये चुदाई कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। जब मैं उनहें नहलाते समय छू रहा था तो मानो मखमल हो एकदम मुलायम थी। नहाते हुए मैं उसके पुट्ठो पर चुंबन दे रहा था। इस प्रकार मैंने भाभी को चोदा भाभी मेरे लंड की दीवानी हो गई। और फिर उन्होंने  मुझसे कई वार अपनी बुर चुदवाई।कैसी लगी भाभी की चूत की चुदाई , अच्छा लगी तो जरूर रेट करें और शेयर भी करे ,अगर कोई मेरी भाभी की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे ऐड करो Facebook.com/Chudai ki pyasi bhabhi

1 comments:

Chudai,chudai kahani,sex kahani,sex story,xxx story,hindi animal sex story,

Delicious Digg Facebook Favorites More Stumbleupon Twitter