Hindi urdu sex story & चुदाई की कहानी

New hindi sex stories, pakistani hot urdu sex stories, chudai kahani, chudai ki xxx story, desi xxx animal sex stories, चुदाई की कहानियाँ, hindi sex kahani, सेक्स कहानियाँ, xxx kahani, चुदाई कहानी, desi xxx chudai, xxx stories sister brother sex in hindi, mom & son sex story in hindi, kamuk kahani, kamasutra kahani, hindi adult story with desi xxx hot pics

भाभी की चूत में अपना तगड़ा लंड डाल कर चोदा

भाभी की चूत की चुदाई Hindi sex kahani, भाभी की चुदाई hindi sex story, सेक्स कहानी, Ghodi bana kar piche se bhabhi ko choda, भाभी की प्यास बुझाई Chudai kahani, भाभी को चोदा Hindi story, bhabhi ki chudai हिंदी सेक्स कहानी, Jor jor se bhabhi chut mari, भाभी ने मुझसे चुदवाया Real kahani, भाभी के साथ चुदाई की कहानी, भाभी के साथ सेक्स की कहानी, bhabhi ko choda xxx hindi story, भाभी ने मेरा लंड चूसा, भाभी को नंगा करके चोदा, भाभी की चूचियों को चूसा, भाभी की चूत चाटी, भाभी को घोड़ी बना के चोदा, 8 इंच का लंड से भाभी की चूत फाड़ी, भाभी की गांड मारी, खड़े खड़े भाभी को चोदा, भाभी की चूत को ठोका,

भाभी की उम्र 24 है और उनका साईज 34-30-34 की है। हमारे परिवार मे 5 लोग रहते है।माॅ बाबूजी भैया भाभी और मै।पहले तो हम गाँव मे रहा करते थे लेकिन जब भैया को शहर मे नौकरी मीली तो वो भाभी को लेके शहर चले गए।फीर कुछ 1 साल बाद मै भी पढाई के लिए शहर चला गया भैया भाभी के पास।
बात कुछ 6 महिने पहले की है जब गरमी का मौसम था और मेरी छुट्टियां चल रही थी फीर एक दिन भैया ऑफीस गए थे और भाभी और मै घर बैठे बैठे बोर हो रहे थे तभी मै भाभी से बोला की क्योना कही घुमने चलने की योजना बनाए फीर भाभी खुश होके बोली खयाल अच्छा है।फीर रात को जब भैया घर आए तो भाभी ने भैया को मना लिया और फीर हम जगा के बारे मे सोचने लगे तभी मै बोल पडा की गोवा चले फीर भाभी ने भी बोला हा गोवा ही चलते है तो भैया भी मान गए और छुट्टी निकाली और रहने के लिए उनके शेठ के फ्लैट मे किया दुसरे दीन सुबह हमने जाने की सारी तैयारी करली और हम निकलने ही वाले थे की तभी भैया के ऑफीस से फोन आया की उनको एक अर्जंट मीटिंग अटेंड करनी है ये बात सुनके भाभी नाराज होगई तभी भैया बोले की तुम दोनो आगे चलो मै मीटिंग अटेंड करके कल आजाऊंगा और घर की चावीया भी दी फीर मै और भाभी निकल गए। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। शाम को 4बजे हम गोवा स्टेशन पर पहुँच गए। वहाँ से हमने टॅक्सी ली और हम सीधा फ्लैट पर पहूंच गए बाहर से घर बहुत बडा दीख रहा था। हमने गेट खोला औल अंदर गये देखा की आंगन मे एक स्विमिंग पुल था। फीर हमने घर मे प्रवेश कीया थोडी देर आराम कीया फीर भाभी बोली की चलो थोडा घर देख लेते है तो घर मे कीचन हाॅल निचे दो बेडरूम और सेकेंड फ्लोअर पर दो बेडरूम थे फीर हमने चेंज करलिया तबतक शाम के 7.30 बज चुके थे बहुत थके हूए थे ईसलिए हाॅटेल से खाना मंगवाया और खाना खाके सोगए।

सुबह सात बजे भाभी ने मझे जगाया और वो चली गई फीर मै उठकर नहाधोकर रूम से बाहर हाॅल मे आगया भाभी कीचन मे थी फीर मै भी चाय लेने कीचन मे गया और मैने भाभी को देखा तो मेरे तो होश ही उड गए भाभी ने सिर्फ पेटीकोट पहना था जो घुटनों से भी उपर था अभितक भाभी ने मुझे देखा नही था तो मै बिना आवाज कीए वापस हाॅल मे आकर बैठ गया। मैने पहली बार भाभी को ईस तरहा दैखा था मै बहुत बेचैन हो रहा था मन मे गंदे गंदे खयाल आरहे थे तभी भाभी चाय लेकर आई और मेरे साथ इस तरहा बैठी की रोज मेरे साथ ऐसेही रहती हो बेशर्म की तरहा। ना चाहते हुए भी मेरी नजरे भाभी की नंगी टांगो पर जारही थी औल भाभी ने भी इसे नोटिस कर लिया था फीर भाभी खाना बनाने चली गई। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। फीर 11 बजे हमने खाना खा लिया खाना खाते समय भी मै भाभी की गोरी गोरी टांगे ही देख रहा था फीर भाभी बोली की चलो बीच पे चलते है और हम अपने अपने रूम मे चले गए चेंज करने के लिए कुछ देर बाद मै चेंज करके हाॅल मे आके बैठ गया थोडी देर भाभी भी आगई और मेरे सामने खडी होके बोली की कैसी लग रही हुं मैने जब भाभी की तरफ देखा तो ना चाहते हुए भी मेरे मुँह से निकला की सेक्सी लग रही हो क्योंकि भाभी ने एकदम टाईट बीकीनी पहनी थी जो ईतनी छोटी थी की उनके मोमे आधे से जादा दीख रहे थेऔर भाभी की गांड भी पुरी तरहा दीख रही थी मेरा तो एक झटके मे खडा होगया फीर भाभी ने कव्हर अप पहन लिया और निकलने लगे तभी हमे याद  आया की घर के आंगन मे बाईक

और कार भी है और भैया ने कहा था हम उस घर की हर चीज ईस्तमाल कर सकते है फिर भाभी ने कहा की चलो बाईक से चलते है फर हम बैईक लेके चले गए। भाभी बाईक पे ईस तरहा बैठी थी जैसे अपने बाॅयफ्रेंड के साथ बैठी हो एकदम से चिपक केमेरे पीठ पे अपने मोमे दबाके पहले तो मुझे भाभी का बरताव कुछ अच्छा नही लग रहा था लेकीन अब धीरे धीरे मजा आने लगा था। कुछ दो बजेतक हमने पानी मे मस्ती की और हमवापस घर आए और स्विमींग पुल की तरफ चले गे रुम स्वीमींग को थोडी देर फीर भाभी बोली क्या तुम मेरी बाॅडी मसाज कर दोगे तो मैने खुशी से की क्यो नही सेक्सी भाभी भाभी को मेरा ऊन्हे सेक्सी बोलना अच्छा लग रहा था फीर मै जाके तेल लाया और भाभी पुल के कीनारे पेट के बल लेटी हुई थी फीर मैने भाभी की पीठ पर थोडा तेल डाला और उनकी पीठ को मसलने लगा आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। लेकीन उनके ब्रा का नाडा बहुत परेशान कर रहा था बार बार हात मे अटक रहा था और भाभी को ईसका पता चला तो कछ देर बाद भाभी खुद बोली की अगर परेशानी होरही है तो नाडा खोल दो ये बात सुन के हैरान रह गया खुश भी उतना ही हुवा और नाडा खोल के साईड मे कर दिया और जोर जोर से मसाज करने लगा और थोडी देर बाद पैरो की थोडी मसाज की और भाभी से कहा की होगया तो भाभी बोली की अरे अभी गांड की मसाज बाकी है ये बात सुनकर मै बहुत ही सेक्सी मुड मे आगया और भाभीसे बीना पुछेही पेंटी का नाडा खोल दिया औल भाभी की गांडपर तेल डाला और जोर जोर से मसलने लगा

और बीच बीच मे गांड मे उंगली भी डालने लगा फीर भाभी अचानक ही पलट गई और ब्रा पेंटी का नाडा खुला होने की वजह से वो निचे ही रह गया और भाभी पुरी नंगी होगई मै एकटक देखता ही रह गया फीर भाभी बोली की देख क्या रहे हो मसाज नही करनी है क्या तो मैने कहा की हा हा करनी तो है और उनके मोटे मोटे मोमो पर तेल डाला और मसलने लगा दबाने लगा यार क्या मजा आरहा था मोमे थोडा मसलने के बाद मै उनके पेटसे कमर से होते हुए जांघोतक पहुँच गया और मेरी नजर उनके चुतपर पडी क्या चुत थी यारों एकदम गोरी और चीकनी एक भी बाल नही था चुत पे एकदम साफ थी शायद सुबह ही साफ की थी फीर मैने उनकी जांघो की मसाज करने लगा और एक हातसे चुत को सहलाने लगा फीर मैने अपने दोनो हातोसे भाभी की चुत को फैलाया और अपनी उंगली भाभी की चुत मे डालने ही वाला था तभी भाभी का फोन बजा भैया का था भाभी ने फोन उठाया और स्पीकर ऑन करके वही रख दीया भैया कह रहे थे की उनको अर्जंटली सिंगापुर जाना है एक महिने के लिए तो भाभी नाराज होगई तो आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। भैया ने हा की नाराज मत हो राहुल है ना तुम्हारे साथ तुम दोनों गोवा मे मजे करो और फोन रख दिया फीर भाभी उठके नंगी ही अंदर चली गई मै बहुत खुश था। फीर थोडी देर बाद मै भी अंदर चला गया मैने देखा की भाभी अपने बेडरूम मे थी मै उनकी बेडरूम की तरफ और देखा की भाभी गांड फैलाकर पेटके बल सोरही थी मन मे विचार आया की अभी जाकर साली की गांड मार दु लेकिन मै अपने भी अपने रूम मे जिकर नंगे बेडपर लेटकर मुठ मारने लगा ..

और वही सोगया फीर कुछ शाम के 7.00 बजे भाभी ने मुझे उठाया मै उठके देखा की मै नंगा हु और भाभी मेरे पास बैठी है मै बहुत घबरा गया लेकिन मैने भाभी को ठीकसै देखा की एक नेटवाला पेटीकोट पहना था जीसमे से अंदर का उनका सेक्सी बदन पुरा दिख रहा था फीर मै भाभी से बोला की गरमी बहूत लग रही थी ईसलिए मैने कपडे निकाल दिए भाभी बोली कोई बात नही यहाँ तुम्हें देखने वाला मेरेशिवा कोई और नही है और जाते जाते धीरे से बोली की तुम कुछ भी करोगे तो मुझे चलेगा फीर मै समज गया की भाभी भी चुदना चाहती है लेकिन कह नहि पा रहि है फीर मै फ्रेश होकर बाहर आया भाभी मेरा वेट कर रही थी भाभी बडी सेक्सी मुड मे थी लेकिन मै समज नही रहा था शुरू कहा से करू फीर हमने खाना खाया और सोगये। आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। अगले दीन सुबह उठकर मैने सोचलिया आज भाभी को चुद के ही रहुगा और नंगा ही रूम से बाहर आया भाभी कीचन मे नही थी तच मै उनके रूम की तरफ चला तो भाभी नंगी ही थी और अपनी टांगे फैलाकर बेडपर झुक कर कुछ कर रही थी मैने भाभी को good morning बोला तो भाभी ने same to you कहा फीर मैने पीछे से जाके लंड का सुपाडा भाभी की चुत मे घुसाया भाभी कुछ नही बोली मै समझ गया की रास्ता खुला है और भाभी की कमर कसकर पकडके एक जोर का झटका मारा और मेरा का मोटा लंड भाभीकी कसी चुत मे घुसेड दिया तो भाभी जोर से चीख उठी और बोली की बहनचोद साले चुत फाड देगा क्या मेरी धीरे से कर ना भाभी के मुह से गालीया सुनकर मैने अपना लंड बाहर निकला और एक बार फीर से एक जोर का झटका मारा और लंड को अंदर बाहर करने लगा

भाभी जोर जोर से चीख रही थी गाली दे रही थी लेकिन मै रुका नही कुछ 5 मिनट बाद भाभी को भी मजा आने लगा वो मेरा साथ देने लगी कहने लगी चुद लौडे चुद अपनी भाभी और जोर से चुद तो मैने अपनी स्पीड बढाई और जोर जोर से चुदने लगा फीर ईस दौरान भाभी एक बार झड चुकी थी फीर मैने भाभी को बेडपर सीधा लीटा के चुदने लगा कुछ 10 मिनट बाद मै झडने वाला था तो मैने भाभी से बोला तो भाभी ने कहा की मेरै दर ही झड दो भरदो मुझे अपने विर्य से तो मैने अपना सारा पाणी भाभी की चुत मे छोड दिया और वैसेही भाभी के उपर पडा रहा फीर कुछ देर बाद भाभी ने मेरे होटो पे कीस कीया और बोलीकी वाह दैवर जी आपने तो कमाल कर दिया मै तडप रही थी ऐस जोरदार चुदाई के लिए कीतने दीनो से फीर मै उनके मोमे सहलाते हुए बोला की क्यो भैया आपको कभी चुदते नही है क्या तो भाभी बोली की तेरे भैया को काम से फुरसत होगी तब ना मुझे चुदेंगे और कभी फुरसत मीली भी तो 2 मिनट मेही झड जाते है आप ये कहानी आप निऊ हिंदी सेक्स स्टोरिज़ डॉट कॉम पर पड़ रहे है। और मै प्यासी की प्यासी ही रह जाती हु और भाभी नाराज हो गई तो मैमऐने भाभी से कहा की फीकर मत करो भाभी आपका ये देवर आजके बाद कभी भी प्यासी रहने नही देगा और उनके होट चुसने लगा कुछ देर होट चुसने के बाद भाभी मेरा लंड पकड के चुसने लगी फीर मैने भी चुत चुसी ईसी तरहा दीनभर हमने दो बार और चुदाई की और रात मे खाना खाने के बाद चुदाई करते करते सो गए।कैसी लगी हम डॉनो  देवर और भाभी की सेक्स स्टोरी , रिप्लाइ जररूर करना , अगर कोई मेरी भाभी की चूत की चुदाई करना चाहते हैं तो उसे अब जोड़ना Facebook.com/AshaKumari

The Author

अन्तर्वासना हिंदी सेक्स कहानियाँ

Hindi urdu sex story & चुदाई की कहानी © 2018 Frontier Theme